Home /News /nation /

देश में क्यों हर किसी के लिए कोरोना वैक्सीन लगवाना अनिवार्य नहीं? केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को दिया जवाब

देश में क्यों हर किसी के लिए कोरोना वैक्सीन लगवाना अनिवार्य नहीं? केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को दिया जवाब

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि इस चरण में कोविड-19 टीका दिए जाने को अनिवार्य नहीं बनाया है. (फाइल फोटो)

केंद्र ने सुप्रीम कोर्ट को बताया कि इस चरण में कोविड-19 टीका दिए जाने को अनिवार्य नहीं बनाया है. (फाइल फोटो)

केंद्र सरकार (central government) ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय ( Supreme Court) को बताया कि उसने इस चरण में कोविड-19 टीका (Covid-19 vaccine) दिए जाने को अनिवार्य नहीं बनाया है. सरकार ने कहा है, ‘इसलिए, इस समय यह वांछनीय नहीं है कि करोड़ों नागरिकों के महामारी से बचाव के अधिकार का उल्लंघन करने की कीमत पर राष्ट्र हित के खिलाफ कदम उठाने का प्रयास करने वाले कुछ तत्वों के पीछे के उद्देश्यों का पता लगाने में समय लगाया जाए.’ केंद्र द्वारा शीर्ष अदालत में दाखिल एक हलफनामे में कहा गया है कि इस समय केंद्र और राज्य सरकारों का पूरा ध्यान टीकाकरण अभियान पर होना चाहिए और लोगों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

अधिक पढ़ें ...

    नयी दिल्ली. केंद्र सरकार (central government) ने सोमवार को उच्चतम न्यायालय ( Supreme Court) को बताया कि उसने इस चरण में कोविड-19 टीका (Covid-19 vaccine) दिए जाने को अनिवार्य नहीं बनाया है. साथ ही, कहा कि औषधि महानियंत्रक (डीसीजीआई) द्वारा क्लीनिकल ट्रायल से संबंधित सभी डेटा और टीकाकरण के डेटा जिसे कानून के अनुसार जारी किया जाना आवश्यक है और जारी किया जा सकता है, वे पहले से ही सार्वजनिक रूप से उपलब्ध हैं. केंद्र द्वारा शीर्ष अदालत में दाखिल एक हलफनामे में कहा गया है कि इस समय केंद्र और राज्य सरकारों का पूरा ध्यान टीकाकरण अभियान पर होना चाहिए और लोगों को टीकाकरण के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए.

    सरकार ने कहा है, ‘इसलिए, इस समय यह वांछनीय नहीं है कि करोड़ों नागरिकों के महामारी से बचाव के अधिकार का उल्लंघन करने की कीमत पर राष्ट्र हित के खिलाफ कदम उठाने का प्रयास करने वाले कुछ तत्वों के पीछे के उद्देश्यों का पता लगाने में समय लगाया जाए.’ केंद्र ने कहा कि कोविड-19 टीकों की मंजूरी के संबंध में निर्णय विशेषज्ञ समितियों द्वारा लिया गया है, जिसमें टीका निर्माताओं द्वारा आपूर्ति किए गए डेटा, जानकारी के आधार पर और इसके असर तथा सुरक्षा पर विचार करने के बाद फैसला किया गया.

    ये भी पढ़ें :   2021 में जम्मू-कश्मीर में कम हुए आतंकवादी हमले, 35 जवान हुए शहीद: केंद्र ने संसद में बताया

    सरकार ने कहा, ‘बैठकों और अनुमति के पहले समिति के विचार-विमर्श के विवरण पहले से ही सार्वजनिक रूप से उपलब्ध हैं. कोविड-19 टीकों की मंजूरी के संबंध में निर्णय निर्माताओं द्वारा प्रदान किए गए डेटा, सूचना के सत्यापन के बाद और इसके असर तथा सुरक्षा पर विचार करने के बाद विशेषज्ञ समितियों द्वारा लिए गए हैं.’

    ये भी पढ़ें :   नया वेरिएंट चिंता का विषय लेकिन टीके सबसे अहम, ओमिक्रॉन पर हो सकते हैं प्रभावी: एक्‍सपर्ट

    हलफनामे में कहा गया है कि टीकाकरण के बाद दुष्प्रभाव के मामलों का डेटा पहले से ही सार्वजनिक रूप से उपलब्ध है और संबंधित अधिकारी लगातार इस डेटा की निगरानी और जांच कर रहे हैं और ‘केंद्र सरकार ने इस स्तर पर कोविड-19 टीका दिए जाने को अनिवार्य नहीं किया है.’ सरकार ने कहा कि क्लीनिक ट्रायल से संबंधित सभी डेटा और टीकाकरण के डेटा जिसे कानून के अनुसार जारी किया जाना आवश्यक है और जारी किया जा सकता है, वे पहले से ही सार्वजनिक रूप से उपलब्ध है.

    केंद्र ने जैकब पुलियेल की एक याचिका के जवाब में दाखिल अपने हलफनामे में कहा है कि यह याचिका कथित तौर पर एक जनहित याचिका के रूप में दायर की गई है और अगर इस पर विचार किया जाता है तो यह जनहित के लिए नुकसानदेह होगा. सरकार ने कहा, ‘इसलिए यह उल्लेख किया जाता है कि 2019 के नियमों तथा औषधि और प्रसाधन सामग्री कानून, 1940 के तहत निर्धारित प्रक्रिया का पालन करने और प्रख्यात वैज्ञानिक विशेषज्ञों के बीच विस्तृत विचार-विमर्श के बाद सभी आवश्यक सावधानी बरतते हुए कोविड-19 महामारी के मद्देनजर प्रतिबंधित आपातकालीन उपयोग के लिए कोवैक्सीन और कोविशील्ड टीकों को मंजूरी दी गई है.’

    Tags: Central government, Covid-19 vaccine, Supreme Court

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर