शारदा चिटफंड घोटाला: IPS राजीव कुमार को गिरफ्तारी से बचाने के लिए हाईकोर्ट पहुंचीं उनकी पत्‍नी

सीबीआई ने शारदा चिटफंड घोटाला मामले के सबूतों को दबाने के आरोपी आईपीएस अफसर राजीव कुमार को खोजने का अभियान तेज कर दिया है.

सीबीआई ने शारदा चिटफंड घोटाला मामले के सबूतों को दबाने के आरोपी आईपीएस अफसर राजीव कुमार को खोजने का अभियान तेज कर दिया है.

कोलकाता के पूर्व कमिश्‍नर राजीव कुमार की पत्नी ने कलकत्ता हाईकोर्ट (Calcutta High court) में अग्रिम जमानत (Anticipatory Bail) के लिए याचिका दायर की है. दरअसल, कई समन जारी करने के बाद भी आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार (IPS Rajeev Kumar) अभी तक सीबीआई (CBI) के समक्ष पेश नहीं हुए हैं. इसलिए जांच एजेंसी ने उन्‍हें ढूंढने का अभियान तेज कर दिया है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: September 23, 2019, 7:24 PM IST
  • Share this:
कोलकाता. शारदा चिटफंड घोटाला (Saradha Chit-Fund Scam) मामले के सबूतों को दबाने के आरोपों में फंसे कोलकाता (Kolkata) के पूर्व पुलिस कमिश्वर राजीव कुमार (IPS Rajeev Kumar) पर गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है. कोर्ट की ओर से गिरफ्तारी से मिली राहत की अवधि खत्म होने के बाद सीबीआई (CBI) ने नोटिस भी दिया था, लेकिन वह जांच एजेंसी के समक्ष पेश नहीं हुए. अग्रिम जमानत के लिए उन्होंने अलीपुर सत्र अदालत में याचिका दायर की थी, लेकिन वह खारिज हो गई. अब राजीव कुमार की पत्नी ने उन्‍हें गिरफ्तारी से बचाने के लिए कलकत्ता हाईकोर्ट (Calcutta High Court) में अग्रिम जमानत (Anticipatory Bail) के लिए याचिका दायर की है.



सत्र अदालत खारिज कर चुकी है अग्रिम जमानत याचिका

अलीपुर की जिला और सत्र अदालत ने शनिवार को राजीव कुमार की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी थी. सीबीआई ने अदालत से कहा कि शारदा चिटफंड घोटाला मामले में आईपीएस अफसर राजीव कुमार को कई बार समन किया गया, लेकिन वह पेश नहीं हुए. ऐसा करके वह कानून तोड़ रहे हैं. इसके बाद कोर्ट ने उनकी अग्रिम जमानत याचिका रद्द कर दी. इस समय अतिरिक्त पुलिस महानिदेशक (CID) के पद पर तैनात राजीव कुमार ने शुक्रवार को सत्र अदालत में जमानत याचिका दायर की थी. इससे एक दिन पहले एक अदालत ने कहा था कि सीबीआई को शारदा मामले में राजीव कुमार को गिरफ्तार करने के लिए वारंट की जरूरत नहीं है. अब उनकी पत्‍नी ने आईपीएस अफसर को गिरफ्तारी से बचाने के लिए कलकत्‍ता हाईकोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की है.


आईपीएस राजीव कुमार को खोजने का अभियान तेज

सीबीआई ने आईपीएस राजीव कुमार को खोजने का अभियान तेज कर दिया है. सीबीआई की अलग-अलग टीमें अलीपुर बॉडीगार्ड लाइंस और राजीव कुमार के पार्क स्ट्रीट स्थित सरकारी आवास भी गईं. कलकत्ता हाई कोर्ट भी राजीव कुमार को गिरफ्तारी से दिया गया संरक्षण वापस ले चुका है. बता दें कि आईपीएस अधिकारी राजीव कुमार शारदा चिटफंड घोटाला मामले में जांच एजेंसियों के आरोपों का सामना कर रहे हैं. वह कई समन जारी होने के बावजूद सीबीआई का सहयोग नहीं कर रहे हैं. राजीव कुमार को गिरफ्तार करने के लिए सीबीआई ने हाल में कुछ जगहों पर छापेमारी भी की थी.





सबूतों को दबाने और छेड़छाड़ करने का लगा है आरोप

आईपीएस राजीव कुमार को पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्‍यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) का खास माना जाता है. उन पर आरोप है कि उन्होंने घोटाले की जांच में जरूरी सबूत दबा दिए थे. साथ ही कुछ सबूतों से छेड़छाड़ भी की थी. पश्चिम बंगाल पुलिस ने सीबीआई को बताया है कि राजीव कुमार 9 से 25 सितंबर तक छुट्टी पर हैं. बता दें कि शारदा समूह की कंपनियों ने लोगों को उनके निवेश पर अधिक मुनाफे का वादा करते हुए 2500 करोड़ रुपये ठग लिए थे.



ये भी पढ़ें:



Howdy Modi: इवेंट में जुटी भीड़ देखकर बोले डोनाल्‍ड ट्रंप - Incredible



Howdy Modi: अमेरिकी राष्‍ट्रपति के भाषण मंच पर पहली बार बदली प्रेसिडेंशियल सील
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज