होम /न्यूज /राष्ट्र /एक बार ठीक होने के बाद फिर क्‍यों हो रहा है कोविड, हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स ने दिया यह जवाब

एक बार ठीक होने के बाद फिर क्‍यों हो रहा है कोविड, हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स ने दिया यह जवाब

हेल्‍थ एक्‍सपर्ट ने कहा कि सुरक्षा और बचाव में कभी कमी न करें.

हेल्‍थ एक्‍सपर्ट ने कहा कि सुरक्षा और बचाव में कभी कमी न करें.

Coronavirus disease: एक बार कोरोना संक्रमण से ठीक होने वाले मरीजों को दो से तीन सप्‍ताह के बाद दोबारा यही संक्रमण हो सक ...अधिक पढ़ें

नई दिल्‍ली.  एक बार कोरोना संक्रमण (Corona Infections) से ठीक होने वाले मरीजों को दो से तीन सप्‍ताह के बाद दोबारा यही संक्रमण हो सकता है. हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स ने यह जानकारी देते हुए कहा है कि बचाव में कमी न करें. मास्‍क जरूर लगाएं और बार-बार हाथ धोते रहें. सोशल डिस्‍टेंसिंग (Social Distancing) का पालन करें और भीड़-भाड़ से बचें. स्वास्थ्य विशेषज्ञों का कहना है कि जो लोग कोविड से जूझ रहे हैं, उन्‍हें दोबारा संक्रमण हो सकता है.

एएनआई से चर्चा करते हुए हेल्‍थ एक्‍सपर्ट्स ने कहा कि ओमिक्रॉन द्वारा संचालित तीसरी लहर के दौरान संक्रमित होने वाले मरीजों में इस बात की अधिक संभावना होती है कि वे इस संक्रमण की चपेट में एक बार फिर से आ जाएं. इसका मुख्‍य कारण है कि ओमिक्रॉन वेरिएंट (Omicron variant)  किसी भी प्रतिरक्षा से बच सकने में सक्षम है और कुछ समय बाद वह फिर सक्रिय हो जाता है. ऐसे मरीजों को संक्रमण से उबरने के बावजूद अपनी सुरक्षा और बचाव में कोई कमी नहीं करनी चाहिए.

ये भी पढ़ें : वृद्धों में क्‍यों गंभीर हो जाता है निमोनिया? जिससे जूझ रही हैं लता मंगेशकर, बता रहे विशेषज्ञ

ये भी पढ़ें:  घूमने के लिए सुरक्षित गोवा सहित भारत के ये 6 राज्‍य, दूसरी डोज के साथ हुए 100% वैक्‍सीनेटेड

सर गंगा राम अस्पताल के अध्यक्ष डॉ डीएस राणा ने एएनआई को बताया कि जो लोग पहले संक्रमित हो चुके हैं, वे फिर से सकारात्मक हो रहे हैं. दो या तीन सप्ताह के अंतराल के भीतर पुन: संक्रमित हो रहे हैं. उन्‍होंने बताया कि जब वायरस शरीर में प्रवेश करता है, तब फिर से संक्रमण हो सकता है. यह मुख्य रूप से इसलिए होता है क्योंकि इस वायरस में प्रतिरक्षा से बचने की क्षमता होती है. उन्‍होंने कहा कि यह वायरस इम्युनिटी से बच रहा है. ऐसे समय पर हम अपनी प्रतिरक्षा को कम करने का जोखिम नहीं उठा सकते.

उन्‍होंने बताया कि एंटीजेनिक एस्केप, इम्यून एस्केप, इम्यून इवेक्शन या एस्केप म्यूटेशन तब होता है जब एक मेजबान की प्रतिरक्षा प्रणाली, विशेष रूप से एक इंसान की, संक्रामक एजेंट का जवाब देने में असमर्थ होती है. अपोलो अस्पताल में आंतरिक चिकित्सा वरिष्ठ सलाहकार डॉ सुरनजीत चटर्जी ने कहा कि डेल्टा संस्करण की तुलना में ओमिक्रॉन संस्करण के साथ पुन: संक्रमण दर अधिक है. अब तक डेल्टा या किसी अन्य प्रकार के बजाय ओमिक्रॉन में प्रतिरक्षा से बचने की घटना अधिक मजबूत है.

Tags: Corona Infections, Omicron variant, Social Distancing

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें