फ्लैट से लेकर मोबाइल तक, आखिर KCR के लिए इतना लकी क्यों है 6 नंबर?

तेलंगाना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने सीएम केसीआर की विधानसभा भंग करने की सिफारिश मंजूर कर ली है. राज्यपाल ने केसीआर का इस्तीफा भी स्वीकार कर लिया है, लेकिन नई सरकार का गठन होने तक वह कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में पद पर बने रहेंगे.

News18Hindi
Updated: September 6, 2018, 7:36 PM IST
फ्लैट से लेकर मोबाइल तक, आखिर KCR के लिए इतना लकी क्यों है 6 नंबर?
तेलांगाना के कार्यवाहक मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव
News18Hindi
Updated: September 6, 2018, 7:36 PM IST
तेलंगाना में तय समय से पहले विधानसभा चुनावों की अटकलों के बीच मुख्यमंत्री के चंद्रशेखर राव (KCR) ने गुरुवार 6 सितंबर को कैबिनेट मीटिंग की. इसके बाद विधानसभा भंग करने का फैसला लिया. विधानसभा भंग करने के इस अहम फैसले के लिए केसीआर ने 6 तारीख चुनी. दरअसल, केसीआर ज्योतिष को बहुत मानते हैं और 6 अंक उनके लिए लकी है. उनके फ्लैट, मोबाइल, गाड़ी के नंबर में भी 6 अंक शामिल है. यही वजह है कि उन्होंने 6 सितंबर की तारीख को ही विधानसभा भंग करने के लिए चुना.

तेलंगाना: चुनाव की अटकलों के बीच KCR का आह्वान- 'दिल्ली वालों को हराओ'

इससे पहले केसीआर ने बीते रविवार को कैबिनेट मीटिंग के बाद मेगा रैली में ही विधानसभा भंग करने के संकेत दिए थे. लेकिन, बताया जा रहा है कि ज्योतिषाचार्यों और अंकशास्त्रियों की सलाह के बाद उन्होंने इसे 6 तारीख तक के लिए टाल दिया था.

बता दें कि तेलंगाना के राज्यपाल ईएसएल नरसिम्हन ने सीएम केसीआर की विधानसभा भंग करने की सिफारिश मंजूर कर ली है. राज्यपाल ने केसीआर का इस्तीफा भी स्वीकार कर लिया है, लेकिन नई सरकार का गठन होने तक वह कार्यवाहक मुख्यमंत्री के रूप में पद पर बने रहेंगे.

ये भी पढ़ें: तेलंगाना में पुजारियों को सरकारी कर्मचारियों जैसी सैलरी, इमाम-मुअज़्ज़िनों को मिलेंगे 5000 रुपये

केसीआर के लिए क्यों लकी है 6 नंबर?
तेलंगाना के कार्यवाहक सीएम केसीआर अंकशास्त्र पर बहुत भरोसा करते हैं. उनकी जिंदगी में ज्यादातर अच्छी खबर या सफलता का कहीं न कहीं 6 नंबर से कनेक्शन रहा है. इसलिए अपने जीवन के हर एक अहम पड़ाव के लिए केसीआर इसी अंक को किसी न किसी रूप में जरूर चुनते हैं.
Loading...
लकी नंबर देख ली थी मुख्यमंत्री पद की शपथ
केसीआर ने तेलंगाना के पहले मुख्यमंत्री के तौर पर 2 जून को 12.57 बजे शपथ ली थी. 12.57 का योग 15 होता है और 1+5=6 होता है. यानी उनका लकी नंबर. यही नहीं, जब केसीआर ने तेलंगाना के मुख्यमंत्री के पद की शपथ ली, तो उनकी उम्र भी 60 साल थी. इसका योग होता है 6+0=6 यानी केसीआर का लकी नंबर.

तेलंगाना में समय पूर्व चुनाव कवायद, केसीआर को होगा फायदा ?

गाड़ी, मोबाइल नंबर में भी जरूर होता है नंबर 6
केसीआर 6 अंक को इतना शुभ मानते हैं कि अपने घर के लैंडलाइन, मोबाइल, गाड़ी के नंबर में भी कहीं न कहीं 6 अंक जरूर रहता है.

पॉलिटिकल स्ट्रैटजी का हिस्सा है 6 अंक
केसीआर के लिए 6 अंक उनके पॉलिटिकल स्ट्रैटजी का हिस्सा रहा है. केसीआर ने गुरुवार सुबह 6: 45 मिनट पर ही कैबिनेट की मीटिंग बुलाई. इसका जोड़ (6+4+5=15) 1+6 यानी 6, जो केसीआर का लकी नंबर है. कैबिनेट की मीटिंग भी दोपहर 3:30 बजे तक चली. इसका योग 3+3+0=6 यानी एक बार फिर से केसीआर का लकी नंबर.

कांग्रेस के विधायक वन्नापार्थी चिन्ना रेड्डी ने एक बार कहा था- केसीआर 6 नंबर को लेकर इतने ऑब्सेस्ड हैं कि हर फैसला 6 नंबर से जोड़कर लेते हैं. यहीं नहीं, एक बार उन्होंने जहांगीर पीर दरगाह में 51 बकरियां भेंट की थीं. फॉर्मर कोऑर्डिनेशन कमिटी में भी 15 (1+5=6) सदस्य हैं. जिला स्तरीय कमिटी में 24 (2+4=6) सदस्य हैं. राज्य कमिटी में 42 सदस्य हैं. इन सभी का योग 6 होता है.

क्यों जल्द चुनाव चाहते हैं केसीआर?
तेलंगाना विधानसभा का कार्यकाल अगले साल मई में लोकसभा के कार्यकाल के साथ खत्म हो रहा है. केसीआर को लगता है कि इस वक्त विपक्ष के पास उनके मुकाबले सीएम दावेदार नहीं है. अगर इस वक्त विधानसभा भंग होती है, तो विपक्षी पार्टी को तैयारी करने का मौका नहीं मिलेगा. वहीं, अगर केसीआर अप्रैल तक इंतजार करते, तो इससे उन्हें आम चुनाव में बीजेपी और कांग्रेस की लोकप्रियता का खामियजा भुगतना पड़ सकता है.

माना जा रहा है कि इस समय पार्टी की जो मजबूत स्थिति जनता के बीच है उसका फायदा चुनाव में देखने को मिलेगा. सूत्रों के मुताबिक, पार्टी ने एक सर्वे भी करवाया है, जिसके मुताबिक समय से पहले चुनाव होने से टीआरएस को 119 सीटों में से 78 सीटें मिल सकेंगी, जो कि मैजिक फिगर से अधिक है

2014 में मिली थीं 63 सीटें
बता दें कि मई 2014 में हुए पहले विधानसभा चुनाव में केसीआर की पार्टी तेलंगाना राष्ट्र समिति (टीआरएस) ने 119 सीटों में से 63 जीती थीं. इस बार देखना दिलचस्प होगा कि सीएम केसीआर की ओर से 6 सितंबर को विधानसभा भंग करने का फैसला सही साबित होता है या उन्हें इसपर पछताना पड़ेगा.
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर