लाइव टीवी

छगन भुजबल की वजह से हाईप्रोफाइल सीट बन गई है येवला

News18Hindi
Updated: October 18, 2019, 5:39 PM IST
छगन भुजबल की वजह से हाईप्रोफाइल सीट बन गई है येवला
छगन भुजबल की वजह से हाईप्रोफाइल सीट बन गई है येवला

महाराष्ट्र विधानसभा की कुल 288 सीटों में से एक येवला विधानसभा नासिक जिले में पड़ता है. यवला की महत्ता इस बात से आंकी जा सकती है कि यहां से छगन भुजबल पिछले तीन बार से विधायक चुने गए हैं.

  • News18Hindi
  • Last Updated: October 18, 2019, 5:39 PM IST
  • Share this:
नासिक. महाराष्ट्र विधानसभा में कुल 288 सीटें हैं. उनमें से एक येवला विधानसभा नासिक जिले में पड़ता है. लोकसभा के हिसाब से येवला डिंडोरी लोकसभा क्षेत्र में पड़ता है. डिंडोरी लोकसभा में येवला विधानसभा के अलावा पांच और विधानसभा क्षेत्र हैं जबकि नासिक जिले में यवला सहित कुल 15 विधानसभा सीटें हैं. 

यवला की महत्ता इस बात से आंकी जा सकती है कि यहां से छगन भुजबल पिछले तीन बार से विधायक चुने गए हैं. छगन भुजबल लगातार साल 2004, 2009 और 2014 में नेशनलिस्ट कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) से विधायक रहे हैं जबकि यवला विधानसभा से साल 1995 और 1999 में शिवसेना के कल्याण राव जयवंत राव पाटिल चुनाव जीते थे. 

यवला विधानसभा क्षेत्र से साल 1990 में कांग्रेस के मारूति राव नारायण पवार चुनाव जीते थे लेकिन उसके बाद यहां का प्रतिनिधित्व कांग्रेस के हाथ से निकल गया ..

पिछले तीन चुनाव में यवला विधानसभा सीट के लोगों ने छगन भुजबल पर भरोसा ज़ताया है. साल 2004 में छगन भुजबल ने शिवसेना के कल्याण राव जयवंत राव पाटिल को 35 हजार 649 वोटों से हराया था और दोनों उम्मीदवारों के बीच मत प्रतिशत का अंतर 24.65 फीसदी था.

इसके ठीक बद के चुनाव साल 2009 में  छगन भुजबल एक बार फिर शिवसेना के उम्मीदवार मानिक राव पाटिल पर भारी पड़े और उन्हें 50 हजार से ज्यादा मतों से हरा कर अपनी जीत सुनिश्चित किया .इस चुनाव में मत प्रतिशत का अंतर 29 फीसदी से थोड़ा ज्यादा था.

यवला क्षेत्र से जीत का सिलसिला छगन भुजबल के लिए साल 2014 में भी जारी रहा और इस बार वो अपने प्रतिद्वंदी शंभा जी पवार से 23.96 फीसदी वोटों से आगे रहे. संख्या के आधार पर जीत का अंतर 46 हजार से ज्यादा था.

लेकिन साल 2016 में प्रिवेंशन ऑफ मनी लॉडरिंग एक्ट के तहत छगन भुजबल और उनके भतीजे समीर भुजबल को जेल जाना पड़ा और साल 2018 में उन्हें मुंबई हाईकोर्ट से बेल मिली. 
Loading...

साल 2019 के महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में छगन भुजबल एक बार फिर येवला से अपनी किस्मत आजमाएंगे. येवला सीट से तीन बार से विधायक रहे छगन भुजबल को एनसीपी ने फिर से टिकट दिया है. छगन भुजबल ने येवला सीट से शिवसेना के विजय रथ पर ब्रेक लगाया था. साल 2004, 2009 और 2014 में लगातार जीत हासिल कर छगन भुजबल ने रिकॉर्ड बनाया है.

ये भी पढ़ें:

आसान नहीं है ताऊ देवीलाल का ये रिकॉर्ड तोड़ पाना!

अंबाला कैंट: हरियाणा के तीन लालों के दौर में भी इस विधानसभा सीट पर चला बीजेपी सिक्का!

News18 Hindi पर सबसे पहले Hindi News पढ़ने के लिए हमें यूट्यूब, फेसबुक और ट्विटर पर फॉलो करें. देखिए देश से जुड़ी लेटेस्ट खबरें.

First published: October 18, 2019, 5:38 PM IST
Loading...
पूरी ख़बर पढ़ें अगली ख़बर
Loading...