खतरनाक हुआ Yaas चक्रवात, ट्रेनें रद्द, 5 राज्यों में NDRF की 115 टीमें तैनात

यास ने अब गंभीर रूप धारण कर लिया है.

यास ने अब गंभीर रूप धारण कर लिया है.

ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक कर स्थितियों का जायजा लिया है. वहीं पश्चिम बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने भी मौसम विभाग के क्षेत्रीय दफ्तर में पहुंचकर स्थितियों की जानकारी हासिल की है. उन्होंने लोगों से अपील की है कि मौसम विभाग की चेतावनी पर गंभीरता से अमल करें.

  • Share this:

नई दिल्ली. Yaas तूफान अब खतरनाक चक्रवात (Severe Cyclonic Storm) में तब्दील हो चुका है. बुधवार को ये तूफान ओडिशा में दस्तक देगा. इस बीच ओडिशा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक (Naveen Patnaik) ने वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से बैठक कर स्थितियों का जायजा लिया है. वहीं पश्चिम बंगाल के गवर्नर जगदीप धनखड़ (Jagdeep Dhankhar) ने भी मौसम विभाग के क्षेत्रीय दफ्तर में पहुंचकर स्थितियों की जानकारी हासिल की है. उन्होंने लोगों से अपील की है कि मौसम विभाग की चेतावनी पर गंभीरता से अमल करें.

यास को लेकर एनडीआरएफ ने भी अपनी तैयारी पूरी कर ली है. पांच राज्यों में एनडीआरएफ की 115 से ज्यादा टीमें तैनात हैं. इसके अलावा 20 टीमों को रिजर्व पर रखा गया है. साइक्लोन के पल पल की जानकारी लेने के लिए एनडीआरएफ ने खास कंट्रोल रूम भी बनाया है जिसके तुरंत हालात के मुताबिक रणनीति बनाई जा रही है. एनडीआरएफ के डायरेक्टर जनरल एसएन प्रधान ने कहा, 'एनडीआरएफ ने जिन टीमों को लगाया है उनमें 52 ओडिशा तो 45 पश्चिम बंगाल में तैनात की गई हैं.'

Youtube Video

कई यात्री ट्रेनें की गईं रद्द, पैसा लौटाएगा रेलवे
वहीं नार्थईस्ट फ्रंटियर रेलवे ने बताया, 'तूफान के मद्देनजर 24 मई से 29 मई तक 38 ट्रेनों को कैंसिल कर दिया गया है. रेलवे यात्रियों के टिकट के पैसे रिफंड कर देगा. इनमें कलकत्ता और दक्षिण जाने वाली ट्रेनें शामिल हैं.'

चक्रवात के दस्तक देने के छह घंटे पहले और बाद तक गंभीर असर

चक्रवाती तूफान ‘यास’ बुधवार सुबह ओडिशा पहुंच सकता है. क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र, भुवनेश्वर के वैज्ञानिक डॉ. उमाशंकर दास के मुताबिक भद्रक में धमरा और चांदबाली के बीच चक्रवात के दस्तक देने का अनुमान है. आईएमडी के महानिदेशक डॉ. मृत्युंजय महापात्र ने बताया कि ‘यास’ के मंगलवार शाम तक बहुत भीषण चक्रवाती तूफान में बदलने की और चांदबाली में सबसे ज्यादा नुकसान की आशंका है. उन्होंने कहा कि चक्रवात के दस्तक देने के छह घंटे पहले और बाद तक इसका गंभीर असर देखने को मिलेगा.



पश्चिम बंगाल ने लगाए हैं फंड को लेकर केंद्र पर आरोप

बता दें तूफान के खिलाफ तैयारियों को लेकर जारी फंड पर भी बवाल शुरू हो चुका है. सोमवार को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार पर आरोप लगाया था कि फंड के आवंटन में भेदभावपूर्ण रवैया अपनाया जा रहा है. उन्होंने आंध्र प्रदेश और ओडिशा को जारी किए गए फंड का हवाला दिया था.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज