• Home
  • »
  • News
  • »
  • nation
  • »
  • Yes Bank case : तय समय पर आरोप पत्र दाखिल नहीं कर सकी ED, वधावन बंधुओं को मिली जमानत

Yes Bank case : तय समय पर आरोप पत्र दाखिल नहीं कर सकी ED, वधावन बंधुओं को मिली जमानत

Yes Bank case: ईडी ने तय समय पर आरोप पत्र दाखिल नहीं किया, जिसके कारण कपिल वधावन और धीरज वधावन को कोर्ट से जमानत मिल गई.

Yes Bank case: ईडी ने तय समय पर आरोप पत्र दाखिल नहीं किया, जिसके कारण कपिल वधावन और धीरज वधावन को कोर्ट से जमानत मिल गई.

Yes Bank case: यस बैंक धोखाधड़ी मामले में बॉम्बे हाई कोर्ट (Bombay High Court) से जमानत मिलने के बावजूद दोनों भाई फिलहाल जेल में ही रहेंगे क्योंकि केंद्रीय जांच ब्यूरो (CBI) ने भी इसी मामले में उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है.

  • Share this:
    मुंबई. बॉम्बे हाई कोर्ट ने करोड़ों रुपये के यस बैंक धोखाधड़ी मामले में धन शोधन के आरोपी दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉर्पोरेशन लिमिटेड के प्रवर्तकों कपिल वधावन और धीरज वधावन को जमानत दे दी है. जमानत मिलने के बावजूद दोनों भाई फिलहाल जेल में ही रहेंगे क्योंकि केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआई) ने भी इसी मामले में उनके खिलाफ मामला दर्ज किया है.

    न्यायमूर्ति भारती डांगरे ने वधावन बंधुओं को इस आधार पर जमानत दी कि प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) उनके खिलाफ 60 दिन की अवधि में आरोप पत्र दाखिल नहीं कर पाया है. अदालत ने कहा कि कानून में आरोप पत्र दायर करने के लिए तय अवधि बताई गई है और वह अवधि पूरी होने के बाद आरोपी को एक दिन भी हिरासत में नहीं रखा जा सकता और वह 'स्वाभाविक जमानत' मांग सकता है.

    यदि जांच एजेंसी अभियुक्त के खिलाफ आपराधिक प्रक्रिया संहिता की धारा 167 के तहत निर्धारित अवधि के भीतर आरोप पत्र दायर करने में विफल रहती है, तो अभियुक्त स्वाभाविक जमानत मांग सकता है. कोर्ट ने दोनों आरोपियों को एक-एक लाख का मुचलका भरने और अपना पासपोर्ट जमा कराने के निर्देश दिए.

    इसे भी पढ़ें :- Yes Bank के बाद अब इन 3 बैंकों पर भी गहरा सकता है संकट, जानिए पूरा मामला?

    तय समय पर आरोप पत्र दाखिल नहीं कर सकी जांच एजेंसी
    ईडी की ओर से पेश अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह ने अदालत से दो हफ्ते तक अपने आदेश पर रोक जारी रखने का अनुरोध किया, ताकि एजेंसी उच्चतम न्यायालय में अपील कर सके. हालांकि न्यायमूर्ति डांगरे ने इस अनुरोध को खारिज करते हुए कहा कि जब आरोपी के पास स्वाभाविक जमानत मांगने का अधिकार बचा हो, तब उसे एक दिन भी हिरासत में नहीं रखा जा सकता. आरोपियों ने 60 दिन के नियत वक्त तक ईडी द्वारा आरोप पत्र दाखिल नहीं किए जाने का दावा करते हुए जमानत की मांग की थी.

    इसे भी पढ़ें :- यस बैंक मामले पर राणा कपूर ने कहा- पिछले 13 महीने में जो कुछ हुआ, मुझे उसकी कोई जानकारी नहीं

    14 मई को वधावन भाइयों को किया गया था गिरफ्तार
    ईडी ने धनशोधन मामले में 14 मई को कपिल वधावन और धीरज वधावन को गिरफ्तार किया था. गौरतलब है कि ईडी ने 15 जुलाई को वधावन, यस बैंक के संस्थापक राणा कपूर, उनकी पत्नी बिंदू कपूर, बेटियों रोशनी और रेखा और उनकी चार्टर्ड अकाउंटेंट कंपनी दुलारेश के जैन एंड एसोसिएट के खिलाफ आरोप पत्र दायर किया था.

    पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज