लाइव टीवी

हार्दिक पटेल की पत्‍नी किंजल ने कहा- पति के गुमशुदा होने से हूं चिंतित

News18Hindi
Updated: February 14, 2020, 2:02 PM IST
हार्दिक पटेल की पत्‍नी किंजल ने कहा- पति के गुमशुदा होने से हूं चिंतित
गुजरात में पाटीदार आंदोलन का नेतृत्‍व करने वाले हार्दिक पटेल की पत्‍नी ने पति के गुमशुदा होने पर चिंता जताई है. साथ ही गुजरात प्रशासन पर आरोप भी लगाया है.

किंजल पटेल (Kinjal patel) ने आरोप लगाया है कि उनके पति हार्दिक पटेल (Hardik Patel) 20 दिन से लापता हैं. साथ ही कहा कि गुजरात प्रशासन (Gujarat Administration) हार्दिक को निशाना बना रहा है. हालांकि, हार्दिक ने 11 फरवरी को दिल्‍ली विधानसभा चुनाव 2020 (Delhi Assembly Election 2020) के नतीजे आने पर सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) को बधाई दी थी. इसके बाद सोशल मीडिया पर उनके गुमशुदा होने की बात का काफी मजाक उड़ा था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: February 14, 2020, 2:02 PM IST
  • Share this:
अहमदाबाद. गुजरात की राजनीति में एकसमय हलचल पैदा करने वाले पाटीदार नेता हार्दिक पटेल (Hardik Patel) कथित तौर पर 20 दिन से लापता हैं. उनकी पत्नी किंजल पटेल (Kinjal Patel) ने आरोप लगाया है कि गुजरात प्रशासन (Gujarat Administration) उनके पति को निशाना बना रहा है. किंजल ने कहा है कि हमें उनके ठिकाने के बारे में कोई जानकारी नहीं है. उनके गुमशुदा (Missing) होने से हम बहुत चिंतित हैं. बता दें कि हार्दिक को देशद्रोह (sedition) के केस में 18 जनवरी को गिरफ्तार किया गया था. 24 जनवरी के बाद उन्‍हें रिहा कर दिया गया था.

किंजल ने कहा- बीजेपी में शामिल हो गए दो पाटीदार नेताओं को छूट क्‍यों
किंजल ने कहा, '2017 में सरकार ने कहा था कि पाटीदारों पर लगे सभी मामले वापस लिए जाएंगे. फिर अकेले हार्दिक को ही क्यों निशाना बनाया जा रहा है.' उन्‍होंने सवाल उठाया कि पाटीदार आंदोलन (Patidar Movement) के उन दो नेताओं को निशाना क्यों नहीं बनाया जा रहा, जो अब बीजेपी (BJP) में शामिल हो चुके हैं. उन्‍हें छूट क्‍यों मिली हुई है. दरअसल, सरकार (Gujarat Government) नहीं चाहती है कि हार्दिक लोगों से मिलें और बातचीत करें. सरकार चाहती है कि वे जनता के मुद्दों (Public Issues) को उठाना बंद कर दें.

हार्दिक ने 11 फरवरी को सीएम अरविंद केजरीवाल को जीत की थी बधाई हार्दिक पटेल की गुमशुदगी को लेकर तब सोशल मीडिया (Social Media) पर काफी मजाक उड़ा जब उन्‍होंने 11 फरवरी को दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल (CM Arvind Kejriwal) को विधानसभा चुनाव में जीत की बधाई दी थी. इससे पहले किए गए ट्वीट में हार्दिक ने लिखा कि चार साल पहले गुजरात पुलिस ने मेरे खिलाफ झूठा मामला दर्ज किया था. लोकसभा चुनाव 2019 के दौरान मुझ पर लगे मुकदमों की सूची मैंने अहमदाबाद पुलिस कमिश्नर से मांगी थी, लेकिन यह मुकदमा सूची में नहीं था. अचानक 15 दिन पहले पुलिस मुझे हिरासत में लेने के लिए मेरे घर आई थी, लेकिन मैं घर पर नहीं था.

पटेल ने दिया था संकेत, बीजेपी के खिलाफ अपना संघर्ष रखेंगे जारी
देशद्रोह मामले को लेकर अहमदाबाद की निचली अदालत में पेश नहीं होने के बाद हार्दिक को 24 जनवरी तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. रिहा होने के बाद उन्होंने ट्वीट के जरिये संकेत दिया था कि वह बीजेपी के खिलाफ संघर्ष जारी रखेंगे. क्राइम ब्रांच ने पटेल के खिलाफ 2015 में की गई भड़काऊ टिप्पणियों के लिए देशद्रोह का मामला दर्ज किया था. हार्दिक पर आरोप है कि उन्होंने अपने समर्थकों को आरक्षण के कारण आत्महत्या करने के बजाय पुलिसकर्मियों को मारने के लिए कहा था. अहमदाबाद के जीएमडीसी मैदान में हुई पाटीदार आरक्षण समर्थक रैली के बाद हुई राज्यव्यापी तोड़फोड़ और हिंसा को लेकर ये मामला दर्ज किया गया था. हिंसा में एक पुलिसकर्मी समेत लगभग दर्जन भर लोग मारे गए थे.

ये भी पढ़ें:

पुलवामा हमला: बरसी पर बोले वामपंथी नेता, स्मारक की नहीं जांच की है जरूरत

राहुल गांधी ने मोदी सरकार से पूछा सवाल- पुलवामा हमले से किसे हुआ फायदा

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: February 14, 2020, 1:42 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर