लाइव टीवी

कश्मीर में बन रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, एफिल टावर से 35 मीटर अधिक है ऊंचाई

News18Hindi
Updated: January 9, 2020, 3:14 PM IST
कश्मीर में बन रहा है दुनिया का सबसे ऊंचा पुल, एफिल टावर से 35 मीटर अधिक है ऊंचाई
एफिल टावर से 35 मीटर ज्यादा है इसकी ऊंचाई

इतनी ऊंचाई पर पुल का निर्माण करना एक कल्पना से कम नहीं था लेकिन आने वाले साल तक देश का यह सपना पूरा हो जाएगा. एफिल टावर से 35 मीटर अधिक है इसकी ऊंचाई.

  • News18Hindi
  • Last Updated: January 9, 2020, 3:14 PM IST
  • Share this:
जम्मू. दुनिया का सबसे ऊंचा पुल भारत में बनकर तैयार होने जा रहा है. यह पुल कश्मीर में चिनाब नदी पर बन रहा है. पुल का काम तेजी से चल रहा है, अब तक लगभग 60 प्रतिशत काम पूरा हो चुका है. यह 2021 तक बनकर तैयार हो जाएगा. चिनाब नदी से इसकी ऊंचाई 350 मीटर है. इतनी ऊंचाई पर पुल का निर्माण करना एक कल्पना से कम नहीं था, लेकिन आने वाले साल तक देश का यह सपना पूरा हो जाएगा. इसके बनने के बाद कश्मीर का देश के बाकी हिस्सों से रेल नेटवर्क बेहतर हो जाएगा.

ये है पुल की खासियत
इसका निर्माण सलाल हाईड्रो पावर डैम के पास चिनाब नदी पर हो रहा है. यह प्रोजेक्ट कोंकण रेलवे के पास है. पुल की कुल लंबाई 1315 मीटर है. इसमें सेंसर भी लगाए गए हैं ताकि तेज हवा का पता चल सके. अभी तक दुनिया का सबसे ऊंचा रेलवे पुल बेईपैन नदी पर बना चीन का शुईबाई रेलवे पुल है. इसकी लंबाई 275 मीटर है.

पुल बनाने में आएगा इतना खर्चा



दुनिया के सबसे ऊंचे पुल को बनाने में करीब 1200 करोड़ रुपये की लागत आएगी. इसमें 24 हजार टन इस्पात और करीब 5 हजार टन स्टेनलेस स्टील का उपयोग किया जाएगा. इसको बनाने में जिस तकनीक का उपयोग किया गया है वो तूफान और तेज हवाओं को भी झेल सकता है. -20 डिग्री टेम्परेचर में भी इस पर कोई असर नहीं होगा. यह एक आर्क के आकार का ब्रिज होगा.

2002 में शुरू हुआ था निर्माण कार्य
इस पुल का निर्माण कार्य साल 2002 में शुरू हुआ था लेकिन 2008 में इसे असुरक्षित बताते हुए रोक दिया गया. 2010 से एक बार फिर इसका काम शुरू कर दिया गया. दिसंबर 2021 तक यह बनकर तैयार हो जाएगा. रेलवे के 150 साल के इतिहास में यह सबसे चुनौतीपूर्ण काम है.

ये भी पढ़ें : Railway की खास ट्रेन! कांच की छत वाली इस ट्रेन में बैठकर मजा लें बर्फबारी का

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: January 9, 2020, 1:22 PM IST
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर