Assembly Banner 2021

IIT-IIM से लेकर ऑक्सफोर्ड में पढ़े युवा ममता दीदी के लिए बना रहे चुनावी रणनीति

ममता बनर्जी को फिर से सत्‍ता दिलाने के लिए आईपैक की टीम जून-2019 से राज्‍य में काम कर रही है.

ममता बनर्जी को फिर से सत्‍ता दिलाने के लिए आईपैक की टीम जून-2019 से राज्‍य में काम कर रही है.

West Bengal Assembly Elections 2021: ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को पश्चिम बंगाल (West Bengal) में एक बार फिर सत्‍ता दिलाने के लिए आईपैक ने जून-2019 से ही काम करना शुरू कर दिया था. युवाओं की इस टीम ने टीएमसी की रणनीति तैयार की है.

  • News18Hindi
  • Last Updated: March 19, 2021, 7:24 AM IST
  • Share this:
West Bengal Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव (West Bengal Assembly Elections) में ममता बनर्जी (Mamata Banerjee) को एक बार फिर सत्‍ता दिलाने के लिए आईपैक की जो टीम काम कर रही है उसमें ऑक्सफोर्ड, कैम्ब्रिज से लेकर IIT-IIM में पढ़े युवा शामिल हैं. ये युवा न केवल तृणमूल कांग्रेस (TMC) के लिए चुनावी रणनीति बना रहे हैं बल्कि चुनाव में तेजी से हो रहे बदलाव पर भी नजर बनाए हुए हैं. इस टीम में ज्‍यादातर की उम्र 25 साल है और सभी प्रशांत किशोर की टीम का ही हिस्‍सा हैं.

ममता बनर्जी को पश्चिम बंगाल में एक बार फिर सत्‍ता दिलाने के लिए आईपैक ने जून-2019 से ही काम करना शुरू कर दिया था. युवाओं की इस टीम ने टीएमसी की रणनीति तैयार की है. टीएमसी जितने भी कैंपेन चला रही है उसकी सलाह आईपैक ने ही दी है. टीम के कहने पर कई उम्‍मीदवारों का टिकट भी काट दिया गया. टीम काफी समय से राज्‍य में काम कर रही थी और उसने हर उम्‍मीदवार पर नजर बनाई हुई थी. जिस उम्‍मीदवार से मतदाता खुश नहीं दिख रहे थे, उसका टिकट काटने की राय ममता बनर्जी को दी गई थी.

आईपैक के एक सदस्‍य ने बताया, हमारी टीम में हर राज्य से कोई न कोई है. इसके साथ ही अलग-अलग प्रोफेशन के लोग टीम में शामिल हैं. बात चाहे नैनो टेक्नोलॉजी की समझ रखने वालों की हो या फिर कानून के जानकारों की, टीम में हर कोई मौजूद है. टीम के साथ कई सारे पत्रकारिता से जुड़े लोग भी शामिल हैं. ये सभी लोग किसी भी मुद्दे पर अपनी-अपनी राय रखते हैं, जिससे कोई एक अच्‍छा आइडिया निकल पाता है. आईपैक की टीम किसी कंपनी की तरह काम नहीं करती है. यहां पर आने जाने का कोई समय निर्धारित नहीं है बस काम समय पर होना ही चाहिए.
इसे भी पढ़ें :- विधानसभा चुनाव: ममता बनर्जी की भाजपा को चेतावनी, बंगाल जीतने के बाद दिल्ली की ओर कूच करेंगे



हर सीट पर आईपैक के सदस्‍य हैं शामिल
पश्चिम बंगाल में 294 विधानसभा सीट हैं. हर सीट के लिए आईपैक के सदस्‍य चुने गए हैं. हर एक सीट पर तीन से चार सदस्‍य काम कर रहे हैं. हर सीट पर मतदाताओं के रुझान के हिसाब से रणनीति तैयार करना इस टीम का हिस्‍सा है. इसके साथ ही ये टीम सोशल मीडिया कैंपन भी देखती है. जनता से बात कर उम्‍मीदवारों को उसी के मुताबिक काम करने के लिए कहती है. प्रदेश स्‍तर के कैंपेन को विधानसभा क्षेत्र तक पहुंचना इसी टीम का काम होता है. बता दें कि दिल्ली में अरविंद केजरीवाल के रणनीतिकार प्रशांत किशोर ही थे.
अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज