होम /न्यूज /राष्ट्र /

प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर पर क्यों धीमी पड़ी टीकाकरण की रफ्तार? AHPI ने बताई वजह

प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर पर क्यों धीमी पड़ी टीकाकरण की रफ्तार? AHPI ने बताई वजह

भारत में कोरोना टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी को की गई थी.  (File pic)

भारत में कोरोना टीकाकरण की शुरुआत 16 जनवरी को की गई थी. (File pic)

AHPI के मुताबिक उसने 70 प्राइवेट अस्पतालों का सर्वे किया है, जिसमें पाया गया है कि छोटे अस्पतालों को वैक्सीन नहीं मिल पा रही है. सर्वे में दावा किया गया है कि 77 फीसदी अस्पतालों ने कहा कि उन्हें वैक्सीन टाइम पर नहीं मिल पा रही है.

अधिक पढ़ें ...
नई दिल्ली. केंद्र सरकार ने प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर्स पर वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) की धीमी रफ्तार को लेकर चिंता जाहिर की है. सरकार द्वारा चिंता जाहिर करने के बाद निजी अस्पतालों की संस्था AHPI यानी एसोसिशन ऑफ हेल्थकेयर प्रोवाइडर्स ऑफ इंडिया ने एक सर्वे का हवाला देते हुए कहा कि वैक्सीन की शॉर्टेज और नोडल ऑफिसर वैक्सीनेशन की धीमी रफ्तार का कारण है. केंद्र ने धीमे वैक्सीनेशन के लिए 15 राज्यों को आगाह भी किया है, लेकिन AHPI ने एक सर्वे के माध्यम से राज्य सरकारों से मदद न मिलने की बात कही है.

दरअसल, 21 जून से वैक्सीन की रफ्तार तेज करने के लिए केंद्र सरकार ने नियमों में बदलाव किया, लेकिन पाया जा रहा है कि जो रफ्तार होनी चाहिए वो नहीं हो पा रही है. केंद्र सरकार ने समीक्षा की तो पाया कि 15 राज्यों में प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर्स पर लोगों को वैक्सीन देने की रफ्तार स्लो है. इन 15 राज्यों में उत्तर प्रदेश, मध्य प्रदेश, राजस्थान, ओडिशा, तेलंगाना, अरुणाचल प्रदेश, कर्नाटक, केरल, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, गुजरात, पश्चिम बंगाल, दिल्ली, पंजाब और हरिय़ाणा शामिल हैं.

छोटे अस्पतालों के पास नहीं है वैक्सीन
AHPI के मुताबिक उसने 70 प्राइवेट अस्पतालों का सर्वे किया है, जिसमें पाया गया है कि छोटे अस्पतालों को वैक्सीन नहीं मिल पा रही है. सर्वे में दावा किया गया है कि 77 फीसदी अस्पतालों ने कहा कि उन्हें वैक्सीन टाइम पर नहीं मिल पा रही है, 41 फीसदी अस्पतालों ने जवाब दिया कि उनके इलाके में राज्य सरकार की तरफ से नोडल ऑफिसर की नियुक्ति नहीं की गयी है. 39 फीसदी अस्पतालों ने कहा कि नोडल ऑफिसर तो है लेकिन उनसे कोई मदद नहीं मिल रही है.

वहीं इस पूरे मामले पर एएचपीआई के महानिदेशक डॉ. गिरिधर ग्यानी का कहना है, 'इसके पीछे स्टेट गवर्नमेंट दिक्कत कर रही है या पीछे से सप्लाई नहीं आ रही है ये हम नहीं बता सकते हैं. हम वैक्सीनेशन के मामले में तत्पर हैं अगर हमें वैक्सीन मुहैया कराई जाए.'

अब तक कितने लोगों का वैक्सीनेशन?
स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों के अनुसार देश में अब तक कुल 39 करोड़ 53 लाख 43 हजार 767 लोगों को वैक्सीन लगाई जा चुकी है. उत्तर प्रदेश में सबसे अधिक 3 करोड़ 95 लाख 20 हजार 85 लोगों का टीकाकरण किया गया है जबकि 3 करोड़ 82 लाख 68 हजार 323 टीके लगाकर महाराष्ट्र दूसरे नंबर पर कायम है.

ज्यादा वैक्सीनेशन वाले राज्यों में तीसरे नंबर पर गुजरात है. यहां अभी तक 2 करोड़ 87 लाख 62 हजार 502 डोज लगाए गए हैं. वहीं चौथे नंबर पर राजस्थान का है. यहां 2 करोड़ 75 लाख 622 टीके लगाए गए हैं. वहीं कर्नाटक 2 करोड़ 66 लाख 14 हजार 608 डोज के साथ पांचवें नंबर पर कायम है.undefined

Tags: Corona vaccine, Corona Vaccine in India, Corona vaccine news, Corona Vaccine Update, Coronavaccine

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर