रोहित शेखर मर्डर केस में 'पति, पत्नी और वो' का एंगल, इस कारण हुआ कत्ल!

रोहित शेखर मर्डर केस में 'पति, पत्नी और वो' का एंगल, इस कारण हुआ कत्ल!
एनडी तिवारी और उज्जवला के साथ रोहित शेखर (फाइल फोटो)

एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि शुक्ला ने खुलासा किया उनके पति ने उन्हें बताया कि महिला रिश्तेदार और वह एक ही गिलास शेयर कर रहे थे.

  • News18Hindi
  • Last Updated: April 25, 2019, 10:11 AM IST
  • Share this:
(नितिशा कश्यप)

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एनडी तिवारी के बेटे रोहित शेखर की आकस्मिक मौत किसी थ्रिलर फिल्म से कम नहीं है. रोहित शेखर का कातिल कोई बाहरी नहीं, बल्कि घर में ही मौजूद था. वो है उनकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला. पुलिस के सामने उसने जुर्म भी कबूल कर लिया है.

पुलिस पूछताछ में सामने आया कि दोनों के रिश्तों में तनाव था और यही रोहित की हत्या की वजह बनी. वारदात की रात अपूर्वा और रोहित के बीच काफी झगड़ा हुआ था. रोहित नशे में था और अपूर्वा ने तकिये से उसका गला घोट दिया. नशे में होने के कारण रोहित शेखर अपना बचाव नहीं कर पाया. इसके बाद उसकी पत्नी ने सबूत मिटाए. ये सब कुछ 90 मिनट के भीतर हुआ. जुर्म कबूल करने के बाद साकेत कोर्ट ने अपूर्वा को दो दिन की पुलिस कस्टडी में भेज दिया है.



रोहित शेखर तिवारी की हत्या करने वाली उसकी पत्नी अपूर्वा शुक्ला के 'लॉयर माइन्ड' को क्रेडिट देते हुए पुलिस ने कहा कि उससे सच्चाई उगलवाना आसान नहीं था. एक सीनियर अधिकारी ने कहा, "उसने बयानों को तोड़ने-मरोड़ने की कोशिश की. बाद में अपनी शादीशुदा जिंदगी की समस्याओं के बारे में बताया."
अपूर्वा शुक्ला की शादीशुदा जिंदगी अच्छी नहीं चल रही थी, वह उच्च-जीवनशैली की इच्छुक थी और राजनीति और संपत्ति को लेकर उसकी महत्वकांक्षा पूरी नहीं हो पाई. नतीजा उसके पति की हत्या के तौर पर सामने आया.

ताबूत पर आखिरी कील, शराब का गिलास और महिला रिश्तेदार
अपूर्वा शुक्ला अपने पति रोहित शेखर के चचेरे भाई की पत्नी के साथ उनकी नजदीकियां पसंद नहीं करती थी. इस बात को उसने साफ-साफ कहा भी था. लेकिन इसके बावजूद वह रिश्तेदार पारिवारिक समारोहों के दौरान उनके डिफेंश कलॉनी के घर में आती थी.

10 अप्रैल को रोहित शेखर वोट डालने के लिए अपने कुछ रिश्तेदारों के साथ उत्तराखंड के हल्द्वानी गए थे. अगले दिन जब वह लौट रहे थे, तब अपूर्वा ने रोहित को वीडियो कॉल किया. तभी उसने देखा कि रोहित के साथ उसके चचेरे भाई की बीवी भी थी.एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा कि अपूर्वा ने खुलासा किया उनके पति ने उन्हें बताया कि महिला रिश्तेदार और वह एक ही गिलास शेयर कर रहे थे.


रोहित करीब 10 बजे घर पहुंचे और फिर उसकी पत्नी ने डिनर सर्व किया. उसी दिन रोहित के चचेरे भाई अपनी पत्नी के साथ उनके घर आए थे. रात के खाने के बाद दोनों तिलक लेन बंगले में लौट गए. अपूर्वा शुक्ला इसी रिश्तेदार की पत्नी को पसंद नहीं करती थी.

चचेरे भाई और उनकी पत्नी के जाने के बाद रोहित शेखर कुछ समय के लिए मां और अपूर्वा के साथ बैठे, लेकिन थकान की वजह से वह जल्द ही पहली मंजिल पर अपने कमरे में चले गए. बाद में उज्जवला भी तिलक लेन बंगले में सोने चली गईं. एक अधिकारी ने कहा, 'करीब 12.45 बजे टीवी देखने के बाद अपूर्वा, रोहित के कमरे में गई. जब वे कमरे में थे तो दोनों में झगड़ा हुआ.'

एडिशनल कमिश्नर (क्राइम) राजीव रंजन के अनुसार, 'अपूर्वा शुक्ला ने अपने पति की पिटाई की और उसका गला घोट दिया. नशे में होने के कारण रोहित किसी भी तरह का प्रतिरोध करने में सक्षम नहीं था.' पोस्टमार्टम रिपोर्ट के अनुसार रोहित की मौत रात को करीब 1 बजे हुई, क्योंकि उसका खाना आधा ही पचा था.


ये भी पढ़ें- सुप्रीम कोर्ट में वकील हैं रोहित शेखर की पत्नी अपूर्वा, ऐसी है उनकी लाइफ

अपूर्वा शुक्ला तक ऐसे पहुंची पुलिस

पुलिस अधिकारियों को घटनाओं के क्रम को जोड़ने और रोहित शेखर की पत्नी तक पहुंचने में चार दिन का वक्त लगा. जिस दिन रोहित शेखर की मौत हुई, घर में छह लोग थे. छह में से केवल तीन ही लोग ऐसे थे, जिनकी पहुंच पहली मंजिल तक थी. ये तीन लोग थे- अपूर्वा शुक्ला, नौकर गोलू और ड्राइवर अखिलेश.

कई दौर की पूछताछ के दौरान, गोलू और अखिलेश अपने बयानों पर अड़े रहे. उन्हें वक्त पर वेतन मिल रहा था और काम संतोषजनक था, लिहाजा उन्हें क्लीन चिट दे दी गई. सीसीटीवी फुटेज के मुताबिक उस दिन शेखर के रिश्तेदार ऊपर नहीं गए थे.

अधिकारी ने बताया कि रोहित की मां और अन्य रिश्तेदार तिलक लेन वाले बंगले में लौट आए और उनके नौकर भी अपने कमरे में चले गए. उनके सौतेले भाई भी अपनी ही कमरे में थे.


अगले दिन दोपहर 2:30 बजे रोहित की मां आई और बेटे के बारे में पूछा. अपूर्वा शुक्ला ने कहा कि वह सो रहा है. उसकी मां ने उसे परेशान नहीं किया, क्योंकि वह जानती थी कि उसे अनिद्रा की समस्या है और वह देर शाम तक सोता रहता है.पुलिस ने बताया कि शाम करीब 4 बजे उसके एक नौकर ने ध्यान दिया कि रोहित जवाब नहीं दे रहे हैं और उसके नाक से खून बह रहा है.

रोहित शेखर की मां उस वक्त साकेत के मैक्स हॉस्पिटल में थीं, जब उन्हें फोन कॉल आया कि शेखर ठीक नहीं है. इसके बाद शेखर को एंबुलेंस से हॉस्पिटल लाया गया डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर उनकी बॉडी को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया. अपूर्वा शुक्ला ही एकमात्र ऐसी थी, जो उस दिन पहली मंजिल पर गई थी और बार-बार बयान बदल रही थी.

अपूर्वा शुक्ला के बदलते बयान

पूछताछ के दौरान अपूर्वा शुक्ला लगातार अपने बयान बदलती रही. उसने पूछताछ करने वालों के यह भी बताने की कोशिश की कि  फिजिकल रिलेशन बनाने के दौरान उसने गलती से गला घोटकर रोहित शेखर की हत्या कर दी.

पुलिस ने भी अपने बयान में कहा कि अपूर्वा ने गला दबाकर रोहित शेखर की हत्या की और कुछ देर वही बैठी रही. इसके बाद वह दूसरे कमरे में आ गई, जहां वह सारी रात भर सो नहीं सकी. स्पेशल सीपी क्राइम सतीश गोलचा ने कहा, "मामला कोर्ट में खारिज न हो इसके लिए हमें ठोस सबूत चाहिए थे. इसलिए गिरफ्तारी में समय लगा."


एडिशनल सीपी क्राइम राजीव रंजन ने कहा कि हत्या पूर्व निर्धारित नहीं लगती है. यह गुस्से में हुआ लगता है. पुलिस ने कहा कि बेडशीट, गद्दा और अन्य नमूने फोरेंसिक जांच के लिए भेजे गए हैं, जबकि विसरा रिपोर्ट आनी बाकी है, जिससे पता चल जाएगा कि हत्या से पहले ड्रग दिया गया था या नहीं.

ये भी पढे़ं- रोहित शेखर हत्याकांड: क्या CCTV फुटेज ने खोल दिए पत्नी अपूर्वा के सारे 'राज'?

अपूर्वा की महत्वाकांक्षा और कमजोर शादी 

मध्य प्रदेश के एक 35 वर्षीय वकील अपूर्वा शुक्ला और रोहित शेखर की मुलाकात 2017 में एक मैट्रोमोनियल वेबसाइट के माध्यम से हुई थी. फिर दोनों लखनऊ में मिले और एक-दूसरे को डेट करने लगे. मई 2018 में उनकी शादी हुई. एक अधिकारी ने बताया कि वह जानती थी कि वह यूपी और उत्तराखंड के पूर्व सीएम एनडी तिवारी के बेटे हैं.

बताया जाता है कि अपूर्वा शुक्ला एक महत्वाकांक्षी महिला है और उसकी राजनीतिक आकांक्षाएं भी हैं, लेकिन मई में शादी करने के बाद उसने महसूस किया रोहित के पास ज्यादा कुछ नहीं है. उसका राजनीतिक करियर भी कहीं नहीं पहुंच रहा था.

दोनों के बीच तलाक की नौबत आ गई थी. अपने कोर्टशिप पीरियड के दौरान वे तीन महीने के लिए अलग हो गए. हालांकि, बाद में मसले को सुलझा लिया. उन्होंने 2018 में शादी की थी, लेकिन एक पखवाड़े के भीतर ही अलग रहने लगे.


अधिकारी ने कहा, "अपूर्वा कभी-कभी अपने माता-पिता के घर पर रहती थी और कभी-कभी उस घर में जहां वह शादी से पहले किराये पर रहा करती थी.” अपूर्वा कुछ समय के लिए इंदौर गई और अगस्त 2018 में एक कानूनी नोटिस के जरिए बताया कि रोहित शेखर अच्छा पति नहीं है.

शेखर के पितृत्व मुकदमे की लंबी लड़ाई लड़ने वाले वकील वेदांत वर्मा ने कहा कि वह अपनी पत्नी से तलाक पर विचार कर रहे थे. दोनों का वैवाहिक जीवन अच्छा नहीं चल रहा था और रोहित ने एक से अधिक मौकों पर वर्मा से इस संबंध में सहायता मांगी थी.

वेदांत वर्मा ने कहा, “रोहित ने अपूर्वा से तलाक लेने की इच्छा जाहिर की थी. हालांकि तलाक के बारे में अंतिम निर्णय के बारे में मुझे सूचित नहीं किया गया. उसने मुझे इस बारे में आगे बढ़ने के लिए कुछ नहीं कहा." वर्मा ने कहा कि शादी के एक दिन बाद से ही दोनों के बीच मतभेद थे. हालांकि उन्होंने रोहित के भाभी के सथ संबंध होनें की खबरों का खंडन कर दिया.

संपत्ति विवाद

रोहित और अपूर्वा का 300 वर्ग फीट वाला डिफेंस कॉलोनी का निवास, जिसकी कीमत करोड़ों में है, उज्जवला के नाम पर था. उज्जवला ने शेखर की शादी से पहले वसीयत बनाई थी. वसीयत के अनुसार, घर का 40% हिस्सा उज्जवाल के पहले पति से बेटे सिद्धार्थ के नाम पर होगा और 60% रोहित के नाम पर. अगर उनमें से किसी एक की मौत हो जाती है, तो संपत्ति या तो दूसरे बेटे या मां को ट्रांसफर हो जाएगी. जैसा कि रोहित शेखर की शादी से पहले वसीयत बनाई गई थी, वैसे ही जारी रही और अपूर्वा शुक्ला को हिस्सा नहीं मिला.

पूछताछ के दौरान पता चला कि रोहित ने अपने चचेरे भाई के बेटे को अपना हिस्सा देने का फैसला किया था. अधिकारी ने बताया कि रोहित शेखर ने कहा था कि वह अपनी संपत्ति का हिस्सा भाई के नौ साल के बेटे को दे देगा, जिससे अपूर्वा शुक्ला काफी नाराज थी, उसे लगा कि उसे शादी से कुछ नहीं मिल रहा है.


हालांकि, रोहित शेखर के वकील वेदांत वर्मा ने कहा कि संपत्ति विवाद का कोई एंगल नहीं था. उन्होंने कहा, “मेरी नॉलेज में कोई संपत्ति विवाद नहीं था. यहां तक कि रोहित जिस घर में रहता था उसका मालिकाना हक उसकी मां के पास था.”

ये भी पढ़ें: रोहित शेखर हत्याकांड: कोर्ट ने पत्नी अपूर्वा को दो दिन की पुलिस कस्टडी में भेजा

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज

corona virus btn
corona virus btn
Loading