Cyber Crime News: महिलाएं मरीजों की मदद के लिए अपना नाम लिखकर मैसेज फॉरवर्ड करते समय रहें सतर्क, जानें क्‍यों?

साइबर क्राइम एक्‍सपर्ट इस तरह की शिकायतें आ रही हैं.

साइबर क्राइम एक्‍सपर्ट इस तरह की शिकायतें आ रही हैं.

महिलाएं अपने परिजन या जानकार की मदद के लिए मैसेज फॉरवर्ड करती हैं. मैसेज के बाद महिलाओं को परेशान करने की शिकायतें मिल रही हैं. इसलिए सतर्क रहकर मैसेज करने की सलाह दी गई है.

  • Share this:

नई दिल्‍ली. महिलाएं अपने परिजन या जानकार की मदद के लिए मैसेज फॉरवर्ड करते समय सावाधानी बरतें. कुछ लोग इन मैसेज का गलत इस्‍तेमाल कर रहे हैं. महिलाओं को परेशान (harassment) करने की शिकायतें साइबर एक्‍सपर्ट (Cyber ​​Expert) के पास आ रही हैं. साइबर एक्‍सपर्ट इस परेशानी से बचने के तरीके बताए हैं.

साइबर क्राइम एक्‍सपर्ट और साइबरोप्‍स इनफोसेक के सीईओ मुकेश चौधरी बताते हैं कि सोशल ग्रुपों में भेजे जा रहे मैसेज में मदद मांगने वाले लोग अपना नाम लिख देते हैं. गलत प्रवृत्ति के लोग ऐसे मैसेजों पर नजर रखते हैं. जिन मैसेज पर महिलाओं का नाम लिखा होता है, उन्‍हें फोन कर या अश्‍लील मैसेज भेजकर कर महिलाओं को परेशान कर रहे हैं. मुकेश चौधरी बताते हैं कि उनके पास देश के अलग-अलग हिस्‍सों से इस तरह की शिकायतें आई हैं.

वे बताते हैं कि अगर महिलाएं किसी जानकार की मदद के लिए मैसेज फॉरवर्ड कर रही हैं तो नाम लिखने से बचें. अगर नाम लिखना जरूरी है तो पूरा नाम न खिलकर शॉर्ट में नाम लिखें. इस तरह फीमेल परेशान होने से बच सकती हैं. इसके अलावा अनजान नंबरों से आने वाली कॉल को उठाने से पहले ट्रू कॉलर पर जांच लें कि नंबर आपके के शहर का है या बाहर का. अगर ट्रू कॉलर में नंबर दूसरे शहर का दिख रहा है तो ऐसे नंबर न उठाएं. इस तरह की सावधानी बरत कर महिलाएं परेशानी से बच सकती हैं.

इस संबंध में गाजियाबाद जिले के एसपी सिटी निपुण अग्रवाल बताते हैं कि अगर किसी महिला के साथ इस तरह की घटना होती है तो वो तत्‍काल साइबर सेवा केन्‍द्र में जाकर शिकायत कर सकती हैं. इस पर तुरंत कार्रवाई की जाएगी.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज