पति की खोपड़ी का टुकड़ा लेकर थाने पहुंची महिला, पुलिस को सुनाया ये दुखड़ा

छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बिलासपुर (Bilaspur) में दिल को दहला देने वाला एक मामला सामने आया है.

News18 Chhattisgarh
Updated: September 3, 2019, 11:57 AM IST
पति की खोपड़ी का टुकड़ा लेकर थाने पहुंची महिला, पुलिस को सुनाया ये दुखड़ा
छत्तीसगढ़ के बिलासपुर में दिल को दहला देने वाला एक मामला सामने आया है. (Demo Pic)
News18 Chhattisgarh
Updated: September 3, 2019, 11:57 AM IST
बिलासपुर: छत्तीसगढ़ (Chhattisgarh) के बिलासपुर (Bilaspur) में दिल को दहला देने वाला एक मामला सामने आया है. बिलासपुर के सिटी कोतवाली पुलिस थाने (Police Station) में एक महिला अपने ही पति के खोपड़ी का एक टुकड़ा लेकर पहुंच गई. इसके बाद वहां हड़कंप मच गया. महिला का पति बीमार है और उसका इलाज बिलासपुर के ही एक निजी अस्पताल में चल रहा है. महिला का आरोप है कि अस्तपाल प्रबंधन ने उसके पति को बंधक बनाकर रखा है. इलाज के नाम पर अब तक 7 लाख रुपये तक जमा करा लिए गए हैं.

जांजगीर-चांपा (Janjgir-Champa) जिले के पामगढ़ थाना क्षेत्र के ग्राम मेउ निवासी शिवकुमारी कुर्रे बिलासपुर (Bilaspur) कोतवाली पहुंची. शिवकुमारी ने पुलिस से शिकायत की है कि उसका पति संजय कुमार एक माह पहले कोरबा (Korba) जिले के खंडई मेला में सामान बेचने गया था. मेले से वापसी के दौरान वो सड़क हादसे में घायल हो गया. इस हादसे में संजय कुमार के सिर समेत कई अंगों में गंभीर चोंट आई. इसके बाद बाद बीते 28 जुलाई को उसे इलाज के लिए पामगढ़ के सरकारी अस्पताल में भर्ती कराया गया.

72 घंटे में ठीक करने का दिलाया भरोसा
शिवकुमारी ने पुलिस को बताया कि संजय की हालत को देखते हुए डॉक्टर्स ने बिलासपुर के गांधी चौक स्थित श्री रामकृष्ण अस्पताल रेफर कर दिया. अस्पताल प्रबंधन ने 72 घंटे के भीतर उसे ठीक करने का भरोसा दिलाया. लेकिन एक महीने बीत जाने के बाद भी उसकी हालत में सुधार नहीं हुआ. इलाज के नाम पर अब तक 7 लाख रुपये तक जमा कराए जा चुके हैं. डॉक्टर लगातार पैसा मांग रहे हैं. शिवकुमारी का कहना है कि वो अपने पति का इलाज दूसरे जगह कराना चाहती है, लेकिन अस्पताल प्रबंधन ने उसे बंधक बना लिया है.

तीन लाख रुपये की और मांग
शिवकुमारी का कहना है कि कोमा में पति के होने के बारे में जब वो पूछताछ करने डॉक्टर के पास गई तो डॉक्टर ने उसे खोपड़ी का एक हिस्सा थमा दिया और इलाज के लिए फिर से 3 लाख रुपए की और मांग की. महिला इससे परेशान होकर सिटी बीते दो सितंबर को कोतवाली पुलिस थाने पहुंची. रामकृष्ण हास्पिटल के डॉक्टर दिग्विजय सिंह का कहना है कि घायल मरीज 25 दिन से पहले से यहां भर्ती है. कुल 5 लाख 90 हजार रुपए का बिल बना है. 7 लाख रुपए का बिल बनाने की बात झूठी है न ही हमने बंधक बनाया है.

ये भी पढ़ें: न्याय के इस दरबार में भगवान को भी मिलती है सजा, जानें कैसी है ये अनोखी प्रथा? 
Loading...

ये भी पढ़ें: दंतेवाड़ा उपचुनाव: जहां नक्सलियों ने की थी पति की हत्या, वहीं से प्रचार शुरू करेंगी BJP प्रत्याशी

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: September 3, 2019, 11:57 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...