लाइव टीवी

मोदी सरकार ने क्यों चला सवर्णों को आरक्षण का दांव, क्या संविधान देता है इजाजत?

ओम प्रकाश | News18Hindi
Updated: January 7, 2019, 4:43 PM IST

नरसिंह राव सरकार ने आर्थिक आधार पर 10 प्रतिशत आरक्षण की व्यवस्था की थी लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने उसे रद्द कर दिया था, राजस्थान, हरियाणा में भी खारिज हो चुका है इस तरह का प्रयास

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 7, 2019, 4:43 PM IST
  • Share this:
मोदी कैबिनेट ने गरीब सवर्णों को आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की मंजूरी दे दी है. रविवार 6 जनवरी को रामलीला मैदान में दलितों के लिए समरसता खिचड़ी बनवाने के अगले ही दिन सवर्णों पर दांव क्यों चला गया? सियासत के जानकारों का मानना है कि सवर्ण वोटरों की नाराजगी से निपटने के लिए केंद्र सरकार ने ये कदम उठाया है. क्योंकि उसे अब आम चुनाव में जाना है. दलितों और पिछड़ों की ओर झुकाव की वजह से बीजेपी को यह आशंका थी कि कहीं उसका कोर वोटर खिसक न जाए. सियासी जानकारों का कहना है कि संविधान मौजूदा प्रावधानों में आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की कोई व्यवस्था नहीं है. ऐसे में सरकार को संविधान संशोधन करना पड़ेगा. जिसके लिए दोनों सदनों में उसे दो तिहाई बहुमत चाहिए होगा. (ये भी पढ़ें: SC/ST एक्‍ट के विरोध पर BJP सांसद पार्टी पर भड़कीं-'संविधान लागू करो वर्ना कुर्सी खाली करो')

अपर कास्ट के लिए आरक्षण की पैरवी दलित नेता रामदास अठावले, मायावती और राम विलास पासवान भी कर चुके हैं. हालांकि, आर्थिक आधार पर आरक्षण को सर्वोच्च न्यायालय पहले ही खारिज कर चुका है. 1991 में मंडल कमीशन की रिपोर्ट लागू होने के बाद तत्कालीन प्रधानमंत्री पीवी नरसिंह राव ने गरीब सवर्णों को 10 प्रतिशत आरक्षण देने का फैसला किया था.  हालांकि, 1992 में सुप्रीम कोर्ट ने इसे असंवैधानिक करार देते हुए खारिज कर दिया.

 upper caste reservation, 10% upper caste reservation, modi govt, narendra modi, indian constitution, dalit, SC ST, upper caste protest, amit shah, 2019 loksabha election, सवर्ण आरक्षण, सवर्ण जातियां, दलित, अनुसूचित जाति जनजाति आरक्षण, संविधान में आरक्षण, मोदी सरकार, नरेंद्र मोदी, अमित शाह, लोकसभा चुनाव 2019           आरक्षण की मांग (file photo)

बताया गया है कि जाट आरक्षण खत्म करने का फैसला देते हुए अदालत ने कहा था कि सिर्फ जाति पिछड़ेपन का आधार नहीं हो सकती. राजस्थान सरकार ने 2015 में उच्च वर्ग के गरीबों के लिए 14 प्रतिशत और पिछड़ों में अति निर्धन के लिए पांच फीसदी आरक्षण की व्यवस्था की थी, उसे भी निरस्त कर दिया. हरियाणा सरकार का भी ऐसा फैसला न्यायालय में नहीं टिक सका था. तो फिर क्या केंद्र सरकार के इस कदम का क्या होगा?

केंद्र सरकार ने भी जो दांव चला है उसमें अनुसूचित जाति-जनजाति तथा पिछड़े वर्ग को मिल रहे आरक्षण से कोई छेड़छाड़ नहीं होगी बल्कि अलग से गरीब सवर्णों को आरक्षण दिया जाएगा. सामाजिक चिंतकों का कहना है कि हमारे देश में जातिगत भेदभाव भी गरीबी और पिछड़ेपन का प्रमुख कारण रहा है, इसलिए यहां जाति के आधार पर आरक्षण का प्रावधान लागू किया गया. किंतु इससे असंतोष भी पैदा हुआ है और समाज के अनेक वर्ग अलग-अलग राज्यों में आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग के साथ आंदोलन कर रहे हैं. सरकार पर दबाव बना रहे हैं.

भारत में आरक्षण की व्यवस्था

भारतीय संविधान के अनुच्छेद 15 और 16 में सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े वर्गों के लिए आरक्षण का प्रावधान किया गया है, बशर्ते, ये साबित किया जा सके कि वे औरों के मुकाबले सामाजिक और शैक्षणिक रूप से पिछड़े हैं. इसे तय करने के लिए कोई भी राज्य अपने यहां पिछड़ा वर्ग आयोग का गठन करके अलग-अलग वर्गों की सामाजिक स्थिति की जानकारी ले सकता है.
Loading...

सुप्रीम कोर्ट के मुताबिक आम तौर पर 50 प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण नहीं हो सकता. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के मुताबिक, कोई भी राज्य 50 प्रतिशत से ज्यादा आरक्षण नहीं दे सकता. आरक्षण की मौजूदा व्यवस्था के तहत एससी के लिए 15, एसटी के लिए 7.5 व अन्य पिछड़ा वर्ग के लिए 27 फीसदी आरक्षण है. यहां आर्थिक आधार पर आरक्षण की कोई व्यवस्था नहीं है. इसीलिए अब तक जिन राज्यों में आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की कोशिश हुई उसे कोर्ट ने खारिज कर दिया.

 upper caste reservation, 10% upper caste reservation, modi govt, narendra modi, indian constitution, dalit, SC ST, upper caste protest, amit shah, 2019 loksabha election, सवर्ण आरक्षण, सवर्ण जातियां, दलित, अनुसूचित जाति जनजाति आरक्षण, संविधान में आरक्षण, मोदी सरकार, नरेंद्र मोदी, अमित शाह, लोकसभा चुनाव 2019        आरक्षण की मांग (file photo)

क्या नया है सवर्णों को आरक्षण देने का मुद्दा?

बीजेपी ने 2003 में एक मंत्री समूह का गठन किया. हालांकि इसका फायदा नहीं हुआ और वाजपेयी सरकार 2004 का चुनाव हार गई. साल 2006 में कांग्रेस ने भी एक कमेटी बनाई जिसको आर्थिक रूप से पिछड़े उन वर्गों का अध्ययन करना था जो मौजूदा आरक्षण व्यवस्था के दायरे में नहीं आते हैं. लेकिन इसका कोई फायदा नहीं हुआ.

इसे भी पढ़ें:

वही सवर्ण एक्‍ट का विरोध कर रहे हैं जिनकी मंशा SC/ST के उत्पीड़न की: BJP सांसद

BJP ने क्यों चला था SC/ST एक्ट का दांव, क्या है चुनावी गणित!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए Delhi से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 7, 2019, 3:02 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...