लाइव टीवी

CAA विवाद: रामकृष्ण मिशन ने कहा- हम समावेशी संगठन; हिंदू, मुस्लिम और ईसाई समुदायों से हैं हमारे संत

News18Hindi
Updated: January 13, 2020, 11:56 AM IST
CAA विवाद: रामकृष्ण मिशन ने कहा- हम समावेशी संगठन; हिंदू, मुस्लिम और ईसाई समुदायों से हैं हमारे संत
पीएम मोदी के बयान पर स्वामी सुविरानंद बोले, हम राजनीतिक संगठन नहीं

रामकृष्ण मठ एवं मिशन के महासचिव स्वामी सुविरानंद ने कहा, 'यह संगठन सीएए पर प्रधानमंत्री के भाषण पर कोई टिप्पणी नहीं करेगा. हम बिल्कुल गैर राजनीतिक संगठन है.'

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 13, 2020, 11:56 AM IST
  • Share this:
बेलूर (पश्चिम बंगाल). रामकृष्ण मठ एवं मिशन ने संशोधित नागरिकता कानून (CAA) पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) के बयान से रविवार को दूरी बना ली और कहा कि वह एकदम गैर राजनीतिक निकाय है और इसी कारण ऐसे मामले पर कोई टिप्पणी नहीं करेंगे. प्रधानमंत्री मोदी ने रामकृष्ण मिशन के बेलूर मठ से अपने संबोधन में कहा था कि 'नया कानून किसी की नागरिकता नहीं लेगा. उन्होंने यह भी कहा था कि युवाओं के एक वर्ग को संशोधित नागरिकता कानून के बारे में गुमराह किया गया है.'

स्वामी सुविरानंद ने नहीं की कोई टिप्पणी
रामकृष्ण मठ एवं मिशन के महासचिव स्वामी सुविरानंद ने कहा, 'यह संगठन सीएए पर प्रधानमंत्री के भाषण पर कोई टिप्पणी नहीं करेगा. हम बिल्कुल गैर राजनीतिक संगठन है. हम सनातन आह्वानों का जवाब देने के लिए अपना घर छोड़कर यहां आये हैं. हम क्षणिक आह्वानों का जवाब नहीं देते.'

Ramakrishna Mission, CAA, Prime Minister, Narendra Modi, Mamata Banerjee, सीएए, प्रधानमंत्री, रामकृष्ण मिशन, प्रधानमंत्री मोदी, पश्चिम बंगाल, स्वामी सुविरानंद, रामकृष्ण मठ



सबको बताया एक समान
स्वामी सुविरानंद ने कहा, 'मिशन समावेशिता में विश्वास करता है. हम समावेशी संगठन हैं जिसमें हिंदू, इस्लाम और ईसाई समुदायों के संत हैं. हम एक ही माता पिता की संतान की भांति रहते हैं. हमारे लिए, पीएम नरेंद्र मोदी भारत के नेता हैं और ममता बनर्जी पश्चिम बंगाल की नेता हैं.'



सीएए के खिलाफ भ्रम फैला रहे लोग
पीएम मोदी ने मिशन में कहा, इतनी स्पष्टता के बावजूद, कुछ लोग नागरिकता कानून को लेकर भ्रम फैला रहे हैं. सीएए को बच्चे भी समझ गये लेकिन राजनीतिक दलों के लोगों को समझ नहीं आ रहा. दरअसल बात ये है कि वे समझना ही नहीं चाहते. सीएए को लेकर देश भर में चर्चा हो रही है, इस कानून को लेकर कुछ युवाओं के अंदर भ्रम की स्थिति हैं. पीएम मोदी ने कहा कि ये कानून नागरिकता देने का कनून है ना की नागरिकता लेने का.

ये भी पढ़ें : बंगाल BJP अध्यक्ष ने उग्र प्रदर्शनकारियों को चेताया, मार-मारकर जेल में डालेंगे

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 13, 2020, 11:11 AM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर