दिल्ली से अचानक बेंगलुरु लौटे येदियुरप्पा, कुमारस्वामी बोले- सरकार गिराने की कोशिश कर रही है BJP

कांग्रेस के ताकतवर मंत्री डीके शिवकुमार और उनके भाई डीके सुरेश के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की जांच शुरू हो गई है.

D P Satish | News18Hindi
Updated: September 8, 2018, 4:24 PM IST
दिल्ली से अचानक बेंगलुरु लौटे येदियुरप्पा, कुमारस्वामी बोले- सरकार गिराने की कोशिश कर रही है BJP
पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा (फ़ाइल फोटो)
D P Satish
D P Satish | News18Hindi
Updated: September 8, 2018, 4:24 PM IST
कर्नाटक में अचानक ही राजनीतिक सरगर्मी तेज हो गई है. अटकलें लगाई जा रही है कि कांग्रेस-जेडीएस के गठबंधन वाली सरकार को गिराने के लिए बीजेपी ने कोशिशें तेज़ कर दी है. ये अटकलें इसलिए भी लगाई जा रही हैं क्योंकि राष्ट्रीय कार्यकारिणी की बैठक में भाग लेने आए कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री और बीजेपी नेता बीएस येदियुरप्पा शनिवार सुबह अचानक ही दिल्ली से  बेंगलुरु लौट गए.

इस बीच येदियुरप्पा ने साफ किया है कि वो किसी परिवारिक इमरजेंसी के चलते अचानक ही दिल्ली से बेंगलुरु लौटे हैं, इसका प्रदेश की राजनीति से कोई लेना देना नहीं है.

दरअसल कांग्रेस विधायक लक्ष्मी हेबालकर और बेलगाम जिले के ताकतवर जर्खिहोली भाइयों के बीच विवाद ने गठबंधन सरकार को मुश्किल में डाल दिया है. ऐसे में बीजेपी को नए समीकरण तलाशने का मौका मिल गया है.

पूर्व मुख्यमंत्री जगदीश शेट्टर ने कहा है कि निश्चित रूप से बीजेपी मौजूदा राजनीतिक हालात का फायदा उठाना चाहेगी.

सत्तारूढ़ गठबंधन की परेशानियां यही खत्म नहीं होती. कांग्रेस के ताकतवर मंत्री डीके शिवकुमार और उनके भाई डीके सुरेश के खिलाफ प्रवर्तन निदेशालय की जांच शुरू हो गई है. डीके सुरेश कांग्रेस के सांसद हैं.

इन दोनों भाइयों ने शनिवार को न्यूज़ 18 को बताया कि सत्ता के लिए बीजेपी बेताब है, ऐसे में वो उन्हें मनी लॉन्ड्रिंग के केस में फंसाना चाहती है. डीके शिवकुमार ने कहा, ''बीजेपी ईडी और आयकर विभागों का इस्तेमाल कर हमें परेशान कर रही है. वे सोचते हैं कि हमें फंसाकर वो सरकार गिरा देंगे. लेकिन ऐसा कभी नहीं होगा. हम लड़ेंगे और सरकार सुरक्षित रहेगी."

न्यूज़ 18 से बातचीत में मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने कहा कि उन्हें बीजेपी की डर्टी ट्रिक्स के बारे में पता है. उन्होंने कहा, "हमने हाल ही में शहरी स्थानीय निकाय चुनावों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है. कांग्रेस और जेडीएस ने 60% से ज्यादा सीटें जीती हैं और 53% से ज्यादा वोट मिले हैं. बीजेपी अब शहरी इलाकों में मजबूत नहीं है. अगर हम सत्ता में बने रहे तो अगले साल लोकसभा चुनाव में भी बीजेपी की हार होगी. यही कारण है कि वे पुरानी रणनीति पर वापस आ गए हैं, लेकिन हम एक बार फिर से लड़ने के लिए तैयार हैं.''
Loading...
क्या है आंकड़ों का खेल?
कर्नाटक विधानसभा कुल सदस्य- 224 (दो सीटें खाली)
सरकार के पास मौजूदा सीटें: 118 (कांग्रेस-79, JDS-36, BSP-1, निर्दलीय- 1)
बीजेपी- 104

ये भी पढ़ें:

बीजेपी की राष्ट्रीय कार्यकारिणी में निकलेगा SC/ST एक्ट पर सवर्णों की नाराजगी दूर करने का फॉर्मूला!
फारूक अब्दुल्ला की चेतावनी- 370 और 35A पर रुख साफ करे केंद्र, वरना चुनावों का करेंगे बायकॉट
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर