Home /News /nation /

कोई भी, यहां तक कि सत्ता में बैठे लोग भी कानून से ऊपर नहीं हैं: केरल हाईकोर्ट को ऐसा क्यों कहना पड़ा

कोई भी, यहां तक कि सत्ता में बैठे लोग भी कानून से ऊपर नहीं हैं: केरल हाईकोर्ट को ऐसा क्यों कहना पड़ा

केरल उच्च न्यायालय. (फाइल फोटो)

केरल उच्च न्यायालय. (फाइल फोटो)

Kerala High Court News: न्यायमूर्ति रामचंद्रन ने सरकार से सवाल किया, "मेरा झंडे के रंग से कोई सरोकार नहीं है, यहां यह लाल है. यह खुल्लमखुल्ला उल्लंघन है. हम समझ सकते हैं कि यदि आमलोग या जो सत्ता में नहीं हैं या विपक्ष में बैठे लोग ऐसा करते हैं, लेकिन क्या सत्ता में बैठे लोगों को ऐसा करना चाहिए." न्यायमूर्ति रामंचद्रन ने यह भी कहा कि कुछ लोगों द्वारा उन्हें किसी खास दल के साथ जोड़ने एवं 'संघी' बताने की कोशिश की गयी है, लेकिन न तो उन्हें और न ही उच्च न्यायालय को ऐसे प्रयासों से झुकाया जा सकता है.

अधिक पढ़ें ...

    कोच्चि (केरल). केरल उच्च न्यायालय ने सोमवार को राज्य सरकार को अवैध रूप से झंडा पोल लगाने वालों के खिलाफ उनकी संबद्धता से परे हटकर कार्रवाई करने का निर्देश देते हुए कहा कि कोई भी, यहां तक कि सत्ता में बैठे लोग भी कानून से ऊपर नहीं हैं. न्यायमूर्ति देवन रामचंद्रन ने कहा, ‘‘इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने बड़े व्यक्ति हैं, कानून आपसे ऊपर है.’’

    न्यायाधीश ने कहा कि सत्ता में बैठे लोग, जो कानूनों और सरकार को समझते हैं, उन्हें अधिक जवाबदेह ठहराया जाना चाहिए. अदालत की यह टिप्पणी तब आयी जब उसने केरल में अब और झंडा पोल अवैध रूप से नहीं लगाने के उसके आदेश का राज्य में सत्तारूढ़ दल द्वारा उल्लंघन पाया.

    जज बोले, मेरा झंडे के रंग से कोई सरोकार नहीं है
    न्यायमूर्ति रामचंद्रन ने सरकार से सवाल किया, “मेरा झंडे के रंग से कोई सरोकार नहीं है, यहां यह लाल है. यह खुल्लमखुल्ला उल्लंघन है. हम समझ सकते हैं कि यदि आमलोग या जो सत्ता में नहीं हैं या विपक्ष में बैठे लोग ऐसा करते हैं, लेकिन क्या सत्ता में बैठे लोगों को ऐसा करना चाहिए.”

    10 प्वॉइंट्स में जानें क्या है नया चुनाव सुधार बिल, क्यों है इस पर विवाद

    ‘मुझे संघी बताने की कोशिश की गयी है’
    न्यायमूर्ति रामंचद्रन ने यह भी कहा कि कुछ लोगों द्वारा उन्हें किसी खास दल के साथ जोड़ने एवं ‘संघी’ बताने की कोशिश की गयी है, लेकिन न तो उन्हें और न ही उच्च न्यायालय को ऐसे प्रयासों से झुकाया जा सकता है. अदालत सार्वजनिक जमीन के अतिक्रमण से जुड़े मामलों की सुनवाई कर रही थी.

    एक अन्य मामले में, जहां एक सहकारी सोसायटी ने आरोप लगाया है कि एक खास राजनीतिक दल उसकी जमीन पर अवैध रूप से झंडे और बैनर लगा रहा है, इसपर राज्य सरकार ने अदालत से कहा कि कुछ जिलाधिकारियों द्वारा राज्य में अवैध झंडा पोल लगाने वालों के विरुद्ध कार्रवाई की जा रही है और अन्य भी ऐसा ही करेंगे. मामले की अगली सुनवाई जनवरी में होगी.

    Tags: Kerala, Kerala High Court, Pinarayi Vijayan

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर