पत्रकार, कलाकार, सहयोगी, राहुल गांधी ने सभी को किया अनफॉलो...चक्कर क्या है

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी. (पीटीआई फाइल फोटो)

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी. (पीटीआई फाइल फोटो)

वायनाड से सांसद राहुल (Rahul Gandhi) गांधी के ट्विटर पर करीब 1 करोड़ 88 लाख फॉलोअर हैं. वो 219 ट्विटर हैंडल को फॉलो कर रहे थे जो गुरुवार को गिरकर 55 रह गए हैं. जिस बात ने लोगों का ध्यान अपनी और खींचा है वो ये है कि @RahulGandhi ने के.बी. बायजू (पूर्व स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप कमांडो) और उनके करीबी माने जाने वाले निखिल और निवेदित अल्वा को भी अनफॉलो कर दिया है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कांग्रेस नेता राहुल गांधी (Rahul Gandhi) द्वारा 50 ट्विटर हैंडल को अनफॉलो करने के फैसले ने नई अफवाहों को जन्म दे दिया है. केरल के वायनाड से सांसद राहुल गांधी के ट्विटर पर करीब 1 करोड़ 88 लाख फॉलोअर हैं. वो 219 ट्विटर हैंडल को फॉलो कर रहे थे जो गुरुवार को गिरकर 55 रह गए हैं. जिस बात ने लोगों का ध्यान अपनी और खींचा है वो ये है कि @RahulGandhi ने के.बी. बायजू, पूर्व स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप कमांडो और उनके करीबी माने जाने वाले निखिल और निवेदित अल्वा को भी अनफॉलो कर दिया है.

निखिल फिल्म निर्माण का काम करते हैं, वो गांधी का सोशल मीडिया अकाउंट भी संभाल चुके हैं. लोकसभा चुनाव 2019 के पहले और बाद में गांधी के अकाउंट से किए गए ट्वीट्स ने खासा ध्यान बटोरा था. बायजू गांधी के दक्षिण यात्राओं कीं व्यवस्था संभाल चुके हैं, खासकर केरल की, जहां से वह वर्तमान में सांसद हैं. यही नहीं बायजू ने गांधी की यात्राओं और सम्मेलनों के चलते इसी राज्य में अपना ठिया भी बना लिया था.

कई नामी गिरामी पत्रकारों को भी अनफॉलो कर दिया

गांधी ने अलंकार सवाई को भी अनफॉलो कर दिया है जो बिहार के राजनीतिक परिवार से संबंध रखने वाली और कांग्रेस की महिला इकाई की सदस्य प्रतिष्ठा सिंह के साथ मिलकर उनका सोशल मीडिया अकाउंट देखते हैं. अपने सहयोगियों को ही नहीं बल्कि राहुल गांधी ने कई नामी गिरामी पत्रकारों को भी अनफॉलो कर दिया है. इन सबसे ज्यादा दिलचस्प गांधी का बॉलीवुड सुपरस्टार अमिताभ बच्चन को अनफॉलो करना है. गांधी के कार्यालय से संपर्क रखने वालों ने नाम ना बताने की शर्त पर कहा कि ऐसा किसी मतभेद के चलते नहीं किया गया है.
उन्होंने किसी को भी इसलिए अनफॉलो नहीं किया है क्योंकि उसके साथ उनके मतभेद हैं बल्कि ऐसा करने की वजह ये है कि जिसके साथ वो काम करते हैं उसे फॉलो करने का कोई औचित्य नहीं है. पत्रकारों के मामले में लोगों का कहना है कि वो उनसे प्रेस कॉन्फ्रेंस में मिल लेते हैं. पर ऐसे में ये सवाल उठता है कि पहले वो उन्हें क्यों फॉलो कर रहे थे. इस मामले को लेकर कार्यालय से जुड़े एक शख्स का कहना है, पार्टी कार्यकर्ताओं के लिए किसे फॉलो करना है किसे नहीं करना है उस पर एक नीति है, अगर राहुल गांधी किसी को फॉलो करते हैं तो उस बात का असर होता है.

मसलन कांग्रेस के नेता अमिताभ बच्चन को फॉलो करने और अनफॉलो करने का काम करते रहते हैं. लेकिन गांधी ने कभी भी किसी दूसरे बॉलीवुड स्टार को फॉलो नहीं किया जबकि शाहरुख खान को उनकी बहन प्रियंका गांधी वाड्रा का करीबी बताया जाता है.

वहीं पार्टी के अंदरूनी लोगों का कहना है कि ये कांग्रेस में नए मंथन की शुरुआत है और गांधी ट्विटर पर लोगों को फॉलो करने के मामले में सोच समझकर फैसला लेंगे. लोगों का कहना है कि प्रियंका गांधी अपने भाई के फैसले से वाकिफ थीं.



2015 में सोशल मीडिया पर उपस्थिति दर्ज कराई थी

ऑल्ट न्यूज, फैक्ट चेक करने वाली वेबसाइट के को-फाउंडर प्रतीक सिन्हा और स्टैंड अप कॉमेडियन कुणाल कामरा वो भी उन लोगों की सूची में हैं जिन्हें गांधी ने अनफॉलो किया है. गांधी का ट्विटर अकाउंट पहले भी विवादों में रहा है. उन्होंने 2015 में सोशल मीडिया पर उपस्थिति दर्ज कराई थी. और वे लंबे वक्त तक @OfficeofRG हेंडल का इस्तेमाल करते रहे, बाद में उन्होंने 2018 में इसे बदलकर @RahulGandhi कर लिया.

शुरुआत में कुछ दिनों तक फिल्म कलाकार से राजनीतिक बनी दिव्या स्पंदना ने उनके सोशल मीडिया को संभाला. उनकी टीम के राहुल से जुड़ने के बाद उसे अच्छा प्रचार मिला था लेकिन फिर उनमें मतभेद हो गए. कहा जाता है कि उन्होंने राहुल के जर्मनी टूर के कुछ फोटो पोस्ट कर दिये थे, जिसे कांग्रेस हाईकमान से अनुमति नहीं मिली थी. पिछले कुछ सालों से गांधी के तंज भरे बौद्धिक ट्वीट ने लोगों का खूब ध्यान खींचा है, हालांकि कांग्रेस इससे वोट नहीं खींच सकी थी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज