Home /News /nation /

World's most powerful rocket: नासा कर रहा सबसे ताकतवर रॉकेट को चांद पर भेजने की तैयारी, फरवरी में जाएगा

World's most powerful rocket: नासा कर रहा सबसे ताकतवर रॉकेट को चांद पर भेजने की तैयारी, फरवरी में जाएगा

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा दुनिया के सबसे ताकतवर रॉकेट से चांद पर एक महिला को भेजने वाली है.

अमेरिकी स्पेस एजेंसी नासा दुनिया के सबसे ताकतवर रॉकेट से चांद पर एक महिला को भेजने वाली है.

World's most powerful rocket: नासा कर रहा सबसे ताकतवर रॉकेट को चांद पर भेजने की तैयारी, फरवरी में जाएगा

World’s most powerful rocket: नासा अपने विशाल स्पेस लॉन्च सिस्टम (एसएलएस) रॉकेट को उड़ान के लिए तैयार कर रहा है. पहली उड़ान जिसे आर्टेमिस-1 कहा जा रहा है, वह बगैर क्रू के उड़ान भरेगी और इस तरह से आर्टेमिस मिशन II, III, IV और V के लिए ज़मीन तैयार की जाएगी. इससे पहले ऐसे कयास लगाए जा रहे थे कि इस मिशन में देरी हो रही है.

दुनिया का सबसे ताकतवर रॉकेट औऱ एकमात्र मशीन जो ओरियन स्पेसक्राफ्ट को चांद पर भेजने में सक्षम है. इसमें दो ठोस रॉकेट बूस्टर और चार RS-25 इंजन हैं जो धरती की कक्षा से परे और चांद की ओर करीब 8.8 मिलियन पाउंड का थ्रस्ट यानी जोर पैदा करते हैं.

एक साथ कई रॉकेट निर्माण पर चल रहा काम
एसएलएस के प्रोग्राम मैनेजर के मुताबिक स्पेस लॉन्च सिस्टम महज एक रॉकेट तैयार नहीं कर रहा है, बल्कि वह एक साथ कई रॉकेट निर्माण पर काम कर रहा है. आर्टेमिस लॉन्च तो महज शुरुआत है. आर्टेमिस-1 इस सीरीज में पहला है जो चंद्रमा पर हमारी उपस्थिति में विस्तार लाएगा.

फरवरी में लांच करने का है लक्ष्य
नासा ने 2020 में कहा था कि उनका फरवरी 2022 में आर्टेमिस-1 को लॉन्च करने का लक्ष्य है. इस रॉकेट में अब तक के स्पेस कार्यक्रम के लिए बनाए गए किसी भी रॉकेट से ज्यादा बड़े, अत्याधुनिक और भरोसेमंद हार्डवेयर का इस्तेमाल किया गया है. एसएलएस और ओरियन ट्रांसपोर्टर -2 क्रॉलर के ऊपर पैड 39 बी लॉन्च करने के लिए यात्रा करेगा. इस विशालकाय रॉकेट के फरवरी में उड़ान भरने की उम्मीद है, टीम जल्दी ही इसकी तारीख तय करेगी.

क्या है आर्टेमिस-1 मिशन
आर्टेमिस-1 मिशन के जरिए दुनिया के सबसे ताकतवर रॉकेट पर स्पेसक्राफ्ट को लॉन्च किया जाएगा. यह इंसानों के बनाए गए किसी भी स्पेसक्राफ्ट से ज्यादा दूर तक उड़ान भरेगा और धरती से करीब 280,000 मील की दूरी तक जाएगा. अपने 4-6 हफ्तों के सफर में यह चंद्रमा से हजारों मील की दूरी तय करेगा. एसएलएस के प्रमुख इंजीनियर जॉन ब्लेविन्स का कहना है कि स्पेस लॉन्च सिस्टम बहुत ही ताकतवर और सक्षम है और इसे सभी बातों को ध्यान में रखकर डिजाइन किया गया है. ताकि बड़े कार्गों, लोगों और सघन अंतरिक्ष की शोध से जुड़े प्रमुख विज्ञान मिशनों के लिए आसानी हो सके. आर्टेमिस मिशन के साथ ही नासा चांद पर पहली महिला को भेजने वाला है.

Tags: Nasa, Science news, Space Science

विज्ञापन
विज्ञापन

राशिभविष्य

मेष

वृषभ

मिथुन

कर्क

सिंह

कन्या

तुला

वृश्चिक

धनु

मकर

कुंभ

मीन

प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
और भी पढ़ें
विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर