किसान आंदोलन पर चर्चा न होने पर भड़के शशि थरूर, कहा- संसद है ही क्यों?

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा मैं सरकार का रवैया नहीं समझ पा रहा हूं(फाइल फोटो)

कांग्रेस सांसद शशि थरूर ने कहा मैं सरकार का रवैया नहीं समझ पा रहा हूं(फाइल फोटो)

Parliament Budget Session: सदन में कृषि कानूनों और किसान आंदोलन को लेकर चर्चा न होने पर कांग्रेस सासंद शशि थरूर भड़क गए. थरूर ने कहा कि भारत सरकार एक बहस के लिए विपक्ष के अनुरोध को ठुकरा रही है क्योंकि उन्होंने किसान संघों की मांगों को मानने से इनकार कर दिया. यह अलोकतांत्रिक है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 3, 2021, 11:23 PM IST
  • Share this:

नई दिल्ली. कांग्रेस सांसद शशि थरूर (Congress MP Shashi Tharoor) ने बुधवार को सरकार के रवैये पर सवाल उठाते हुए कहा कि लोकसभा अध्यक्ष किसान प्रदर्शन के मुद्दे पर चर्चा के लिए इनकार कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि संसद देश के ज्वलंत मुद्दों पर लोगों के चुने हुए प्रतिनिधियों के चर्चा करने के लिए होती है. थरूर ने यह भी कहा कि यदि किसी बहस को होने दिया जाता है, तो सांसद अपने घटकों, किसानों की चिंताओं को सुन सकते हैं और संकट के समाधान का प्रस्ताव रख सकते हैं.

शशि थरूर ने श्रंखला में ट्वीट कर कहा, "मैं सिर्फ किसानों के विरोध पर चर्चा से इनकार करने के बजाय राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बहस के साथ इसे लागू करने पर जोर देने के सरकार और अध्यक्ष के रवैये को नहीं समझ पा रहा. संसद जनप्रतिनिधियों को आज के ज्वलंत मुद्दों पर आवाज देने के लिए मौजूद है!" थरूर ने कहा, "यदि किसी बहस को होने दिया जाता है, तो सांसद अपने घटकों, किसानों की चिंताओं को सुन सकते हैं और संकट के समाधान का प्रस्ताव रख सकते हैं. लेकिन भारत सरकार एक बहस के लिए विपक्ष के अनुरोध को ठुकरा रही है क्योंकि उन्होंने किसान संघों की मांगों को मानने से इनकार कर दिया. यह अलोकतांत्रिक है."

Shashi tharoor
शशि थरूर ने किया ये ट्वीट

थरूर ने आगे लिखा, "भारत सरकार को क्या लगता है कि संसद किसके लिए है? यह निर्वाचित प्रतिनिधियों का एक सुविचारित निकाय है जो राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर अपने सामूहिक विचारों की पेशकश करने के लिए है. पिछले सत्र में, भारत सरकार ने चीन और अब किसानों पर चर्चा करने से इनकार कर दिया. यदि आप संसद को कार्य नहीं करने देना चाहते हैं तो ये है ही क्यों?"

Youtube Video

ये भी पढ़ें- जींद महापंचायत: राकेश टिकैत ने भरी हुंकार, कहा- बिल वापसी, नहीं तो गद्दी वापसी

बार-बार स्थगित करनी पड़ी कार्यवाही



बता दें दिल्ली की सीमाओं पर किसानों के प्रदर्शन स्थलों पर सीमेंट के अवरोधक, कंटीले तार और सड़कों पर लोहे की कीलें लगाये जाने के साथ बड़ी संख्या में पुलिस कर्मियों की तैनात किये जाने के बीच नS कृषि कानूनों को लेकर विपक्ष ने मंगलवार को संसद में हंगामा किया.

पिछले साल सितंबर में लागू किये गए केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों पर चर्चा कराने की मांग करते हुए विपक्ष के सदस्यों ने आज संसद की कार्यवाही में बाधा डाली, जिसके चलते दोनों सदनों की कार्यवाही बार-बार स्थगित करनी पड़ी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज