कठुआ के सालभर बाद बकरलवाल समुदाय की एक और बच्ची से रेप, कराया गर्भपात

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के रेप और हत्या के सालभर बाद बकरवाल समुदाय की एक अन्य बच्ची के साथ रेप का मामला सामने आया है.

News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 12:26 PM IST
कठुआ के सालभर बाद बकरलवाल समुदाय की एक और बच्ची से रेप, कराया गर्भपात
(सांकेतिक तस्वीर)
News18Hindi
Updated: January 13, 2019, 12:26 PM IST
आकाश हसन

जम्मू-कश्मीर के कठुआ में आठ साल की बच्ची के रेप और हत्या के सालभर बाद बकरवाल समुदाय की एक अन्य बच्ची के साथ रेप का मामला सामने आया है. कश्मीर के रामबन जिले के घुमंतु बकरवाल समुदाय की एक 13 वर्षीय बच्ची खेतों में जानवर चराने गई थी, इसी दौरान उसका रेप हुआ.

13 वर्षीय बच्ची ने डर की वजह से रेप की बात किसी से बताई नहीं. बच्ची ने रेप की बात तब बताई जब उसे पता चला कि वह बीते 3 माह से गर्भवती है. पीड़िता शारीरिक रूप से कमजोर थी जिसके बाद डाक्टरों ने सलाह दी कि अगर उसने गर्भपात नहीं कराया तो जान जोखिम में पड़ सकती है. डॉक्टरों की सलाह के बाद पीड़िता का गर्भपात कराया गया.

पुलिस पर लापरवाही के आरोप
इस मामले में पुलिस कार्रवाई सुस्त होने का आरोप लगाते हुए लोगों ने रामसू इलाके में विरोध प्रदर्शन भी किया था. लोगों का आरोप है कि पुलिस इस मामले की जांच में ढील बरत रही है. प्रदर्शनकारियों का कहना था कि इलाके में रहने वाले मुसलमानों को डराने के लिए बच्ची के साथ रेप किया गया. उनका कहना था कि कठुआ में आठ साल की बच्ची के साथ रेप भी इसी मकसद से किया गया था.



कठुआ केस: बच्ची को खाली पेट खिलाया गया था भांग और नशीली दवाइयां, चार्जशीट में खुलासा
Loading...


बच्ची को मिली जान की धमकी
पीड़िता के पिता ने न्यूज18 से कहा, 'जब मेरी बच्ची जानवरों को चराने गई थी तभी 4-5 लोगों ने उसका रास्ता रोक लिया. बच्ची ने हमें बताया कि उसने बचने की कोशिश की तो लोग उसे बुरी तरह पीटने लगे. उनमें से एक ने उसके साथ तब तक रेप किया जब तक वह बेहोश नहीं हो गई. बच्ची को खुद भी नहीं पता कि उसके साथ कितनी बार रेप हुआ है.'

बच्ची के पिता ने बताया कि बच्ची से आरोपियों ने कहा कि अगर वह इस बारे में किसी को बताएगी तो उसके पूरे परिवार को जान से मार देंगे.

गर्भपात के लिए दवाई
बच्ची के एक रिश्तेदार ने बताया कि लड़की को कुछ दिनों बाद ही पता चला कि वह गर्भवती है. उसने रेप करने वालों में से एक को इस बारे में बताया और उसने बच्ची को गर्भपात की कुछ दवाइयां भी दीं. बच्ची को गांव वालों की मदद से पहले रामबन हॉस्पिटल ले जाया गया जिसके बाद उसे जम्मू हॉस्पिटल में शिफ्ट कर दिया गया.

खतरे में आई बच्ची की जान
जम्मू के डॉक्टरों ने लड़की के परिवार वालों से कहा कि बच्चे को जन्म देने में मुश्किल आ सकती है इसलिए गर्भपात कराना पड़ेगा. न्यूज18 से बातचीत में एक डॉक्टर ने बताया, 'लड़की की हालत बिगड़ गई थी. अगर गर्भपात नहीं कराया जाता तो उसकी मौत भी हो सकती थी.'

मां की शिकायत पर FIR दर्ज
आरोपियों में से एक को एफआईआर के बाद गिरफ्तार कर लिया गया. जब न्यूज18 ने इस मामले में पड़ताल की तो रामबन की एसएसपी अनीता शर्मा ने कहा, 'पीड़ित बच्ची की मां की शिकायत पर हमने एफआईआर 4 जनवरी को दर्ज की थी.'

पुलिस ने बताया, 'लड़की के साथ रेप हुआ है. लेकिन फिलहाल हम यह नहीं कह सकते कि लड़की के साथ गैंगरेप हुआ है. पीड़िता की मां ने केवल एक व्यक्ति के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है.'

जांच के लिए SIT गठित
पुलिस ने इस केस की छानबीन के लिए एक स्पेशल इन्वेस्टिगेशन टीम(एसआईटी) भी गठित की है. पुलिस ने कहा, 'हमने इस मालमे में पीड़िता और उसकी मां का बयान दर्ज कर लिया है. उन्हें घटना कब हुई इसके तारीख की जानकारी नहीं है.'

पुलिस लड़की की वास्तविक उम्र पता लगाने की कोशिश कर रही है. आसपास के लोग इसे पिछले साल कठुआ में हुई दिल दहला देने वाली घटना से जोड़कर देख रहे हैं. बकरवाल समुदाय के लोग काफी डरे हुए हैं.

बकरवाल समुदाय में दहशत का माहौल
पीड़िता के पिता ने कहा, 'हम इस इलाके को छोड़कर जाना चाहते हैं. उन्होंने हमारे घर को नरक बना दिया है. इससे अच्छा यह होता कि वे सभी हमें मार डालते. उन लोगों ने मेरी बच्ची के साथ ऐसा क्यों किया.'

गांव का इकलौता मुस्लिम परिवार
पीड़िता के पड़ोस में रहने वाले एक बकरवाल समुदाय के व्यक्ति ने कहा, 'हम दहशत भरे माहौल में रह रहे हैं. इन इलाकों में हमारे खिलाफ अपराध और घृणा के मामले बढ़ रहे हैं.'

रामबन जम्मू से 120 किलोमीटर की दूरी पर है. श्रीनगर हाइवे भी इसी राह में पड़ता है. पीड़िता का गांव शहर से 15 किमी दूर है. स्थानीय लोगों के मुताबिक गांव में लगभग 30 घर हैं, जिसमें पीड़ित परिवार इकलौता मुस्लिम परिवार है.

मुफ्ती ने जताई चिंता
पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने इस मामले को खून-खराब और परेशान करने वाला बताते हुए कहा कि कुछ नेता अब बलात्कारियों के बचाव में सामने आएंगे. मुफ्ती ने ट्वीट में लिखा- एक ऐसे मामले से ज्यादा खून बहना और परेशान करने वाली बात और क्या हो सकती है, जहां एक 13 साल की नाबालिग लड़की का रामसू में गैंगरेप किया गया और वह 3 महीने की गर्भवती है. सार्वजनिक आक्रोश के बजाय सवाल इस मासूम बच्ची और उसके बलात्कारियों के जाति और धर्म के बारे में घूमेंगे.

एक क्लिक और खबरें खुद चलकर आएंगी आपके पास, सब्सक्राइब करें न्यूज़18 हिंदी  WhatsApp अपडेट्स
Loading...

और भी देखें

पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...