तरुण तेजपाल निर्दोष साबित होंगे या होगी जेल? 7 साल पुराने बलात्कार मामले में आज फैसला सुनाएगी कोर्ट

‘तहलका’ पत्रिका के पूर्व मुख्य संपादक तरुण तेजपाल. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

‘तहलका’ पत्रिका के पूर्व मुख्य संपादक तरुण तेजपाल. (रॉयटर्स फाइल फोटो)

Tarun Tejpal Rape Case: तेजपाल के खिलाफ एक महिला ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे. महिला के आरोपों के अनुसार, गोवा (Goa) में आयोजित कार्यक्रम के दौरान पांच सितारा होटल की लिफ्ट में तेजपाल ने उनका उत्पीड़न किया था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 27, 2021, 5:19 PM IST
  • Share this:
पणजी. बलात्कार के आरोपों का सामना कर रहे तहलका (Tehalka) के पूर्व संपादक तरुण तेजपाल (Tarun Tejpal) पर मंगलवार को अदालत का फैसला आ सकता है. कहा जा रहा है कि उत्तरी गोवा में जिला एवं सत्र न्यायाधीश आज इस मामले में बड़ा फैसला सुना सकती हैं. तेजपाल पर साल 2013 में एक महिला के साथ यौन उत्पीड़न के आरोप हैं. गोवा की अदालत में यह मामला बीते 7 सालों से जारी है. हालांकि, तेजपाल तमाम आरोपों को नकारते रहे हैं.

क्या था मामला

तेजपाल के खिलाफ एक महिला ने यौन उत्पीड़न के आरोप लगाए थे. महिला के आरोपों के अनुसार, गोवा में आयोजित कार्यक्रम के दौरान पांच सितारा होटल की लिफ्ट में तेजपाल ने उनका उत्पीड़न किया था. जिसके चलते पूर्व संपादक को 30 नवंबर 2013 को गिरफ्तार कर लिया गया था. हालांकि, उन्हें बाद में जमानत पर रिहा कर दिया गया था. अतिरिक्त जिला एवं सत्र अदालत की न्यायाधीश क्षमा जोशी ने आठ मार्च को तेजपाल मामले में अंतिम दलीलें सुनी.

Youtube Video

यह भी पढ़ें: तेजपाल के खिलाफ बलात्कार के मुकदमे की सुनवाई एक साल में हो पूरी: सुप्रीम कोर्ट

विशेष लोक अभियोजक फ्रांसिस्को तवोरा ने समाचार एजेंसी एएनआई को बताया कि कोर्ट सुबह के सत्र में मामले में अपना अंतिम फैसला सुनाएगा. भाषा के अनुसार, तेजपाल भारतीय दंड संहिता की धारा 341, 342, 354, 354ए, 354बी, 376 और 376(2)(के) के तहत आरोपों का सामना कर रहा है. मापुसा शहर में उत्तर गोवा जिला एवं सत्र अदालत ने बंद कमरे में दलीलें सुनीस जिसमें अभियोजन पक्ष के 71 और बचाव पक्ष के पांच गवाहों के बयान दर्ज किए गए.





गोवा अपराध शाखा ने तेजपाल के खिलाफ फरवरी 2014 में 2,846 पृष्ठों का आरोपपत्र दायर किया था. तेजपाल ने यह कहते हुए आरोपों को खारिज किया कि गोवा में भाजपा सरकार ने ‘राजनीतिक प्रतिशोध’ के तहत ये आरोप लगाए.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज