Home /News /photo /

घाटी में फिर बाढ़ का खौफ

घाटी में फिर बाढ़ का खौफ

जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी ने आम लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। भारी बारिश के बाद झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है जिससे बाढ़ का खतरा दोबारा मंडराने लगा है। घाटी के लोगों को 2014 में आई बाढ़ का पुराना मंजर याद आ गया है।  मौसम विभाग ने आगे भी बारिश का अनुमान जताया है। राहत कर्मी काम पर लग गए हैं, सेना को भी अलर्ट कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने मुख्तार अब्बास नकवी को जम्मू-कश्मीर भेजा है। भारी बारिश के बाद की तस्वीरें देखें, जिसने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है।

जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी ने आम लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। भारी बारिश के बाद झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है जिससे बाढ़ का खतरा दोबारा मंडराने लगा है। घाटी के लोगों को 2014 में आई बाढ़ का पुराना मंजर याद आ गया है। मौसम विभाग ने आगे भी बारिश का अनुमान जताया है। राहत कर्मी काम पर लग गए हैं, सेना को भी अलर्ट कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने मुख्तार अब्बास नकवी को जम्मू-कश्मीर भेजा है। भारी बारिश के बाद की तस्वीरें देखें, जिसने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है।

जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी ने आम लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। भारी बारिश के बाद झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है जिससे बाढ़ का खतरा दोबारा मंडराने लगा है। घाटी के लोगों को 2014 में आई बाढ़ का पुराना मंजर याद आ गया है। मौसम विभाग ने आगे भी बारिश का अनुमान जताया है। राहत कर्मी काम पर लग गए हैं, सेना को भी अलर्ट कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने मुख्तार अब्बास नकवी को जम्मू-कश्मीर भेजा है। भारी बारिश के बाद की तस्वीरें देखें, जिसने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है।

अधिक पढ़ें ...
    जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी ने आम लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। भारी बारिश के बाद झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है जिससे बाढ़ का खतरा दोबारा मंडराने लगा है। घाटी के लोगों को 2014 में आई बाढ़ का पुराना मंजर याद आ गया है।  मौसम विभाग ने आगे भी बारिश का अनुमान जताया है। राहत कर्मी काम पर लग गए हैं, सेना को भी अलर्ट कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने मुख्तार अब्बास नकवी को जम्मू-कश्मीर भेजा है। भारी बारिश के बाद की तस्वीरें देखें, जिसने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है।
    जम्मू-कश्मीर में भारी बारिश और बर्फबारी ने आम लोगों की मुसीबत बढ़ा दी है। भारी बारिश के बाद झेलम नदी खतरे के निशान से ऊपर बह रही है जिससे बाढ़ का खतरा दोबारा मंडराने लगा है। घाटी के लोगों को 2014 में आई बाढ़ का पुराना मंजर याद आ गया है। मौसम विभाग ने आगे भी बारिश का अनुमान जताया है। राहत कर्मी काम पर लग गए हैं, सेना को भी अलर्ट कर दिया गया है। केंद्र सरकार ने मुख्तार अब्बास नकवी को जम्मू-कश्मीर भेजा है। भारी बारिश के बाद की तस्वीरें देखें, जिसने लोगों में खौफ पैदा कर दिया है।
    बाढ़ के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने इलाके में फ्लड अलर्ट जारी कर दिया है। हालात का जायजा लाने के लिए जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद जम्मू से श्रीनगर पहुंचे हालांकि उनके विमान को श्रीनगर एयरपोर्ट पर लैंड करने में काफी मुश्किल हुई। मुफ्ती मोहम्मद सईद ने कहा कि आज सिचुएशन ठीक हो जाएगी। हम जल्द ही सब ठीक कर देंगे। सरकार पीड़ितों को मुआवजा देगी।
    बाढ़ के खतरे को देखते हुए प्रशासन ने इलाके में फ्लड अलर्ट जारी कर दिया है। हालात का जायजा लाने के लिए जम्मू कश्मीर के मुख्यमंत्री मुफ्ती मुहम्मद सईद जम्मू से श्रीनगर पहुंचे हालांकि उनके विमान को श्रीनगर एयरपोर्ट पर लैंड करने में काफी मुश्किल हुई। मुफ्ती मोहम्मद सईद ने कहा कि आज सिचुएशन ठीक हो जाएगी। हम जल्द ही सब ठीक कर देंगे। सरकार पीड़ितों को मुआवजा देगी।
    मौसम विभाग के मुताबिक घाटी के कई इलाकों में अगले एक हफ्ते तक बारिश होने की आशंका है। इसी बीच एनडीआरएफ के डीजी ओपी सिंह ने कहा कि पिछले दो दिनों से काफी बारिश हुई है। लेकिन कुछ घंटों से कोई बारिश नहीं हुई है। आज हम अपनी दो टीम श्रीनगर भेज रहे हैं। 4 टीमों को स्टैंड बाई पर रखा गया है। जम्मू-श्रीनगर हाइवे बंद है इसीलिए हम अपनी टीम को बाई-एयर भेज रहे हैं। हम पूरी तरह से तैयार हैं।
    मौसम विभाग के मुताबिक घाटी के कई इलाकों में अगले एक हफ्ते तक बारिश होने की आशंका है। इसी बीच एनडीआरएफ के डीजी ओपी सिंह ने कहा कि पिछले दो दिनों से काफी बारिश हुई है। लेकिन कुछ घंटों से कोई बारिश नहीं हुई है। आज हम अपनी दो टीम श्रीनगर भेज रहे हैं। 4 टीमों को स्टैंड बाई पर रखा गया है। जम्मू-श्रीनगर हाइवे बंद है इसीलिए हम अपनी टीम को बाई-एयर भेज रहे हैं। हम पूरी तरह से तैयार हैं।
    श्रीनगर के निचल इलाकों के लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है।
    श्रीनगर के निचल इलाकों के लोगों को सतर्क रहने की सलाह दी गई है।
    बच्चों और बुजुर्गों को सुरक्षित स्थानों या कैंप्स में जाने के लिए कहा गया है।
    बच्चों और बुजुर्गों को सुरक्षित स्थानों या कैंप्स में जाने के लिए कहा गया है।
    जहां निचले इलाकों में भारी बारिश जारी है तो वहीं गुलमर्ग, सोनमर्ग और पहलगाम के पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हो रही है। सारे स्कूल बंद कर दिए गए हैं और परीक्षाओं फिलहाल टाल दी गईं हैं।
    जहां निचले इलाकों में भारी बारिश जारी है तो वहीं गुलमर्ग, सोनमर्ग और पहलगाम के पहाड़ी इलाकों में बर्फबारी हो रही है। सारे स्कूल बंद कर दिए गए हैं और परीक्षाओं फिलहाल टाल दी गईं हैं।
    बर्फबारी और लैंड स्लाइड की वजह से जम्मू-कश्मीर हाईवे बंद कर दिया गया है। उधर, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि पीएम पूरी तरह से मदद देने को तैयार हैं। उन्होंने निर्देश दिया है वहां जाकर स्थिति का आकलन करें। लोगों से बात करके शाम तक पीएम को रिपोर्ट देने की  कोशिश करुंगा।
    बर्फबारी और लैंड स्लाइड की वजह से जम्मू-कश्मीर हाईवे बंद कर दिया गया है। उधर, केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नक़वी ने कहा कि पीएम पूरी तरह से मदद देने को तैयार हैं। उन्होंने निर्देश दिया है वहां जाकर स्थिति का आकलन करें। लोगों से बात करके शाम तक पीएम को रिपोर्ट देने की कोशिश करुंगा।
    पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने कहा कि झेलम में पानी खतरे के निशान से ऊपर है। लेकिन सितंबर के मुकाबले हालात अभी काफी बेहतर हैं। अगर बारिश बंद रहती है, बांध नहीं टूटते हैं तो सितंबर जैसे हालात पैदा नहीं होंगे।
    पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने कहा कि झेलम में पानी खतरे के निशान से ऊपर है। लेकिन सितंबर के मुकाबले हालात अभी काफी बेहतर हैं। अगर बारिश बंद रहती है, बांध नहीं टूटते हैं तो सितंबर जैसे हालात पैदा नहीं होंगे।
    जम्मू कश्मीर के बाढ़ नियंत्रण मंत्री अब्दुल माजिद ने कहा कि बारिश रुक-रुक हो रही है। बर्फबारी भी हुई है, जिससे नदी-नालों में पानी का स्तर कम हो सकता है।
    जम्मू कश्मीर के बाढ़ नियंत्रण मंत्री अब्दुल माजिद ने कहा कि बारिश रुक-रुक हो रही है। बर्फबारी भी हुई है, जिससे नदी-नालों में पानी का स्तर कम हो सकता है।
    हालात पर जम्मू-कश्मीर के सीएम मुफ्ती भी नजर बनाए हुए हैं।
    हालात पर जम्मू-कश्मीर के सीएम मुफ्ती भी नजर बनाए हुए हैं।
    बारिश का पानी इकट्ठा हुआ है। इलाकों में बाढ़ का पानी नहीं घुसा है।
    बारिश का पानी इकट्ठा हुआ है। इलाकों में बाढ़ का पानी नहीं घुसा है।
    आर्मी और एनडीआरएफ़ की टीमें भी अलर्ट हैं। अभी आर्मी की ज़रूरत नहीं है, अगर ज़रूरत पड़ी तो उनकी सहायता ली जाएगी। जम्मू मे अभी तक कोई बाढ़ जैसे हालात नहीं है।
    आर्मी और एनडीआरएफ़ की टीमें भी अलर्ट हैं। अभी आर्मी की ज़रूरत नहीं है, अगर ज़रूरत पड़ी तो उनकी सहायता ली जाएगी। जम्मू मे अभी तक कोई बाढ़ जैसे हालात नहीं है।

    Tags: Flood, Jammu

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर