रामदेव ने दिया बड़ा बयान, कहा- संसद में कानून लाकर बने राम मंदिर

रामदेव ने दिया बड़ा बयान, कहा- संसद में कानून लाकर बने राम मंदिर
file photo

सुप्रीम कोर्ट ने गत 29 अक्टूबर को अयोध्या भूमि विवाद मामले में तत्काल सुनवाई किए जाने से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने कहा था कि एक ‘उचित पीठ’ जनवरी में फैसला करेगी कि राजनीतिक रूप से संवेदनशील मामले में कब सुनवाई की जाए.

  • Share this:
योग गुरु रामदेव ने अयोध्या में राम मंदिर बनाए जाने को लेकर शनिवार को एक बड़ा बयान दिया है. उन्होंने कहा  है कि यदि सुप्रीम कोर्ट मामले में जल्द फैसला नहीं देता तो, संसद में कानून लाया जाना चाहिए.

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने गत 29 अक्टूबर को अयोध्या भूमि विवाद मामले में तत्काल सुनवाई किए जाने से इनकार कर दिया था. कोर्ट ने कहा था कि एक ‘उचित पीठ’ जनवरी में फैसला करेगी कि राजनीतिक रूप से संवेदनशील मामले में कब सुनवाई की जाए.

ये भी पढ़ें: VIDEO: योग ही नहीं बाबा रामदेव के पास है 'राम मंदिर', 'तीन तलाक' और 'कश्मीर' का हल



इसके बाद विवादित स्थल पर राम मंदिर निर्माण की मांग तेज होने लगी है. रामदेव ने पतंजलि योग पीठ में दो दिवसीय सम्मेलन से इतर संवाददाताओं से कहा, ‘यदि मामले में शीर्ष अदालत जल्द फैसला नहीं देती है तो लोकतंत्र में संसद सर्वोच्च संस्थान है और कानून लाने में कुछ भी गलत नहीं है. अयोध्या में राम मंदिर नहीं बनेगा तो और क्या बनेगा.’
ये भी पढ़ें: राम मंदिर की सियासत के बीच संत परमहंस से क्यों मिले बाबरी मस्जिद के पक्षकार!

वहीं राम जन्मभूमि न्यास के वरिष्ठ सदस्य डॉ. रामविलास दास वेदांती ने शनिवार को राम मंदिर मामले पर बड़ा बयान दिया है. वेदांती ने पत्रकारों से बातचीत में कहा कि राम मंदिर का निर्माण कार्य दिसंबर से शुरू होगा. उन्होंने कहा कि बिना किसी अध्यादेश के अयोध्या में राम मंदिर का निर्माण होगा. वेदांती ने कहा कि आपसी सहमति से राम मंदिर अयोध्या में और मस्जिद का निर्माण लखनऊ में कराया जाएगा.

ये भी पढ़ें: राम मंदिर निर्माण पर सुप्रीम कोर्ट से नहीं बची कोई उम्मीद: महंत नरेंद्र गिरी
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज