World Happiness Report: दुनिया का सबसे खुशहाल देश फिनलैंड, 149 देशों की लिस्ट में 139वें नंबर पर भारत

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट के लिए गैलप डेटा का इस्तेमाल किया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट के लिए गैलप डेटा का इस्तेमाल किया गया. (प्रतीकात्मक फोटो)

World Happiness Report: वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट की रिपोर्ट में भारत 139वें नंबर पर है. 149 देशों की लिस्ट में बुरूंडी, यमन, तंजानिया, हैती, मालावी, लेसोथो, बोत्सवाना, रवांडा, जिम्बॉम्बे और अफगानिस्तान भारत से कम खुशहाल देश हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 20, 2021, 8:36 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली.  पिछले साल कोरोना वायरस (Coronavirus) ने पूरी दुनिया में तबाही मचा दी. बड़े से बड़े देश अर्श से फर्श पर आ गए. बढ़ती बेरोजगारी और बीमारी ने लोगों को परेशान कर दिया. लेकिन भारी मुश्किलों के बावजूद भी कई देशों में लोगों का हौसला नहीं टूटा. यूरोपीय देश फिनलैंड उनमें से एक है. संयुक्त राष्ट्र की वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट (World Happiness Report) में फिनलैंड लगातार चौथी बार दुनिया का सबसे खुशहाल देश बना है.

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट में डेनमार्क दूसरे नंबर पर है. इसके बाद स्विज़रलैंड और आइसलैंड की बारी है. नीदरलैंड्स को पांचवा स्थान मिला है. टॉप 10 देशों में न्यूज़ीलैंड एकमात्र गैर-यूरोपीय देश है जिसे इस रिपोर्ट में जगह मिली है. इसके अलावा ब्रिटेन 13वें पायदान से गिरकर 17वें नंबर पर पहुंच गया है.

हैप्पीनेस रिपोर्ट में भारत

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट की रिपोर्ट में भारत 139वें नंबर पर है. पिछले साल भारत को 156 देशों की लिस्ट में 144वां स्थान मिला. रिपोर्ट के मुताबिक बुरूंडी, यमन, तंजानिया, हैती, मालावी, लेसोथो, बोत्सवाना, रवांडा, जिम्बॉम्बे और अफगानिस्तान भारत से कम खुशहाल देश हैं. इसी तरह पड़ोसी देश चीन पिछले साल इस सूची में 94वें स्थान पर था, जो अब 19वें स्थान पर आ गया है. नेपाल 87वें, बांग्लादेश 101, पाकिस्तान 105, म्यांमार 126 और श्रीलंका 129वें स्थान पर है.
ये भी पढ़ें:- मुंबई: मास्‍क नहीं पहनने पर रोका तो महिला ने बीएमसी मार्शल की कर दी पिटाई

इस आधार पर हुआ तय

वर्ल्ड हैप्पीनेस रिपोर्ट के लिए गैलप डेटा का इस्तेमाल किया गया. गैलप ने 149 देशों में लोगों से अपनी हैप्पीनेस को रेट करने को कहा था. इसके अलावा इस डेटा में जीडीपी, सोशल सपोर्ट. आजादी और भ्रष्टाचार का स्तर भी देखा गया और फिर हर देश को हैप्पीनेस स्कोर दिया गया. ये स्कोर पिछले तीन सालों का औसत है.सर्वे में शामिल एक तिहाई से अधिक देशों में कोरोना महामारी की वजह से नकारात्मक भावनाएं बढ़ी हैं.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज