कार्यवाही स्थगित होने के बाद भी राज्यसभा में क्यों रुका रहा विपक्ष, 5 पॉइंट्स में जानें

राज्यसभा में रविवार को विपक्ष ने हंगामा किया
राज्यसभा में रविवार को विपक्ष ने हंगामा किया

Farms Bills 2020: राज्यसभा में रविवार को कृषि से संबंधित दो विधेयक राज्यसभा में ध्वनि मत से पारित हो गए. चर्चा के दौरान सदन में खूब हंगामा हुआ. पांच पॉइंट्स में जानें राज्यसभा में क्यों रुका रहा विपक्ष...

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 20, 2020, 7:08 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. राज्यसभा (Rajyasabha) ने कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020, कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को मंजूरी दी. इस विधेयक को पारित करने के दौरान सदन में हंगामा हो गया. राज्यसभा में रविवार को विपक्ष ने उस समय हंगामा किया जब सरकार ने कृषि से संबंधित दो विधेयकों को पारित कराने पर जोर दिया. विधेयक पारित होने के बाद राज्यसभा की कार्यवाही स्थगित हो गई लेकिन इसके बावजूद भी विपक्ष सदन में ही बैठा रहा. कार्यवाही के दौरान कांग्रेस और वाईएसआर कांग्रेस पार्टी के सदस्यों के बीच तीखी नोंकझोंक भी हुई. दोनों दलों के बीच यह नोंकझोंक उस समय हुयी जब कृषि संबंधी दो विधेयकों पर चर्चा में वाईएसआर कांग्रेस के विजय साई रेड्डी ने कांग्रेस के बारे में एक टिप्पणी की.

रेड्डी ने विधेयकों का समर्थन करते हुए कहा कि कांग्रेस पार्टी ने अपने घोषणा पत्र में ऐसे ही प्रावधानों का समर्थन किया था लेकिन वह अब विधेयकों का विरोध कर रही है. इस क्रम में उन्होंने कहा, ‘‘यह कांग्रेस का दोहरा मापदंड है.....’’ कांग्रेस के आनंद शर्मा ने रेड्डी की टिप्पणी पर आपत्ति जताते हुए कहा कि सदस्य का आचरण सदन की परंपराओं के अनुसार नहीं है और उन्हें अपने बयान को वापस लेकर माफी मांगनी चाहिए.
सरकार ने कृषि से संबंधित दो विधेयकों को पारित कराने पर जोर देने पर तृणमूल कांग्रेस सदस्यों के नेतृत्व में कुछ विपक्षी सदस्य आसन के बिल्कुल पास आ गए. हंगामे के कारण बैठक को कुछ देर के लिए स्थगित कर दिया गया.
तृणमूल कांग्रेस, कांग्रेस और वाम सहित विभिन्न दलों के सदस्यों ने उस समय हंगामा किया जब उप-सभापति हरिवंश ने दोनों विधेयकों को प्रवर समिति में भेजे जाने के प्रस्ताव पर मतविभाजन की उनकी मांग पर गौर नहीं किया.
इससे पहले नेता प्रतिपक्ष गुलाम नबी आज़ाद ने मांग की कि दोनों विधेयकों पर हुयी चर्चा का जवाब कल के लिए स्थगित कर दिया जाए क्योंकि रविवार को बैठक का निर्धारित समय समाप्त हो गया है. सदन में बिल के ध्वनिमत से पास होने के बाद सदन को स्थगित कर दिया गया. हालांकि इसके बाद भी विपक्ष विरोध स्वरूप सदन में ही बैठा रहा.
विपक्षी दलों ने राज्यसभा के उप सभापति हरिवंश के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पेश किया. कांग्रेस के राज्यसभा सांसद अहमद पटेल ने कहा उपसभापति हरिवंश को लोकतांत्रिक परंपराओं की रक्षा करनी चाहिए, लेकिन इसके बजाय, उनके रवैये ने आज लोकतांत्रिक परंपराओं और प्रक्रियाओं को नुकसान पहुंचाया है. इसलिए हमने उनके खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव लाने का फैसला किया है.
राज्यसभा में कृषि संबंधी विधेयकों को लेकर उत्पन्न स्थिति के मद्देनजर उच्च सदन के चैंबर में स्थिति सामान्य होने पर ही लोकसभा की बैठक शुरू किये जाने के कांग्रेस के अनुरोध के बाद रविवार को निचले सदन की बैठक करीब 50 मिनट के लिए स्थगित कर दी गयी.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज