ANALYSIS: #MeToo पर एमजे अकबर के खिलाफ खुल कर सामने क्यों नहीं आ रही कांग्रेस?

यौन शोषण के खुलासे में फंसे एमजे अकबर पर उनकी पार्टी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ही मोर्चा खोल दिया है. लेकिन, अभी तक न तो कांग्रेस और न ही पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की तरफ से इस मामले में कोई बयान आया है.

News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 11:23 PM IST
ANALYSIS: #MeToo पर एमजे अकबर के खिलाफ खुल कर सामने क्यों नहीं आ रही कांग्रेस?
एमजे अकबर (फाइल)
News18Hindi
Updated: October 12, 2018, 11:23 PM IST
(पल्लवी घोष)

देश भर में #MeToo कैंपेन के तहत यौन शोषण की शिकायतें सामने आ रही हैं. बॉलीवुड की जानी-मानी शख्सियतों के बाद इसमें मोदी सरकार में मंत्री एमजे अकबर का नाम भी शामिल हो गया है. केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर के खिलाफ लगभग 10 पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है. इसके बाद उनपर इस्तीफे का दबाव बढ़ गया है. लेकिन, विपक्ष की सबसे बड़ी पार्टी कांग्रेस इस मामले के खिलाफ अभी खुलकर सामने नहीं आई है.

बॉलीवुड #MeToo की गिरफ्त में, लेकिन 'बोल्ड' भोजपुरी सिनेमा में खामोशी

दरअसल, यौन शोषण के खुलासे में फंसे एमजे अकबर पर उनकी पार्टी के सांसद सुब्रमण्यम स्वामी ने ही मोर्चा खोल दिया है. लेकिन, अभी तक न तो कांग्रेस और न ही पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी की तरफ से इस मामले में कोई बयान आया है. गुरुवार को जब कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी से #MeToo आरोपों से घिरे विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर के बारे में सवाल पूछा गया, तो वो इसका जवाब देने से बचते रहे.

#MeToo: कांग्रेस ने की मांग- यौन उत्पीड़न के आरोपों पर जवाब या फिर इस्तीफा दें अकबर

हालांकि, राहुल ने कहा कि #MeToo गंभीर और संवेदनशील मुद्दा है. इस पर हम अलग से बात करेंगे. हमारी पार्टी इस मामले को लगातार उठा रही है. ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि जो कांग्रेस मोदी सरकार को जनता से जुड़े लगभग हर मुद्दे पर घेरती है, वह पार्टी यौन शोषण जैसे संवेदनशील मुद्दे पर ऐसे चुप्पी क्यों साधी हुई है?


कांग्रेस के अंदरूनी सूत्रों की मानें तो, पार्टी अभी राफेल डील पर ही फोकस करना चाहती है. ऐसे में राहुल गांधी का #MeToo या एमजे अकबर पर कुछ बोलना पार्टी के बिल्कुल खिलाफ जाता.
Loading...
#Metoo: यौन उत्पीड़न के आरोप पर गायक रघु दीक्षित ने कहा -'फिर माफी मांग लूंगा'

हालांकि, कांग्रेस ने #MeToo कैंपेन पर मोदी सरकार पर कुछ हमले किए हैं, लेकिन ये हमले इतने हल्के थे कि इनकी आवाज सुनाई ही नहीं पड़ी. राहुल गांधी ने #MeToo कैंपेन के समर्थन में ट्वीट किया है और उन्होंने यौन शोषण के आरोपों का सामना कर रहे केंद्रीय विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग भी की.

मोदी सरकार के जिस मंत्री पर यौन शोषण के 10 शिकायतें हो, उनके खिलाफ कांग्रेस को खुल कर सामने आना चाहिए था, लेकिन कांग्रेस अगर डिफेंसिव मोड में नहीं है, तो ऑफेंसिव मोड में भी नहीं है. क्योंकि, एमजे अकबर को लेकर कांग्रेस मोदी सरकार को आसानी से टारगेट कर सकती है. लेकिन, ऐसा नहीं हो रहा.


विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर रविवार को नाइजीरिया दौरे से भारत लौट रहे हैं. सूत्रों के मुताबिक, अपना नाम साफ न होने तक अकबर बीजेपी से भी इस्तीफा दे सकते हैं.

बता दें कि महिलाओं पर यौन शोषण के खिलाफ शुरू हुए #MeToo कैंपेन के तहत सामने आ रहे मामलों की जन सुनवाई के लिए बहुत जल्‍द कमिटी गठित की जाएगी. महिला व बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने शुक्रवार को इसकी जानकारी दी. उन्होंने कहा कि रिटायर्ड जजों की चार सदस्‍यीय कमिटी इन सभी मामलों की सुनवाई करेगी.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर