NRC में नाम न होने की अफवाह सुन कुएं में कूदी महिला, बाद में सामने आई सच्चाई

News18Hindi
Updated: August 31, 2019, 8:59 PM IST
NRC में नाम न होने की अफवाह सुन कुएं में कूदी महिला, बाद में सामने आई सच्चाई
NRC में नाम होने की अफवाह सुन कुएं में कूदी महिला. (सांकेतिक तस्वीर)

महिला के पति शमशेर अली ने बताया कि एनआरसी (NRC) की आखिरी लिस्ट को लेकर महिला पहले से ही तनाव में थी. दरअसल 30 जुलाई 2018 को प्रकाशित सूची में उसके पति और दोनों बेटों का नाम नहीं था.

  • News18Hindi
  • Last Updated: August 31, 2019, 8:59 PM IST
  • Share this:
असम में बहुप्रतीक्षित राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) की फाइनल लिस्ट शनिवार को जारी कर दी गई है. 19 लाख से अधिक आवेदक इसमें अपना स्थान बनाने में विफल रहे. जिन लोगों का नाम लिस्ट में नहीं है उनका भविष्य अधर में लटक गया है, ऐसे में उन्हें तनाव में रहना पड़ रहा है.

एनआरसी की लिस्ट आने के बाद शनिवार को एक महिला ने सुसाइड कर लिया. दरअसल किसी ने महिला को बताया था कि लिस्ट में उसका नाम नहीं है. बाद में पता चला कि महिला का नाम लिस्ट में था.

घटना असम के सोनितपुर जिले की है. 60 वर्षीय सयारा बेगम को बताया गया कि एनआरसी की लिस्ट में उनका नाम नहीं है, जिसके बाद उसने कुएं में छलांग लगा दी. महिला को कुएं से निकालकर अस्पताल ले जाया गया, लेकिन तब तक उसकी मौत हो चुकी थी.

तनाव में थी महिला

महिला के पति शमशेर अली ने बताया कि एनआरसी की आखिरी लिस्ट को लेकर महिला पहले से ही तनाव में थी. दरअसल 30 जुलाई 2018 को प्रकाशित सूची में उसके पति और दोनों बेटों का नाम नहीं था. महिला के पति ने बताया कि उसे डर था कि कहीं फिर से उनका नाम सूची से बाहर हो सकता है. हालांकि उन्होंने बताया कि उनका और उनके बेटों का नाम एनआरसी की फाइनल सूची में है, लेकिन इससे पहले ही महिला ने कुएं में कूदकर अपनी जान दे दी.



19 लाख से अधिक लोग लिस्ट से बाहर
Loading...

एनआरसी के राज्य समन्वयक कार्यालय ने एक बयान में कहा कि 3,30,27,661 लोगों ने एनआरसी में शामिल होने के लिए आवेदन दिया था. इनमे से 3,11,21,004 लोगों को दस्तावेजों के आधार पर एनआरसी में शामिल किया गया है और 19,06,657 लोगों को बाहर कर दिया गया है.

बाहर हुए लोगों के पास अपील करने का मौका
जिन लोगों के नाम एनआरसी से बाहर रखे गये है, वे इसके खिलाफ 120 दिन के भीतर विदेशी न्यायाधिकरण (एफटी) में अपील दर्ज करा सकते हैं. यदि वे न्यायाधिकरण के फैसलों से संतुष्ट नहीं होते हैं तो वे उच्च न्यायालय और उच्चतम न्यायालय का रूख कर सकते हैं.

ये भी पढ़ें: NRC की फाइनल लिस्ट से बाहर हुए 19 लाख लोगों के पास बचे 120 दिन, करना होगा ये काम

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: August 31, 2019, 8:59 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...