वैक्सीन की बर्बादी नहीं, केंद्र को लौटाई एक लाख रेमडेसिविर दवा, कोरोना मैनेजमेंट में केरल बना नजीर

पिनराई विजयन. (पीटीआई फाइल फोटो)

पिनराई विजयन. (पीटीआई फाइल फोटो)

Kerala Coronavirus Management: केरल सरकार ने केंद्र को रेमडेसिविर की शीशीयां वापस कर दी हैं, ताकि इस दवा को फिर से उन राज्यों के बीच वितरित किया जाए जिन्हें इसकी ज्यादा जरूरत है.

  • Share this:

नई दिल्ली. कोरोना वायरस से निपटने के लिए अपनी प्रबंधन क्षमता को लेकर तारीफें बटोर चुकी केरल सरकार ने इस्तेमाल में नहीं लाई गई रेमडेसिविर की एक लाख शीशी केंद्र सरकार को वापस लौटा दी है. सरकारी सूत्रों ने बुधवार को यह जानकारी दी. सूत्रों ने कहा, 'केरल सरकार ने केंद्र को रेमडेसिविर की शीशीयां वापस कर दी हैं, ताकि इस दवा को फिर से उन राज्यों के बीच वितरित किया जाए जिन्हें इसकी ज्यादा जरूरत है.' केरल की तरफ से यह कदम ऐसे समय में उठाया गया है, जबकि देश के दूसरे हिस्सों में इस दवा की कमी की वजह से अफरातफरी मची हुई है.


पिछले सप्ताह ही दवा की पर्याप्त उपलब्धता सुनिश्चित करने के लिए केंद्र सरकार ने 16 मई तक के लिए रेमडेसिविर का आवंटन किया था. यह फैसला केंद्रीय रसायण व उर्वरक मंत्री सदानंद गौड़ा द्वारा लिया गया था और राज्यों के बीच दवा के आवंटन की योजना को औषधीय विभाग (department of pharmaceuticals) एवं परिवार-कल्याण मंत्रालय ने संयुक्त रूप से तैयार किया था.


Youtube Video

कैंब्रिज यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने कहा, भारत में अब गिरने लगा है कोरोना का ग्राफ


गौड़ा ने आधिकारिक अधिसूचना को साझा करते हुए एक ट्वीट में कहा था, ' केंद्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय द्वारा कोविड-19 उपचार में उपयोगी इंजेक्शन रेमडेसिविर का विपणन करने वाली कंपिनयों को 21 अप्रैल से 16 मई के बीच राज्यों व केन्द्र शासित क्षेत्रों को 53 लाख शीशी दवा उपलब्ध कराने को कहा गया है. कंपनियों को निर्देश दिया गया है कि आपूर्ति योजना के अनुसार सभी राज्यों / केंद्रशासित प्रदेशों को समय पर आपूर्ति सुनिश्चित करें, ताकि किसी भी मरीज को इस महामारी में परेशानी पेश ना आए'.


कोरोना के बाद ब्लैक फंगस की चपेट में महाराष्ट्र, 2000 से अधिक केस, BMC ने बनाई टास्क फोर्स


केन्द्रीय रसायन एवं उर्वरक मंत्रालय ने कहा था कि आपूर्ति योजना के मुताबिक, जायडस कैडिला 21 अप्रैल से 16 मई तक की अवधि के दौरान राज्यों एवं केंद्रशासित प्रदेशों को रेमडेसिविर की कुल 9,82,100 शीशियों की आपूर्ति और हेटेरो 17,17,050 शीशियों की आपूर्ति करेगी. इस अवधि में माइलान को 7,28,000 शीशी और सिप्ला को 7,32,300 शीशियों की आपूर्ति करनी है. बयान में कहा गया था कि इस दौरान राज्यों/केंद्र शासित क्षेत्रों को जुबिलेंट 4,45,700 शीशियों की, सिंजेन/ सन 3,73,000 शीशियों की और डॉ रेड्डीज 3,21,850 शीशियों की आपूर्ति करेगी.





कोविड -19 संक्रमण बढ़ने से रेमडेसिविर की मांग कई गुना बढ़ गई है. सरकार ने रेमडेसिविर बनाने में प्रयुक्त किए जाने वाली कई सामग्रियों पर सीमा शुल्क माफ कर दिया है. रेमडेसिविर की बढ़ती मांग के मद्देनजर, 11 अप्रैल को सरकार ने इस इंजेक्शन और इसमें प्रयुक्त औषधीय रसायनों के निर्यात पर पाबंदी लगा चुकी है. केरल सरकार ने निजी अस्पतालों में कोरोना वायरस के इलाज के लिए दरें भी तय कर दी हैं. इसमें इलाज से संबंधित सभी तरह के चार्ज जैसे रजिस्ट्रेशन और डॉक्टर फी, ऑक्सीजन सिलेंडर और अस्पताल से छुट्टी के बाद होने वाले टेस्ट की दरों को शामिल किया गया है.

अगली ख़बर

फोटो

टॉप स्टोरीज