डीएम की खुदकुशी: पैसे, ओहदे वाले स्‍वीकार नहीं करते कि उनमें कुंठा है, इसलिए...

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: August 12, 2017, 3:43 PM IST
डीएम की खुदकुशी: पैसे, ओहदे वाले स्‍वीकार नहीं करते कि उनमें कुंठा है, इसलिए...
प्रतीकात्मक तस्वीर.
ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: August 12, 2017, 3:43 PM IST
पद, पैसा, शोहरत और चमक-दमक...आदमी को अंदर से खुश होने की गारंटी नहीं देता. वरना कोई आईएएस, आईपीएस, बहुराष्‍ट्रीय कंपनी का सीओओ और राजनेता कैसे आत्‍महत्‍या कर लेते.

ताजा मामला बक्सर (बिहार) के डीएम मुकेश कुमार पांडेय की आत्‍महत्‍या का है. जिन्‍होंने आत्‍महत्‍या में जीवन से निराश होने की बात लिखी है. जबकि 2012 में उन्‍हें सिविल सर्विसेज की परीक्षा में 14वां रैंक मिला था.

एम्‍स में लंबे समय तक साइक्‍लोजिस्‍ट रहे डॉ. रामतीरथ अग्रवाल कहते हैं कि पैसे और ओहदे में बड़े लोग कभी स्‍वीकार नहीं करते कि उन्‍हें कुंठा है, अंतर्वेदना है. जबकि उनके अंदर ये चीज होती हैं. चाहे कुछ और पाने के लिए हो, किसी और के बराबर होने की हो या फिर पारिवारिक कलह हो.

यह कुंठा उन्‍हें अंदर-अंदर परेशान करती रहती है. जबकि स्‍टेटस की वजह से वह किसी से अपने मन की बात शेयर नहीं करते. अग्रवाल कहते हैं कि वे पैसा होते हुए भी जिंदगी से सामंजस्‍य स्‍थापित नहीं कर पाते. उनकी आकांक्षाएं डिप्रेशन में ले जाती हैं.

Couple suicide, crime            प्रतीकात्मक तस्वीर

अग्रवाल कहते हैं कि सहज रहने और संघर्ष करने का माद्दा खत्‍म हो रहा है. 90 फीसदी लोग फैमिली प्रॉब्‍लम से दुखी हैं. संवादहीनता उन्‍हें खोखला कर रही है. ऐसे में उन्‍हें कई बार जिंदगी बेमानी लगती है, ऐसा होता है तभी लोग आत्‍महत्‍या का कदम उठाते हैं.

अग्रवाल के मुताबिक हमें मोटीवेशनल किताबें पढ़ने की जरूरत है. क्रिएटिव काम करना चाहिए. समस्‍या कोई भी हो अपने प्रिय लोगों और परिजनों से शेयर करें. जिंदगी में किसी बात को लेकर द्वंद चल रहा हो तो साइक्‍लोथेरेपी लें, काउंसिलिंग करवाएं.

Five tips for self motivation, खुदको ऐसे करें सेल्‍फ मोटिवेट. (Image Source : Getty Images)          खुद को करें सेल्‍फ मोटिवेट. (Getty Images)

आत्‍महत्‍या के कुछ चर्चित केस:
-दिसंबर 2016: यूपी के वरिष्‍ठ आईएएस अधिकारी संजीव दुबे ने फांसी लगाकर आत्‍महत्‍या की.
-अगस्त 2016:अरुणाचल प्रदेश के 8वें मुख्यमंत्री कलिखो पुल ने ईटानगर स्थित अपने सरकारी आवास में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.
-मई 2016: इनसाइक्‍लोपीडिया ब्रिटानिका के चीफ ऑपरेटिंग ऑफीसर विनीत विग ने गुड़गांव की वेलवेडरे सोसायटी की 19वीं मंजिल से कूदकर आत्‍महत्‍या की. सुसाइड नोट में लिखा था कि खुद से परेशान हो गया हूं.
-जून 2012: मध्‍य प्रदेश के सागर जिले में भारतीय पुलिस सेवा (आईपीएस) के प्रशिक्षु अधिकारी ओम प्रकाश केन ने जवाहरलाल नेहरू पुलिस प्रशिक्षण अकादमी में फांसी लगाकर आत्महत्या कर ली थी.
-अप्रैल 2016: गुड़गांव में ही चाइना की हुवेई कंपनी के टेलीकम्‍युनिकेशन इंजीनियर शुआंग्फा लूओ ने एक अपार्टमेंट की आठवीं मंजिल से कूदकर आत्‍महत्‍या कर ली थी.
First published: August 12, 2017
पूरी ख़बर पढ़ें
अगली ख़बर