क्या है वजह, जिसके कारण दिल्ली और महाराष्ट्र में तेजी से बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले

दिल्ली में मामलों को तेज़ी से फैलाने में यूके वेरिएंट और साउथ अफ्रीकन वेरिएंट के साथ डबल म्यूटेंट की भी भूमिका है.

दिल्ली में मामलों को तेज़ी से फैलाने में यूके वेरिएंट और साउथ अफ्रीकन वेरिएंट के साथ डबल म्यूटेंट की भी भूमिका है.

Coronavirus Case updates: कोरोना वायरस की दूसरी लहर से सबसे ज्यादा महाराष्ट्र और दिल्ली के लोग प्रभावित हुए हैं. 15 हजार से ज्यादा जीनोम सीक्वेंसिंग के आधार पर दिल्ली की चिंता दो विदेशी वेरिएंट के अलावा डबल म्यूटेंट ने भी बढ़ा रखी है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 23, 2021, 8:30 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. भारत में कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर आ गई है. कोरोना के मामलों को बढ़ाने (Coronavirus Second Wave) में अलग-अलग वेरिएंट और डबल म्यूटेंट की भी भूमिका है. कोरोना वायरस की दूसरी लहर से सबसे ज्यादा महाराष्ट्र और दिल्ली के लोग प्रभावित हुए हैं. 15 हजार से ज्यादा जीनोम सीक्वेंसिंग के आधार पर दिल्ली की चिंता दो विदेशी वेरिएंट के अलावा डबल म्यूटेंट ने भी बढ़ा रखी है.

वहीं, महाराष्ट्र में तीनों विदेशी वेरिएंट के अलावा डबल म्यूटेंट की भी मौजूदगी है. आइए जानते हैं आखिरकार क्या है वो वजह जिसके कारण सिर्फ महाराष्ट्र और दिल्ली में ही कोरोना के मामले तेजी से बढ़ रहे हैं.

दिल्ली में कौन से वेरिएंट के कितने फिसदी मामले

दिल्ली में मामलों को तेज़ी से फैलाने में यूके वेरिएंट और साउथ अफ्रीकन वेरिएंट के साथ डबल म्यूटेंट की भी भूमिका है. इसके अलावा और वजहों को लेकर शोध खोज जारी है.
- सामान्य मौजूद वायरस से यूके वेरिएंट का ट्रांसमिशन 70% और साउथ अफ्रीकन का 50% ज्यादा है.

- दिल्ली में 415 यूके वेरिएंट, 23 साउथ अफ्रीकन वेरिएंट और 76 डबल म्यूटेंट के सैंपल मिले हैं.

- दिल्ली में मार्च के दूसरे हफ्ते में सैंपल्स में यूके वेरिएंट  28% था मार्च के आखिर में ये 50% से ज्यादा हो गया.



सीएसआईआर के महानिदेशक डॉ. शेखर मांडे ने बताया कि अगर म्यूटेशन हो जाए तो कभी कभी क्या होता है की वायरस तेजी से अन्दर आ सकती है. म्यूटेशन से अंदर आने की प्रक्रिया तेज कम हो सकती है. उन्होंने कहा कि आज के वक्त में हर किसी को ऐसा लग रहा है कि वैक्सीन इतनी कारगर साबित नहीं होगी, लेकिन ऐसा सोचना गलत है. डॉ. शेखर मांडे ने कहा कि भारत में बनी दोनों ही वैक्सीन अच्छी है और कोरोना के दोनों म्यूटेशन पर कारगर है.

 

ये भी पढ़ेंः- 11 से 15 मई के बीच चरम पर होगी कोरोना की दूसरी लहर, देश में होंगे 35 लाख एक्टिव केस, IIT वैज्ञानिकों का अनुमान



क्या है महाराष्ट्र के हालात?

दिल्ली के अलावा बात महाराष्ट्र की जाए तो यहां 64 सैंपल में यूके, 6 में साउथ अफ्रीकन, 1 में ब्राजीलियन वेरिएंट के अलावा डबल म्यूटेंट 427 सैंपल्स में पाए गए हैं. महाराष्ट्र में 50% से ज्यादा सैंपल में डबल म्यूटेंट की मौजूदगी की बात दिखी है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज