करगिल विजय दिवस समारोह में पीएम बोले- राष्ट्रीय सुरक्षा पर किसी दबाव में नहीं आएंगे

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा आज देश शौयगाथा को याद कर रहा है. उन्होंने कहा कारगिल की शौर्यगाथा से पीढ़ियां प्रेरित होंगी.

News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 7:34 AM IST
करगिल विजय दिवस समारोह में पीएम बोले- राष्ट्रीय सुरक्षा पर किसी दबाव में नहीं आएंगे
कारगिल विजय दिवस समारोह में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने की शिरकत
News18Hindi
Updated: July 28, 2019, 7:34 AM IST
करगिल विजय दिवस के 20 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में शनिवार को देश की राजधानी दिल्ली के इंदिरा गांधी इनडोर स्टेडियम में एक कार्यक्रम आयोजित किया गया है. इस कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह समेत भारतीय सेना प्रमुख बिपिन रावत समेत कई लोगों ने शिरकत की. यह ऐसा पहला मौका है, जब करगिल विजय दिवस के कार्यक्रम में किसी प्रधानमंत्री ने शिरकत कर देश को संबोधित किया है.

प्रधानमंत्री मोदी ने साफ किया कि राष्ट्र की सुरक्षा के लिए न किसी के दबाव में काम होगा, न किसी के प्रभाव में और न ही किसी अभाव में काम होगा. उन्होंने कहा कि चाहे अरिहंत के जरिए परमाणु त्रिकोण की स्थापना हो या फिर ए-सैट परीक्षण, हमने दबावों की परवाह किए बिना कदम उठाए हैं और उठाते रहेंगे. पीएम मोदी ने कहा कि गहरे समंदर से लेकर असीम अंतरिक्ष तक, जहां-जहां भी भारत के हितों की सुरक्षा की जरूरत होगी, भारत अपने सामर्थ्य का भरपूर उपयोग करेगा.

इस कार्यक्रम में पीएम मोदी ने वहां मौजूद सैनिकों के परिवारों और आम लोगों को संबोधित भी किया. प्रधानमंत्री ने कहा आज देश शौर्यगाथा को याद कर रहा है. उन्होंने कहा करगिल की शौर्यगाथा से पीढ़ियां प्रेरित होंगी. प्रधानमंत्री मोदी ने कहा जवानों की वीरता और पराक्रम को देखकर आंखें भर आईं.

पीएम मोदी ने कहा करगिल विजय अदम्य साहस की जीत थी. भारत की मर्यादा और अनुशासन की जीत थी. पीएम ने कहा कि 2014 में पीएम बनने के बाद करगिल जाने का मौका मिला. मैं 1999 में युद्ध के दौरान भी करगिल गया था. करगिल विजय स्थल मेरे लिए तीर्थ स्थल है. पीएम मोदी ने बताया कि करगिल पर हर जवान तिरंगा फहराना चाहता था. करगिल में जवानों के लिए खूब रक्तदान हुआ था. बच्चों ने अपनी गुल्लकें तोड़ दी थीं.



पाकिस्तान ने हमेशा छल किया है
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि कुछ देश आतंकवाद को फैलाने के लिए छद्म युद्ध का सहारा ले रहे हैं. पाकिस्तान ने हमेशा से ही छल किया है लेकिन हमने पाकिस्तान का छल चलने नहीं दिया. हमने पाकिस्तान का छल छलनी कर दिया, पाकिस्तान को भारत से जवाब उम्मीद नहीं थी. भारत की रणनीतिक में बदलाव दुश्मन पर भारी पड़ा. मोदी ने कहा कि पाकिस्तान ने करगिल में दुस्साहस करके 1999 में सीमाओं को फिर से खींचने का प्रयास किया था, लेकिन भारतीय सुरक्षा बलों ने उनके नापाक मंसूबों को नाकाम कर दिया था.
Loading...

अटल जी ने दिया नया नज़रिया
पीएम मोदी ने पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी की तारीफ करते हुए कहा कि अटल जी ने विश्व को नया नजरिया दिया. अटल जी के नज़रिए को कई देश समझने लगे थे. उन्होंने कहा, युद्ध सरकारों द्वारा नहीं बल्कि पूरे देश द्वारा लड़े जाते हैं, करगिल की जीत आज भी पूरे देश को प्रेरणा देती है...करगिल हर भारतीय की जीत थी.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि 2014 में जब हम सरकार में आए तो हम वन रैंक वन पेंशन को लागू किया. पीएम ने कहा कि मुझे जवानों के लिए वॉर मेमोरियल का शुभारंभ करने का अवसर मिला. पीएम ने कहा कि इस बार सरकार में आते ही हमने शहीदों के बच्चों की स्कॉलरशिप बढ़ाई. उन्होंने कहा कि रक्षा बलों का आधुनिकीकरण उनकी सरकार की एक महत्वपूर्ण प्राथमिकता है.

करगिल युद्ध के दौरान की फाइल फोटो


करगिल हो पूरे हुए 20 साल
बता दें 20 साल पहले करगिल युद्ध में भारत के वीर सपूतों ने अपने चिर प्रतिद्वंद्वी पाकिस्तान को हराकर देश को गौरवान्वित किया था. इस मौके पर कृतज्ञ राष्ट्र ने देश के वीर सपूतों के सर्वोच्च बलिदान और बहादुरी को सलाम किया. उन्होंने पाकिस्तानी घुसपैठियों को खदेड़ कर कश्मीर में कई पर्वत चोटियों पर फिर से अपना नियंत्रण स्थापित किया था.

26 जुलाई के दिन भारतीय थल सेना ने करगिल की बर्फीली पर्वत चोटियों पर करीब साढ़े तीन महीने तक चली लड़ाई के बाद ऑपरेशन विजय के सफलतापूर्वक पूरा होने की घोषणा की थी. इस सीमित युद्ध में भारत ने अपने लगभग 500 सैनिक गंवाये थे.

ये भी पढ़ें-
ह्यूस्टन में हाउडी-मोदी कार्यक्रम, 50 हजार लोग होंगे शामिल


करगिल दिवस समारोह: कार्यक्रम में छलके पीएम मोदी के आंसू

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: July 28, 2019, 7:27 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...