• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • क्या स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए वैक्सीनेशन जरूरी होगा? जानें नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने क्या कहा

क्या स्कूल जाने वाले बच्चों के लिए वैक्सीनेशन जरूरी होगा? जानें नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल ने क्या कहा

डॉ. पॉल ने कहा कि स्कूली टीचर्स और स्कूल के स्टॉफ के लिए वैकसीनेशन अनिवार्य है. (फाइल फोटो)

डॉ. पॉल ने कहा कि स्कूली टीचर्स और स्कूल के स्टॉफ के लिए वैकसीनेशन अनिवार्य है. (फाइल फोटो)

डॉ. पॉल ने कहा कि बच्चों के लिए वैक्सीन (Corona Vaccination) पर सरकार तेजी से काम कर रही है. इसके लिए जायडस कैडिला (Zydus Cadila) वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है और वैक्सीन के अभी तक के परीक्षण भी काफी अच्छे रहे हैं. उन्होंने कहा कि वैक्सीन आने के बाद किन बच्चों को वैक्सीन पहले दी जाए इस पर विचार विमर्श चल रहा है.

  • News18Hindi
  • Last Updated :
  • Share this:

नई दिल्ली: कोरोना महामारी का प्रभाव देश की पूरी अर्थव्यवस्था पर पड़ा है लेकिन इसका सबसे बुरा प्रभाव शिक्षा पर पड़ा है. पिछले करीब दो सालों से स्कूल बंद हैं. कोरोना (Coronavirus) के हालात बेहतर होने पर कई राज्यों में स्कूल फिर से खोल दिए गए. अब बच्चों के वैक्सीनेशन (Corona Vaccination) पर नीति आयोग (Niti Aayog) के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने बड़ी बात कही है. उन्होंने कहा कि स्कूल जाने वाले बच्चों पर वैक्सीनेशन का दबाव नहीं है.

डॉ. पॉल ने कहा कि बच्चों के लिए वैक्सीन पर सरकार तेजी से काम कर रही है. इसके लिए जायडस कैडिला वैक्सीन को मंजूरी दे दी गई है और वैक्सीन के अभी तक के परीक्षण भी काफी अच्छे रहे हैं. उन्होंने कहा कि वैक्सीन आने के बाद किन बच्चों को वैक्सीन पहले दी जाए इस पर विचार विमर्श चल रहा है.

बच्चों के लिए अनिवार्य नहीं है वैक्सीन
उन्होंने कहा कि देश में एक बार फिर से स्कूलों को खोला जा रहा है. स्कूल जाने के लिए बच्चों पर वैक्सीनेशन का दबाव नहीं है, बच्चों के लिए वैक्सीन अनिवार्य नहीं है. डॉ. पॉल ने कहा कि स्कूली टीचर्स और स्कूल के स्टॉफ के लिए वैक्सीनेशन अनिवार्य है.

आपको बता दें कि केंद्र सरकार ने बच्चों को कोरोना संक्रमण से बचाने लिए जायडस कैडिला की ZyCoV-D वैक्सीन को मंजूरी दे दी है. उम्मीद जताई जा रही है कि अक्टूबर माह तक ये वैक्सीन आ जाएगी. जायडस की यह वैक्सीन पूरी तरह से स्वदेशी वैक्सीन है और इसे 12 वर्ष से अधिक उम्र और 18 वर्ष से कम उम्र के बच्चों को दिया जाएगा.

जायडस कैडिला वैक्सीन से पहले देश में सीरम इंस्टीट्यूट की कोविशील्ड, भारत बॉयोटेक की कोवैक्सीन, रूस की स्पूतनिक वी, मॉडर्ना और जानसन एंड जॉनसन की वैक्सीन का इस्तेमाल किया जा रहा था. जाइडस ने 1 जुलाई को आपातकालीन इस्तेमाल के लिए आवेदन किया था.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

हमें FacebookTwitter, Instagram और Telegram पर फॉलो करें.

विज्ञापन
विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज