आखिर क्यों नहीं मिल पा रहा है वैक्सीनेशन के लिए अपॉइंटमेंट, जानें असली वजह

वैक्सीनेशन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

वैक्सीनेशन (प्रतीकात्मक तस्वीर)

1 मई से शुरू होने वाले कोरोना वैक्सीनेशन (Covid-19 Vaccination) के लिए रेजिस्ट्रेशन प्रकिया शुरू हो गई है लेकिन वैक्सीनेशन के लिए टाइम स्लॉट नहीं मिल रहा है.

  • Last Updated: April 29, 2021, 3:52 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. 18 साल से ऊपर की उम्र के लोगों को कोरोना की वैक्सीन (Covid-19 Vaccine) 1 मई से लगनी शुरू होगी जिसके लिए 28 अप्रैल से ऑनलाइन रेजिस्ट्रेशन (Registration) शुरू हो गया है. लेकिन लोगों के सामने मुसीबत ये है कि वैक्सीनेशन का टाइम स्लॉट नही पा रहा है. कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए केंद्र सरकार ने 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीन देने की घोषणा की है.

18 साल से ऊपर के लोगों को कोरोना का टीका लेने के लिए ऑनलाइन रेजिस्ट्रेशन और फिर अपॉइंटमेंट लेना होगा. दिल्ली के स्वास्थ्य मंत्री सत्येंद्र जैन ने बताया कि अभी वैक्सीन नहीं है. 1-2 दिन में स्थिति स्पष्ट होगी. वैक्सीन सबसे महत्वपूर्ण है, जिसके लिए हमारी तैयारी पूरी है. जैन ने कहा कि जैसे ही कंपनियां हमे schedule दे देंगी तो स्थिति स्पष्ट हो जाएगी.

45 साल से कम उम्र के लिए अलग नियम

दरअसल,18 से 44 साल तक की उम्र के लोगों को टीका देने के लिए केंद्र सरकार ने अलग नियम बनाएं हैं. इस उम्र की कैटेगरी के लिए राज्य सरकारों और निजी वैक्सीनेशन सेंटर्स पर टीका लगाया जाएगा जिसके लिए राज्य सरकार और निजी अस्पतालों को खुद ही वैक्सीन मैन्युफैक्चर्स से कोरोना का टीका खरीदना है. लेकिन राज्य सरकारों के वैक्सीनेशन सेंटर्स और निजी अस्पताल 45 साल के नीचे के लोगों को किस रेट में वैक्सीन देंगे और वैक्सीन की उपलब्धता को लेकर अभी स्थिति स्पष्ट नहीं है.
केंद्र सरकार के मुताबिक 18 साल से ऊपर के लोगों को वैक्सीनेशन का अपॉइंटमेंट तभी होगा जब राज्य सरकारें और प्राइवेट वैक्सीनेशन सेंटर वैक्सीनेशन सेशंस शुरू करेंगी. केंद्र सरकार के मुताबिक देश में कोरोना के टीके की कोई कमी नही है. राज्यों के पास 1 करोड़ से ज्यादा डोज वैक्सीन उपलब्ध हैं. अभी तक राज्यों को 16 करोड़ डोज से ज्यादा वैक्सीन फ्री दी जा चुकी है.

अलग-अलग टीका नही ले सकते

ICMR यानी इंडियन काउंसिल ऑफ मेडिकल रिसर्च में सीनियर वैज्ञानिक समीरन पांडा ने न्यूज 18 इंडिया को बताया कि भारत मे दी जा रही दोनों वैक्सीन कोविशील्ड और कोवैक्सीन का अलग अलग समय अंतराल है लेकिन अगर दूसरी डोज लेने में 5 से 7 दिन देरी भी हो जाती है तो चिंता की बात नहीं है. ICMR के मुताबिक पहली और दूसरी डोज में अलग-अलग वैक्सीन लेना ठीक नहीं है. जो वैक्सीन पहली खुराक में लिया है वही दूसरी खुराक में भी लेना चाहिए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज