बीजेपी के नए अध्यक्ष जेपी नड्डा ने हर जिम्मा किया है पूरा, पीएम नरेंद्र मोदी को वर्षों से रहा है भरोसा

गृह मंत्री अमित शाह और जेपी नड्डा की फाइल फोटो

जेपी नड्डा (JP Nadda) अब बीजेपी (BJP) के नS राष्ट्रीय अध्यक्ष हैं. उन्होंने अमित शाह की जगह ली है. जानें क्यों पीएम नरेंद्र मोदी और अमित शाह ने नड्डा पर भरोसा जताया.

  • Share this:
    नई दिल्ली. भारतीय जनता पार्टी (BJP) के नए राष्ट्रीय अध्यक्ष अब जगत प्रकाश नड्डा (Jagat Prakas h Nadda) हैं. रविवार को नड्डा ने अमित शाह की जगह ली. भाजपा के अध्यक्ष पद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) और शाह ने नड्डा पर भरोसा जताया. लेकिन इसकी वजह क्या है? दरअसल, साल 1998 में हिमाचल प्रदेश के विधानसभा चुनाव के दौरान बीजेपी ने बतौर महासचिव नरेंद्र मोदी को राज्य भेजा. इस दौरान राज्य में कांग्रेस (Congress) की सरकार थी और नेता विपक्ष जगत प्रकाश नड्डा थे. एक साथ काम करते हुए नड्डा और मोदी ने विधानसभा चुनाव में बीजेपी को 9 से 31 की संख्या तक पहुंचा दिया.

    द इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के अनुसार बीजेपी के सूत्रों ने बताया कि नड्डा, अमित शाह की पहली पसंद नहीं थे. नड्डा के समर्थन में खुद प्रधानमंत्री मोदी थे. साथ ही नड्डा की छवि ने भी इसमें मदद की.  पार्टी के नेता बताते हैं कि भाजपा ने उन्हें जो भी भूमिका सौंपी है, वह उस पर हमेशा खरे उतरे हैं. सूत्रों का कहना है कि अब जब नड्डा के हाथ में औपचारिक रूप से पार्टी की बागडोर है, तो यह देखना दिलचस्प होगा कि आने वाले दिनों में वह भाजपा में तीसरे पॉवर सेंटर रूप में कैसा काम कर पाएंगे.

    bjp

    नड्डा पर थी यूपी की जिम्मेदारी
    नड्डा को शाह ने उत्तर प्रदेश का प्रभारी बना कर भेजा था, जहां से पार्टी ने ना सिर्फ विधानसभा चुनाव में जीत दिलाई, बल्कि लोकसभा में भी 80 में से 62 सीटें मिलीं. इससे पहले नड्डा आरएसएस नेता और संयुक्त महासचिव सौदान सिंह के साथ ही काम कर चुके हैं. तब बीजेपी ने छत्तीसगढ़ में हारी हुई बाजी को जीत में बदल दिया. साल 2014 के लोकसभा चुनाव में भी नड्डा की अहम भूमिका थी, जिसके चलते उन्हें पहली मोदी कैबिनेट में कैबिनेट मंत्री का पद मिला.

    नड्डा पटना विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान एबीवीपी में शामिल हुए. कानून में डिग्री हासिल करने वाले नड्डा 1985 और 1989 के बीच ABVP के राष्ट्रीय महासचिव बने. दिल्ली में एबीवीपी के संगठन सचिव के रूप में नड्डा ने दिल्ली विश्वविद्यालय और जेएनयू में संगठन की जगह तैयार की. बाद में वह BJYM में शामिल हो गए, और 1991-93 के बीच मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बना रहे. इसी क्रम में वह धीरे-धीरे वह भाजपा में चले गए. साल 1993 में, उन्होंने हिमाचल में विधायक चुनाव जीता और अगले वर्ष भाजपा के विधायक दल के नेता बनाए गए. 1998 में, तीन साल बाद उन्हें राज्य का स्वास्थ्य मंत्री नियुक्त किया गया था.



    ये भी पढ़ें- जेपी नड्डा की ताजपोशी: धूमल से ‘सियासी’ तकरार ने नड्डा को बनाया BJP का राष्ट्रीय अध्यक्ष!

    जब स्कूल के अपग्रेडेशन मुद्दे पर जेपी नड्डा ने किया आंदोलन और पुलिस को चलानी पड़ी थीं गोलियां

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.