लाइव टीवी

प्रदूषण पर SC की कड़ी फटकार, कहा- 15 बैग में विस्फोटक से लोगों को एक बार में ही क्यों नहीं मार देते?

News18Hindi
Updated: November 25, 2019, 5:07 PM IST
प्रदूषण पर SC की कड़ी फटकार, कहा- 15 बैग में विस्फोटक से लोगों को एक बार में ही क्यों नहीं मार देते?
सुप्रीम कोर्ट ने प्रदूषण पर केंद्र, दिल्ली, पंजाब और हरियाणा सरकार को कड़ी फटकार लगाई है.

सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने कहा कि प्रदूषण (Pollution) पर जिस तरह से ब्लेम गेम चल रहा है, उससे हम हैरान हैं. लोगों को तिल-तिल मारने से अच्छा है कि 15 बैग में विस्फोटक भर कर इन्हें एक साथ ही मार दिया जाए.

  • News18Hindi
  • Last Updated: November 25, 2019, 5:07 PM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. दिल्ली समेत उत्तर भारत के प्रदूषण (Air Pollution) पर सोमवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) में सुनवाई हुई. प्रदूषण पर नियंत्रण के उपायों को नाकाफी मानते हुए सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र और राज्य सरकार को कड़ी फटकार लगाई है. कोर्ट ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता से कहा, 'लोगों को जबरदस्ती गैस चैंबर में क्यों रहने को कहा जा रहा है. इससे बेहतर है कि उन्हें एक ही बार में मार दिया जाए.'

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि प्रदूषण पर जिस तरह से ब्लेम गेम चल रहा है, उससे हम हैरान हैं. लोगों को तिल-तिलकर मारने से अच्छा है कि 15 बैग में विस्फोटक भर कर उन्हें एक ही बार में खत्म कर दिया जाए.

प्रदूषण पर सुनवाई करते हुए जस्टिस अरुण मिश्रा ने पंजाब, दिल्ली और हरियाणा सरकार को फटकार लगाई. जस्टिस अरुण मिश्रा ने कहा, 'बाहर के लोग हमारे देश पर हंस रहे हैं कि हम प्रदूषण पर कंट्रोल नहीं कर पा रहे. ब्लेम गेम से दिल्ली के लोगों की जान नहीं बच सकती. आप प्रदूषण को सीरियसली नहीं ले रहे हैं, बस ब्लेम गेम का खेल चल रहा है.'

लोगों को मरने के लिए कैसे छोड़ सकते हैं?सुप्रीम कोर्ट ने बढ़ते प्रदूषण पंजाब सरकार को भी कड़ी फटकार लगाई. कोर्ट ने पंजाब के चीफ सेक्रटरी से कहा, 'हम लोगों के साथ ऐसे व्यवहार कैसे कर सकते हैं? लोगों को मरने के लिए कैसे छोड़ा जा सकता है. बताइए कि हमारे आदेश के बाद भी पराली जलाने में बढ़ोतरी क्यों हुई है? क्या यह आपकी विफलता नहीं है?'

कोर्ट ने सख्ती से कहा, 'पंजाब के चीफ सेक्रटरी महोदय, हम राज्य में प्रदूषण के लिए उत्तरदायी सारे काम रुकवा देंगे. आप लोगों को ऐसे मरने नहीं दे सकते. दिल्ली की सांस फूल रही है. आप नियमों को लागू करने में सक्षम नहीं हैं. इसका मतलब यह नहीं है कि दिल्ली के लोग कैंसर से मर जाएं.'


हरियाणा के प्रयासों की हुई तारीफ

हालांकि, शीर्ष अदालत ने हरियाणा सरकार द्वारा इससे पहले किए गए प्रयासों पर संतुष्टि जाहिर की. कोर्ट ने खट्टर सरकार ने कहा कि आप पहले अच्छा काम कर रहे थे, लेकिन अब फिर से मामला बिगड़ गया है. पराली जलाने की घटनाएं क्यों बढ़ती जा रही हैं.

CPCB से मांगी फैक्ट्रियों पर रिपोर्ट 
प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट ने सेंट्रल पॉल्यूशन कंट्रोल बोर्ड (CPCB) से दिल्ली में चल रही फैक्ट्रियों पर रिपोर्ट फाइल करने को कहा है. इसमें प्रदूषण के दुष्प्रभाव का ब्योरा होगा.



जल प्रदूषण पर भी लिया संज्ञान
सुप्रीम कोर्ट ने वायु प्रदूषण के साथ ही जल प्रदूषण पर भी चिंता जाहिर की. कोर्ट ने इस मामले पर स्वत: संज्ञान लेते हुए केंद्र और राज्य सरकार से पानी की शुद्धता को लेकर आंकड़े मांगे हैं.

ये भी पढ़ें: 

पराली जलाने पर पंजाब के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट सख्त, कहा- क्या कैंसर से मर जाएं दिल्ली-NCR के लोग?
दिल्ली में पराली से नहीं इन पांच वजहों से फैलता है सबसे ज्यादा प्रदूषण

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए चंडीगढ़ से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: November 25, 2019, 3:02 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर