बच्चा चोर समझकर 4 महिला भिखारियों पर भीड़ ने किया हमला, 1 की मौत

इस घटना के बाद अहमदबाद पुलिस कमिश्नर की और से इस मामले में एक एडवाइजरी जारी की गई है, जिसमें सोशल मीडिया पर इस तरह की अफवाहों को तूल देने से दूर रहने की गुजारिश की गई है.

News18Hindi
Updated: June 27, 2018, 9:37 AM IST
बच्चा चोर समझकर 4 महिला भिखारियों पर भीड़ ने किया हमला, 1 की मौत
(सांकेतिक तस्वीर)
News18Hindi
Updated: June 27, 2018, 9:37 AM IST
मेघदूत सरोन
गुजरात की आर्थिक राजधानी अहमदाबाद में एक उग्र भीड़ ने बच्चा चोर होने के शक में 4 महिला भिखारियों की पीटाई कर दी. भीड़ के हमले की शिकार इन महिलाओं में से एक की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि 3 अन्य गंभीर रूप से घायल हैं. तीनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है.

प्राप्त जानकारी के अनुसार, 30 लोगों की भीड़ ने बच्चा चोरी के शक पर चारों महिलाओं पर हमला किया. शहर के सरदार नगर इलाके में रहने वाली शांता देवी नाथ, आसूदेवी नाथ, लीलादेवी नाथ और अनासी वादाज इलाके से गुजर रही थीं. चारों महिलाएं ऑटो पर थीं, तभी भीड़ ने उन्हें पकड़ लिया और उन्हें मारने-पीटने लगे. भीड़ को शक था कि ये चारों महिलाएं बच्चों का अपहरण करती हैं. हालांकि इस बीच वहां मौजूद कुछ लोग महिलाओं को बचाने के लिए आगे भी आए और पुलिस को इसकी जानकारी दी.

वादाज पुलिस स्टेशन के इंस्पेक्टर जेए रठावा ने बताया कि घटना की सूचना मिलने पर उनकी टीम महिला अस्पताल पहुंची, जहां शांता देवी को मृत घोषित कर दिया गया था जबकि 3 अन्य का अस्पताल में इलाज चल रहा था.

पुलिस अधिकारी के मुताबिक, सभी महिलाएं सरदारनगर इलाके में रहती थीं और भीख मांगकर जीवनयापन किया करती थीं. राठवा ने कहा कि ट्रैफिक पुलिस के कुछ सिपाहियों ने उन महिलाओं को बचाने की कोशिश की, लेकिन भीड़ ने उनके साथ भी हाथापाई की, जिससे उन्हें भी काफी चोट आई है. जब एंबुलेंस घटना स्थल पर पहुंची, तब तक मृतक शांतादेवी बेहोश हो चुकी थीं.

माना जा रहा है कि वाट्सऐप पर फैली बच्चा चोरी से जुड़ी अफवाह के चलते महिलाओं पर भीड़ ने हमला किया. राठवा ने कहा, 'हमने 30 लोगों के खिलाफ दंगा फैलाना और हत्या करने का मामला दर्ज कर लिया है. संभव है कि महिला की मौत ऑटो पलटने से लगी सिर के चोट से हो गई हो. हमने संदिग्धों में से कुछ की पहचान कर ली है.'

घटना के समय उनके साथ रहीं मृतका की रिश्तेदार अनासी ने अपनी शिकायत में कहा है कि उनका समुदाय भीख मांगकर अपना जीवनयापन करता है. वह सभी राजस्थान के पाली जिले से अहमदाबाद आई थीं. अनासी ने अपनी शिकायत में बताया, 'हम चारों लोग ऑटो में जूना वादाज से गुजर रहे थे, तभी वहां कुछ लोग गाड़ियों पर आए और हमें पकड़ लिया. उन्होंने हम पर बच्चा चोरी का आरोप लगाया. कुछ और स्थानीय लोग आए और ऑटो पलट दिया. उन्होंने हमें मुक्के से और लातों से मारा.'
Loading...

इस घटना के बाद अहमदबाद पुलिस कमिश्नर की ओर से एक एडवाइजरी जारी की गई है, जिसमें सोशल मीडिया पर इस तरह की अफवाहों को तूल देने से दूर रहने की गुजारिश की गई है. एडवाइजरी में कहा गया है कि अगर कोई ऐसी बात सामने आती है, तो नजदीकी थाने में जाकर पहले पुलिस को सूचित किया जाए. पुलिस कमिश्नर ने सोशल मीडिया पर ऐसी अफवाह फैलाने वालों पर कानूनी कार्यवाही की भी चेतावनी दी है.

यह भी पढ़ें-
भारत को महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित देश बताने वाले सर्वे को NCW ने किया खारिज

PM मोदी पर अब तक का सबसे बड़ा खतरा, मंत्री-अधिकारी भी नहीं आ सकेंगे करीब

'वीर जवानों, अलबेलों-मस्तानों के देश' में सबसे ज्यादा असुरक्षित हैं महिलाएं
First published: June 27, 2018, 8:58 AM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...