अपना शहर चुनें

States

'सबरीमाला की सीढ़ियां चढ़ने की इच्छा जताई तो चली गई नौकरी, फोन पर मिल रही धमकियां'

अर्चना के राजन ने फेसबुक पर लिखा कि अब वे सबरीमाला जाकर पूजा करेंगी.
अर्चना के राजन ने फेसबुक पर लिखा कि अब वे सबरीमाला जाकर पूजा करेंगी.

फेसबुक पर सबरीमाला जाने की इच्छा जताने वाली महिला को गवांनी पड़ी नौकरी, फोन पर भी मिल रही हैं धमकियां

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 16, 2018, 11:11 PM IST
  • Share this:
(मीरा मनु)
फेसबुक पर सूर्या देवार्चना नाम से प्रोफाइल चलाने वाली अर्चना के राजन अब कोझीकोड छोड़ने की तैयारी कर रही हैं. दरअसल उन्होंने फेसबुक पर लिखा था कि अब वे सबरीमाला जाकर पूजा करेंगी. अर्चना के मुताबिक उनके इस फेसबुक पोस्ट के कारण उन्हें नौकरी से निकाल दिया गया. वहीं फोन पर भी उन्हें धमकियां मिल रही हैं.

अर्चाना बताती हैं, 'सबरीमाला जाने की इच्छा व्यक्त करने के बाद मेरी नौकरी चली गई. अभी भी मुझे फोन पर धमकियां दी जा रही है. अभी तो मैं यहां से जा रही हूं, लेकिन मैं अपने मिशन के लिए व्याकुल हूं. 41 दिनों की तपस्या पूरी करने के बाद मैं सबरीमाला मंदिर जाऊंगी.'

ये भी पढ़ें : SC के आदेश के पहले भी सबरीमाला मंदिर में थी महिलाओं की एंट्री!
केरल के कुन्नुर जिले की टीचर रेशमा निशांत की फेसबुक पोस्ट के बाद फेसबुक पर मंदिर में प्रवेश को लेकर ये दूसरी पोस्ट है. उसके मामले में वे 2006 से ही बिना नागा 41 दिनों की तपस्या करती रही हैं.


अपने अनिश्चित भविष्य को लेकर अर्चना चिंतित हैं, लेकिन उनका कहना है कि उन्हें कुछ समय लगेगा.
उनकी पोस्ट की शुरुआत में बताया गया है कि लोग कैसे सबरीमाला की पवित्र सीढ़िया चढ़ने की इच्छुक महिलाओं के विरोध में रहते हैं.

ये भी पढ़ें : सबरीमाला में महिला ने रखा पैर तो हमारी कार्यकर्ता करेंगी आत्महत्या- शिवसेना

‘तत्वमसि’ के एकीकरण के सिद्धांत का पालन करने वाली अर्चना याद करती हैं कि कैसे वे अपने पिता के साथ बचपन में मंदिर जाया करती थी. उनकी पोस्ट में कहा गया है, 'मैं तत्वमसि के सिद्धांत में पूरी तरह विश्वास करती हूं. ये मत सोचिए कि भगवान अयप्पा महिलाओं के विरुद्ध हैं. मलिकपुरम भी बहुत नजदीक है. अपनी मां के लिए शेरनी का दूध लाने वाला कैसे महिला विरोधी हो सकता है. सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद कोझीकोड के श्रीकांतेश्वरम मंदिर जा कर मैंने पवित्र माला पहनी और सबरीमाला जाने का फैसला किया. सरकार में मुझे यकीन है. उम्मीद है कि वहां जाकर पूजा करने में वो मेरा सपोर्ट करेगी.”
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज