लाइव टीवी

संसद में हेमा मालिनी के साथ इसलिए नहीं बैठ पाएंगे सनी देओल

News18Hindi
Updated: May 30, 2019, 5:02 PM IST
संसद में हेमा मालिनी के साथ इसलिए नहीं बैठ पाएंगे सनी देओल
सनी देओल व हेमा मालिनी. फाइल फोटो.

एक फॉर्मूला के तहत लोकसभा में बैठक व्यवस्था की जाती है और हर सांसद को तय नियमों के आधार पर बेंच का आवंटन होता है. लोकसभा चुनाव एवं शपथ ग्रहण समारोह संपन्न होने के बाद 6 जून से सत्र शुरू हो सकता है.

  • Share this:
बॉलीवुड की पूर्व स्टार और दो बार सांसद रह चुकीं हेमा मालिनी के बस में नहीं होगा कि वो संसद में अपने सौतेले बेटे सनी देओल के साथ बैठ सकें या संसद की कार्रवाई को लेकर सनी को कोई समझाइश दे सकें. दोनों ही भाजपा के टिकट पर चुने हुए सांसद हैं लेकिन दोनों को अलग और दूर-दूर बैठना होगा, जब संसद का सत्र 6 जून को शुरू होगा.

पढ़ें: मोदी के शपथ ग्रहण में शामिल होंगे मुकेश अंबानी समेत ये बिजनेसमैन!

देश में हाल ही हुए आम चुनाव के बाद 17वीं लोकसभा का गठन होगा, जिसमें करीब 300 सांसद पहली बार संसद पहुंचेंगे, यानी नए चेहरे होंगे. सनी देओल इनमें से एक हैं, जो पहली बार सांसद चुने गए हैं. पहली बार सांसद चुने गए चेहरों में कुछ प्रमुख नाम गायक हंसराज हंस, क्रिकेटर गौतम गंभीर, साध्वी प्रज्ञा ठाकुर, अभिनेता रवि किशन, मिमी चक्रवर्ती और नुसरत जहां शामिल हैं.

सीनियर सांसद और डेब्यू सांसद

हालांकि ये सभी सांसद अपने पुराने पेशे में विशेषज्ञ या पुराने हो चुके हैं लेकिन आधिकारिक नियमों के हिसाब से वरिष्ठ सांसदों की तुलना में सभी नए सांसदों को संसद में पिछली सीटें ही मिलेंगी. उदाहरण के लिए हेमा मालिनी दूसरी सांसद चुनकर संसद में पहुंचेंगी इसलिए उन्हें बैठक व्यवस्था के अनुसार बीच की किसी बेंच पर जगह मिलेगी जबकि उनके सौतेले बेटे सनी देओल, चूंकि पहली बार संसद पहुंचेंगे इसलिए उन्हें बैकबेंचरों के साथ पीछे की तरफ बैठना होगा.

गौरतलब है कि हेमा मालिनी मथुरा लोकसभा सीट से और देओल गुरदासपुर सीट से संसद पहुंचे हैं और दोनों ही भाजपा के सांसद हैं. उनके अलावा विवादों में​ घिर चुकीं भाजपा की पहली बार की सांसद साध्वी प्रज्ञा ठाकुर को भी पीछे की तरफ ही किसी बेंच पर बैठना होगा. सांसद अनुराग ठाकुर भले ही इन डेब्यू कर रहे सांसदों से उम्र में छोटे हों, लेकिन चूंकि वो चौथी बार सांसद बने हैं, इसलिए उन्हें आगे की पंक्तियों में सीट मिलेगी.

ये है बैठक व्यवस्था का फॉर्मूलाएक फॉर्मूला के तहत सभी चुने गए सांसदों को संसद में सीट का आवंटन किया जाता है. इस फॉर्मूला के अनुसार ही स्पीकर के दाहिने तरफ सत्ता पक्ष के सांसद बैठते हैं जबकि विपक्ष के सांसदों को स्पीकर के बाएं तरफ की सीटें आवंटित की जाती हैं.

सबसे आगे की बैठक पंक्ति प्रधानमंत्री सहित उनकी कैबिनेट के कुछ सदस्य और पार्टी के कुछ वरिष्ठ नेताओं के लिए आवंटित की जाती है. बाएं तरफ की सबसे पहली पंक्ति में नेता प्रतिपक्ष सहित विपक्ष की प्रमुख पार्टियों के वरिष्ठ नेता बैठते हैं.

पहली बार चुने गए सांसदों के लिए सबसे पीछे बैठक व्यवस्था होती है, लेकिन अगर इनमें से किसी को कैबिनेट पोर्टफोलियो यानी कोई मंत्रालय मिलता है, तो बैठक व्यवस्था में बदलाव संभव होता है.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स

ये भी पढ़ें:
मोदी कैबिनेट में दिल्‍ली को जगह, डॉ. हर्षवर्धन फिर बनेंगे मंत्री
मोदी कैबिनेट का हिस्सा होंगे अमित शाह, संभालेंगे बड़ी जिम्मेदारी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए बॉलीवुड से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: May 30, 2019, 5:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर