लोकतंत्र पर हमला, किसान आंदोलन के खिलाफ कार्रवाई पर कमला हैरिस की बहन की बेटी का ट्वीट

कृषि कानूनों के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन। (मीना हैरिस ट्विटर)

Kisan Aandolan: तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने और फसलों पर एमएसपी के लिए कानूनी गारंटी देने की मांग के साथ हजारों किसान कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे हैं।

  • Share this:

    अमेरिका की उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस की भांजी मीना हैरिस ने बुधवार को भारत में चल रहे किसान आंदोलन के समर्थन में ट्वीट करते हुए इसे सबसे आबाद लोकतंत्र पर हमला बताया है। मीना हैरिस जो कि पेशे से वकील हैं और एक किताब भी लिख चुकी हैं, ने नए कृषि कानूनों के खिलाफ कई दिनों से प्रदर्शन कर रहे किसानों को लेकर ट्विटर पर अपनी चिंता जाहिर की। मीना हैरिस कमला हैरिस की छोटी बहन माया हैरिस की बेटी हैं।


    मीना हैरिस ने ट्वीट किया, "यह एक संयोग नहीं है कि दुनिया के सबसे पुराने लोकतंत्र पर हमला किया गया. इस घटना को अभी एक महीना भी पूरा नहीं हुआ है. सबसे आबाद लोकतंत्र पर हमले का खतरा मंडरा रहा है और यह दोनों एक-दूसरे से जुड़ा है. किसान प्रदर्शनकारियों के खिलाफ सुरक्षाबलों की हिंसा और भारत में इंटरनेट पर प्रतिबंध को लेकर हमें अपनी आवाज बुलंद करनी चाहिए."


    गौरतलब है कि तीन कृषि कानूनों को वापस लिए जाने और फसलों पर न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के लिए कानूनी गारंटी देने की मांग के साथ पंजाब, हरियाणा और देश के विभिन्न हिस्सों से आए हजारों किसान दो महीनों से अधिक समय से राष्ट्रीय राजधानी की विभिन्न सीमाओं पर प्रदर्शन कर रहे हैं.



    क्या है मामला
    कृषि क्षेत्र में बड़े सुधार के तौर पर सरकार ने सितंबर में तीनों कृषि कानूनों को लागू किया था. सरकार ने कहा था कि इन कानूनों के बाद बिचौलिए की भूमिका खत्म हो जाएगी और किसानों को देश में कहीं पर भी अपने उत्पाद को बेचने की अनुमति होगी. वहीं, किसान तीनों कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग पर अड़े हुए हैं. प्रदर्शन कर रहे किसानों का दावा है कि ये कानून उद्योग जगत को फायदा पहुंचाने के लिए लाए गए हैं और इनसे मंडी और न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) की व्यवस्था खत्म हो जाएगी.