Home /News /nation /

बड़ा बेशकीमती है चांद का यह टुकड़ा, करीब 19 करोड़ रुपये रखी गई है कीमत

बड़ा बेशकीमती है चांद का यह टुकड़ा, करीब 19 करोड़ रुपये रखी गई है कीमत

5-6 जून को घटित होने वाला चंद्र ग्रहण, एक उपछाया चंद्रग्रहण होगा.

5-6 जून को घटित होने वाला चंद्र ग्रहण, एक उपछाया चंद्रग्रहण होगा.

क्रिस्टी के विज्ञान और प्राकृतिक इतिहास के प्रमुख जेम्स ह्य्सलोप ने कहा, 'आपके हाथों में एक दूसरी दुनिया का टुकड़ा रखने का अनुभव कुछ ऐसा है, जिसे आप कभी नहीं भूलेंगे.'

    दुनिया के सबसे बड़े चंद्र उल्कापिंडों में से एक चांद का यह टुकड़ा बिकने के लिए तैयार है. इसका मूल्य 2 मिलियन पाउंड करीब 19 करोड़ रुपये रखा गया है. बताया जा रहा है कि 13.5 किलोग्राम वजन वाली चंद्रमा की यह चट्टान एक क्षुद्रग्रह या धूमकेतु के साथ टकरा गई और टूट कर सहारा रेगिस्तान पर आ गिरी. चंद्रमा के इस टुकड़े NWA 12691 नाम दिया गया है. पृथ्वी पर पाए जाने वाले चंद्रमा का यह पांचवां सबसे बड़ा टुकड़ा माना जा रहा है. पृथ्वी पर आधिकारिक तौर पर कुल 650 किलोग्राम चांद के टुकड़े हैं, जिसमें से NWA 12691 भी एक है.

    क्रिस्टी के विज्ञान और प्राकृतिक इतिहास के प्रमुख जेम्स ह्य्सलोप ने कहा, "आपके हाथों में एक और दुनिया का टुकड़ा रखने का अनुभव कुछ ऐसा है, जिसे आप कभी नहीं भूलेंगे. यह चंद्रमा का एक वास्तविक टुकड़ा है. इसका आकार एक फुटबॉल की तरह है, जो उससे थोड़ा अधिक तिरछा है, और आपके सिर से कुछ बड़ा.'

    खोजे गए कई उल्कापिंडों की तरह, यह सहारा में एक गुमनाम खोजक द्वारा चंद्रमा से पृथ्वी पर लगभग 240,000 मील की यात्रा करने के बाद मिला था. इसके बाद कई हाथों से गुजरने के बाद आज यह क्रिस्‍टी के पास है. संयुक्त राज्य अमेरिका के अपोलो अंतरिक्ष अभियानों द्वारा चंद्रमा से लाए गए रॉक नमूनों के साथ इसकी तुलना करने के बाद वैज्ञानिक इसके बारे में निश्चित हो गए.

    1960 और 1970 के दशक में अपोलो अभियानों द्वारा उनके साथ लगभग 400 किलोग्राम चंद्रमा की चट्टान को लाये थे और वैज्ञानिक उन चट्टानों की रासायनिक रचनाओं का विश्लेषण करने में सक्षम रहे हैं और उन्होंने निर्धारित किया है कि वे उल्का पिंडों से मेल खाते हैं. उन्होंने कहा कि उल्कापिंड अविश्वसनीय रूप से दुर्लभ हैं. जेम्‍स ने कहा कि हम प्राकृतिक इतिहास संग्रहालयों से इसमें अंतरराष्ट्रीय रुचि की उम्मीद कर रहे हैं. यह अंतरिक्ष इतिहास या चंद्र अन्वेषण में रुचि रखने वाले किसी भी व्यक्ति के लिए एक ट्रॉफी है.

    ये भी पढ़ें: धरती के पास से निकल गया एवरेस्‍ट जितना बड़ा एस्‍टेरॉयड, 11 साल बाद फिर लौटेगा

    Tags: Mission Moon, World news

    अगली ख़बर