विपक्ष के राष्ट्रपति कैंडिडेट होंगे शरद पवार? जानिए एनसीपी चीफ ने क्या कहा

माना जा रहा है कि प्रशांत किशोर (Prashant Kishor) समूचे विपक्ष को साधने में लगे हैं. कोशिश है कि राष्ट्रवादी कांग्रेस (NCP) के प्रमुख शरद पवार को अगले राष्ट्रपति के प्रत्याशी के तौर पर विपक्ष का उम्मीद्वार बानने की जुगत में लग गए हैं.

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने मंगलवार को गांधी परिवार से मुलाकात की थी. इस दौरान उन्होंने सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी के सामने ये बात रखी कि विपक्ष की ओर से शरद पवार राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार होंगे.

  • Share this:
नई दिल्ली. चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर और गांधी परिवार के बीच मंगलवार को हुई मुलाकात के बाद राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार को लेकर लगाई जा रही अटकलों पर उन्होंने खुद विराम लगाया है. न्यूज18 इंडिया के साथ खास बातचीत में शरद पवार ने राष्ट्रपति की उम्मीदवारी की खबरों को खारिज किया. उन्होंने कहा, प्रशांत किशोर से राष्ट्रपति पद पर मेरी उम्मीदवारी पर कोई चर्चा नहीं हुई है. मंगलवार को किशोर ने राजधानी दिल्ली स्थित सांसद के आवास पर राहुल गांधी, प्रियंका गांधी वाड्रा से मुलाकात की थी. इस बैठक के बाद खबर आई थी कि इस दौरान राज्यों में चुनाव पर नहीं, बल्कि आगामी राष्ट्रपति चुनाव को लेकर चर्चा की गई है.

इस दौरान उम्मीदवार के तौर पर विपक्षी दलों की पसंद के रूप में राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के प्रमुख शरद पवार का नाम सामने आया है. बता दें कि हाल ही में प्रशांत किशोर ने दो बार पवार से उनके आवास पर मुलाकात की थी. उस दौरान कयास लगाए जा रहे थे कि देश के विपक्षी दल सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ नए सियासी समीकरण या तीसरे मोर्चे की तैयारी कर रहे हैं. बता दें कि साल 2022 में ही राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का कार्यकाल पूरा होगा, ऐसे में देश को एक नए राष्ट्रपति की तलाश होगी.

5 साल बाद हुई प्रशांत किशोर और राहुल गांधी की मुलाकात
मालूम हो कि पांच साल बाद प्रशांत किशोर की राहुल गांधी से मुलाकात हुई है. इससे पहले 2017 में उत्तर प्रदेश चुनाव में प्रशांत किशोर कांग्रेस के चुनावी रणनीतिकार के तौर पर काम कर रहे थे, लेकिन कांग्रेस की बुरी हार हुई. कांग्रेस ने समाजवादी पार्टी के साथ मिलकर चुनाव लड़ा और 'यूपी के दो अच्छे लड़के' का नारा दिया था.. जो कि फेल हो गया था.

कांग्रेस और सपा की करारी हार के बाद प्रशांत किशोर ने कांग्रेस के कामकाज पर सवाल उठाते हुए पार्टी को जिद्दी और अहंकारी बताया था. प्रशांत किशोर ने कहा था कि कभी भी कांग्रेस के साथ काम नहीं करेंगे, हालांकि प्रियंका गांधी के साथ संपर्क बने रहेंगे.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.