Home /News /nation /

भारत पर हमले के लिए पाकिस्‍तान ने क्‍यों चुना राजस्‍थान का लोंगेवाला पोस्‍ट, पढ़ें बड़ी वजह

भारत पर हमले के लिए पाकिस्‍तान ने क्‍यों चुना राजस्‍थान का लोंगेवाला पोस्‍ट, पढ़ें बड़ी वजह

Indo-Pakistan War 1971: बांग्‍लादेश मुक्ति संग्राम में मुक्ति वाहिनी और भारतीय सेना के साथ ने पाकिस्‍तान को बड़ा झटका दिया था. पूरी ताकत लगाने के बावजूद पाकिस्‍तान पूर्वी क्षेत्र में मुक्ति वाहिनी का कुछ नहीं बिगाड़ पा रहा था. मुक्ति वाहिनी और भारतीय सेना के साथ को कमजोर करने के लिए पाकिस्‍तान ने 1971 के भारत-पाक युद्ध का आगाज किया था.

अधिक पढ़ें ...

Battle of Longewala: लोंगेवाला पोस्‍ट के रास्‍ते भारत पर हमले की साजिश पाकिस्‍तान ने बहुत सोच समझ कर रची थी. हमले के लिए लोंगेवाला पोस्‍ट का चुनाव पाकिस्‍तान ने दो वजहों से किया था. पहली और मूल वजह, भारतीय सेना को युद्ध में उलझाकर पूर्वी क्षेत्र में चल रहे बांग्‍लादेश मुक्ति संग्राम को कमजोर करना था. वहीं हमले के लिए लोंगेवाला पोस्‍ट का चुनाव पाकिस्‍तान ने अपने एक डर की वजह से किया था.

दरसअल, पाकिस्‍तान को डर था कि वह पंजाब के रास्‍ते भारत पर हमला करता है तो भारतीय सेना राजस्‍थान सीमा से सटे रहीम खान बेस पर कब्‍जा कर कराची जाने वाली रेलवे लाइन को अपने नियंत्रण में ले सकती है. यदि ऐसा हुआ तो सिंध में पाकिस्‍तानी सेना को मिलने वाली सैन्‍य रसद आपूर्ति ठप्‍प हो जाएगी, जो युद्ध में हार का बड़ा कारण भी बन सकती है. इसी डर से पाकिस्‍तान ने भारत पर हमले के लिए लोंगेवाला पोस्‍ट का चुनाव किया.

यह भी पढ़ें: Indo-Pak War 1971: पूर्वी पाकिस्‍तान का वह घटनाक्रम जो 1971 के भारत-पाक युद्ध का बना कारण

जैसलमेर पर कब्‍जा करने की योजना बना रहा था पाकिस्‍तान
प्रभात प्रकाशन की पुस्‍तक पराक्रम में लेखक दिनेश कांडपाल ने लिखा है कि पाकिस्‍तान लोंगेवाला को बेस बनाकर जैसलमेर में कब्‍जा करने की योजना बना रहा थ्‍ज्ञा. उसने अपनी सेना की टुकडि़यों को इस तरह से बांट दिया कि लोंगेवाला पर कब्‍जे के बाद दूसरी टुकडिंयां जैसलमेर के लिए कूच कर सकें. पाकिस्‍तानी सेना लोंगेवाला, रामगढ़ और जैसलमेर पर कब्‍जा करके उस महत्‍वपूर्ण हिस्‍से व सड़कों पर अपना अधिकार चा‍हती थीं, जो भारतीय सेना की सप्‍लाई चेन होती है. इन्‍हीं सड़कों के जरिए भारतीय सैनिकों की आवाजाही और साजो सामान पहुंचाया जाता था.

यह भी पढ़ें: Indo-Pak War 1971: 2 हजार पाक सैनिकों को धूल चटा 120 भारतीय जांबाजों ने लोंगेवाला को बनाया दुश्‍मन की ‘कब्रगाह’

पाकिस्‍तानी खु‍फिया एजेंसियों ने कराया भारतीय सेना का फायदा
इस युद्ध में पाकिस्‍तानी खुफिया एजेंसियों की नाकाबलियत ने भारतीय सेना के लिए बेहद फायदेमंद साबित हुई. दरअसल, पाकिस्‍तान एजेंसियों ने अपनी सेना को यह जानकारी दी थी कि लोंगेवाला पोस्‍ट पर बीएसएफ के चंद जवान ही तैनात हैं. इस पोस्‍ट को आसानी से कब्‍जा कर बेस में तब्‍दील ि‍कया जा सकता है. पाकिस्‍तानी सेना लोंगेवाला पोस्‍ट पर बेस बनाने में सफल होती है तो रामगढ़ और जैसलमेर पर आसानी से कब्‍जा किया जा सकता है. पाकिस्‍तान की यही गलत जानकारी ने 1971 के भारत-पाकिस्‍तान युद्ध के रुख को पलट दिया था.

Tags: Indian army, Indian Army Pride, Indian Army Pride Stories, Indo-Pak War 1971

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर