अपना शहर चुनें

States

Bharat Bandh: योगेंद्र यादव ने बताया 8 दिसंबर का प्लान तो कपिल मिश्रा बोले- शाहीन बाग 2

कपिल मिश्रा ने किसान आंदोलन में योगेंद्र यादव के शामिल होने पर उठाए सवाल.
कपिल मिश्रा ने किसान आंदोलन में योगेंद्र यादव के शामिल होने पर उठाए सवाल.

Bharat Bandh: योगेंद्र यादव ने सिंधु बॉर्डर के पास एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि 8 तारीख को सुबह से शाम तक भारत का चक्का जाम रहेगा. इस दौरान दूध, फल और सब्जियों के वाहनों की आवाजाही पर भी पूरी तरह से रोक रहेगी.

  • News18Hindi
  • Last Updated: December 7, 2020, 9:51 AM IST
  • Share this:
नई दिल्ली. केंद्र सरकार के तीन नए कृषि कानून (Farms Law) को खत्म करने की मांग को लेकर किसानों का आंदोलन और तेज होने लगा है. किसानों ने अपनी मांगों को लेकर 8 दिसंबर को बंद (Bharat Bandh) बुलाने का ऐलान किया है. किसानों के इस ऐलान के बाद योगेंद्र यादव (Yogendra Yadav) ने सिंघु बॉर्डर के पास एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुए कहा कि 8 तारीख को सुबह से शाम तक भारत का चक्का जाम रहेगा. इस दौरान दूध, फल और सब्जी पर पूरी तरह से रोक रहेगी. उन्होंने बताया कि शादियों और इमरजेंसी सेवाओं केा इस बंद से दूर रखा गया है. योगेंद्र यादव के इस ऐलान पर भाजपा नेता ​कपिल मिश्रा (Kapil Mishra) ने निशाना साधा है. उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, 'योगेन्द्र यादव किसानों का नेता? ये शाहीन बाग-2 हैं.'

किसान आंदोलन और 8 दिसंबर को बुलाए गए भारत बंद पर बोलते हुए कपिल मिश्रा ने कहा है, किसान आंदोलन करें, धरना करें या बंद करें यह उनके और सरकार के बीच की बात हैं. हम उनके मुद्दों के समाधान की आशा करते हैं. ईश्वर से प्रार्थना करते हैं. हम किसानों के प्रति कृतज्ञ हैं. लेकिन क्या योगेन्द्र यादव किसान हैं, जो दिल्ली की दवाओं, आवश्यक सेवाओं को ठप करने की बात कर रहे हैं? नहीं. क्या नक्सलियों को जेल से छुड़ाने की बात करने वाले लोग किसान हैं? नहीं. क्या आंदोलन में शामिल शाहीन बाग गैंग, सीएम अरविंद केजरीवाल जैसे लोग किसान हैं? नहीं हैं.


इसे भी पढ़ें : कृषि कानूनों के खिलाफ राष्ट्रपति से मिलेंगे शरद पवार, खुद मंत्री रहते हुए कभी ऐसे ही रखे थे प्रस्ताव- रिपोर्ट



बता दें कि कपिल मिश्रा किसानों के आंदोलन के खिलाफ राष्ट्रपति को खत मिल चुके हैं. कपिल मिश्रा ने राष्ट्रपति को पत्र लिखकर दिल्लीवासियों को राहत प्रदान करने के लिए कदम उठाने की अपील की थी. राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को लिखे पत्र में कपिल मिश्रा ने कहा था कि कई राजनीतिक दलों के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली को कई दिनों से बंधक बनाकर रखा हुआ है. सीमा पर किसानों के जमावड़े से दिल्ली के लोगों को काफी दिक्कत का सामना करना पड़ रहा है. किसान आंदोलन से दूध, सब्जियों, ऑक्सीजन सिलेंडरों और दवाइयों की आपूर्ति प्रभावित हुई है.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज