Home /News /nation /

woman dies after being in coma for 7 years bill of rs 9 5 crore made during treatment

7 साल तक कोमा में रहने के बाद महिला की मौत, इलाज में खर्च हुए 9.5 करोड़ रुपये

2015 में पूनम राणा अस्पताल में भर्ती हुई थीं.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

2015 में पूनम राणा अस्पताल में भर्ती हुई थीं.(प्रतीकात्मक तस्वीर)

7 साल तक पूनम राणा अस्पताल में जिंदगी और मौत से लड़ती रहीं. डॉक्टरों ने उनकी सेवा में कोई कमी नहीं छोड़ी. पत्नी को बचाने की खातिर पति ने अपनी सारी जमा पूंजी लगा दी, मगर आखिर में पूनम की सांसों की डोर टूट गई. आखिर पूनम ऐसी कौन-सी बीमारी की शिकार हुई थीं... जानिए

अधिक पढ़ें ...

बेंगलुरु. आज से तकरीबन 7 साल पहले पूनम राणा नाम की एक महिला पेट दर्द की शिकायत के साथ बेंगलुरु शहर के मणिपाल अस्पताल में आई थीं. उस वक्त उन्हें क्या मालूम था कि वह फिर अस्पताल से अपने घर वापस नहीं जा पाएंगी. 7 साल तक कोमा में रहीं और आखिरकार बीते मंगलवार को सांसों ने उनका साथ छोड़ दिया. अक्टूबर 2015 में पेट दर्द की वजह से पूनम राणा अस्पताल में भर्ती हुई थीं. शुरुआती जांच के बाद उन्हें सर्जरी की सलाह दी गई. मगर आगे की जांच में डॉक्टरों ने पाया कि पूनम की समस्या गंभीर है.

2 अक्टूबर 2015 को उन्हें एमआईसीयू (मेडिकल इंटेसिव केयर यूनिट) में भर्ती कराया गया. इस दौरान वह कोमा में चली गईं. डेक्कन हेराल्ड की एक रिपोर्ट के मुताबिक, मणिपाल अस्पताल ने बयान जारी कर कहा, ‘बीते सात सालों में उनकी देखरेख में कोई कमी नहीं की गई. उन्हें स्वास्थ्य सुविधा मुहैया की गई. तमाम कोशिशों के बावजूद 24 मई 2022 को दोपहर 12 बजे बीमारी की वजह से उन्होंने दम तोड़ दिया.’

9.5 करोड़ रुपये का आया बिल
पूनम दिल्ली की रहने वाली थीं और एक सॉफ्टवेयर कंपनी में काम करती थीं. उनकी शादी बेंगलुरु में बसे केरल के रहने वाले रेजिश नायर से हुई थी. दोनों के बच्चे नहीं थे. 36 साल के नायर ने कहा कि जब उनकी पत्नी की मौत हुई तो वह डीप कोमा में थीं. नायर का कहना है कि इलाज के दौरान उन्हें 9.5 करोड़ रुपये का बिल दिया गया था, जिसमें से उन्होंने 2 करोड़ रुपये का भुगतान किया था.

42 साल तक अरुणा थीं कोमा में
इससे पहले अरुणा शानबाग 42 साल तक कोमा में रही थीं, जिनकी मौत 68 साल की उम्र में 18 मई 2015 को हुई. साल 1973 में अरुणा मुंबई के केईएम हॉस्पिटल में रेप की शिकार हुई थीं. इस घिनौने अपराध को अंजाम देने वाले वार्ड बॉय सोहनलाल ने अरुणा के गले में कुत्ते को बांधने वाली चेन लपेटकर मारने की कोशिश की थी. छूटने के लिए अरुणा ने खूब ताकत लगाई, मगर गले की नसें दबने की वजह से वह बेहोश हो गईं और कोमा में चली गईं. इसके बाद वह कभी ठीक नहीं हो सकीं.

Tags: Bengaluru, Hospitals

विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर