कोरोना वायरस: विदेश में रहने वाले केरल के लोगों की बढ़ रही है मौत संख्या, सरकार ने शुरू की हेल्पलाइन सेवा

मास्क पहनने के बाद ये सुनिश्चित करें कि वह नाक के ऊपर तक आए और ठुड्डी के नीचे तक कवर करें.
मास्क पहनने के बाद ये सुनिश्चित करें कि वह नाक के ऊपर तक आए और ठुड्डी के नीचे तक कवर करें.

Coronavirus: विदेश में रह रहे केरल के अब तक 24 लोगों की मौत हो गई है. ऐसे में राज्य सरकार ने लोगों की मदद के लिए हेल्पलाइन डेस्क की शुरूआत की है.

  • Share this:
कोच्चि. भारत में कोरोना वायरस का सबसे पहला मामला केरल (Kerala) से आया था. और अब विदेश में रहने वाले केरल के ही सबसे ज्यादा लोगों की मौत हो रही है. ऐसे में राज्य सरकार ने लोगों की मदद के लिए हेल्पलाइन डेस्क की शुरूआत की है. इसके जरिए लोगों को हर संभव मदद की जाएगी. इसका ऐलान खुद केरल के मुख्यमंत्री पी. विजयन ने किया.

हेल्पलाइन उन पांच देशों में शुरू की जाएगी जहां केरल के सबसे ज्यादा लोग रहते हैं. सबसे पहला हेल्पडेस्क यूनाइटेड अरब एमिरेट्स में शुरू किया जाएगा. पी. विजयन ने कहा, 'हमलोग विदेश में केरल के लोगों के मौत के लिए बेहद परेशान हैं. अमेरिका जैसे देश से हमारे लोगों की मौत की खबरें लगातार आ रही है. लोगों को कुछ भी समझ नहीं आ रही है कि उन्हें ऐसे में क्या करना चाहिए. हमने अलग-अलग देशों के राजदूतों से कहा है कि इन हेल्पलाइन नंबरों के जरिए लोगों की मदद की जाए.'

मुख्यमंत्री ने गैर-आवासीय केरलवासियों ((NRK) के लिए एक ऑनलाइन चिकित्सा परामर्श सुविधा की भी घोषणा की है. उन्होंने कहा, 'हम उन डॉक्टरों की भी व्यवस्था करेंगे जो NRK की मदद कर सकते हैं. वे NORKA-ROOTS वेबसाइट पर पंजीकरण करने के बाद अपने स्वास्थ्य संबंधी चिंताओं का समाधान कर सकते हैं और यह सुविधा दोपहर 2 बजे से शाम 6 बजे तक होगी. वे सामान्य चिकित्सा, स्त्री रोग, सर्जरी, पैडियाट्रिक्स, ईएनटी, आर्थोपेडिक्स और नेत्र विज्ञान के विशेषज्ञों के साथ ऑडियो या वीडियो कॉल पर हेल्पलाइन के माध्यम से डॉक्टरों से बात कर सकते हैं.'



बता दें कि विदेश में रह रहे केरल के अब तक 24 लोगों की मौत हो गई है. इसमें सबसे ज्यादा लोग अमेरिका में रहते थे. इसके अलावा दुबई से भी परेशान करने वाली खबरें लगातार आ रही हैं.

ये भी पढ़ें:

कोरोना की वजह से नौकरी जाने पर अब नहीं सताएगी पैसों की टेंशन,ऐसे करें प्लानिंग

15 अप्रैल से फिर चल सकती हैं ट्रेनें, सिर्फ स्लीपर क्लास में ही मिलेगा टिकट
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज