Home /News /photo /

फेसबुक के कैसे-कैसे साइड इफेक्ट!

फेसबुक के कैसे-कैसे साइड इफेक्ट!

दुनियाभर के लोग फेसबुक के दीवाने हैं। ये वेबसाइट दुनिया के एक कोने पर बैठे व्यक्ति को दूसरे कोने पर बैठे व्यक्ति से दोस्ती का मौका देती है और समान विचारों वाले व्यक्तियों को एक मंच मुहैया कराती है लेकिन हजारों खूबियों वाले इस सोशल प्लेटफॉर्म की कुछ खामियां भी हैं।

दुनियाभर के लोग फेसबुक के दीवाने हैं। ये वेबसाइट दुनिया के एक कोने पर बैठे व्यक्ति को दूसरे कोने पर बैठे व्यक्ति से दोस्ती का मौका देती है और समान विचारों वाले व्यक्तियों को एक मंच मुहैया कराती है लेकिन हजारों खूबियों वाले इस सोशल प्लेटफॉर्म की कुछ खामियां भी हैं।

दुनियाभर के लोग फेसबुक के दीवाने हैं। ये वेबसाइट दुनिया के एक कोने पर बैठे व्यक्ति को दूसरे कोने पर बैठे व्यक्ति से दोस्ती का मौका देती है और समान विचारों वाले व्यक्तियों को एक मंच मुहैया कराती है लेकिन हजारों खूबियों वाले इस सोशल प्लेटफॉर्म की कुछ खामियां भी हैं।

अधिक पढ़ें ...
    दुनियाभर के लोग फेसबुक के दीवाने हैं। ये वेबसाइट दुनिया के एक कोने पर बैठे व्यक्ति को दूसरे कोने पर बैठे व्यक्ति से दोस्ती का मौका देती है और समान विचारों वाले व्यक्तियों को एक मंच मुहैया कराती है लेकिन हजारों खूबियों वाले इस सोशल प्लेटफॉर्म की कुछ खामियां भी हैं।
    दुनियाभर के लोग फेसबुक के दीवाने हैं। ये वेबसाइट दुनिया के एक कोने पर बैठे व्यक्ति को दूसरे कोने पर बैठे व्यक्ति से दोस्ती का मौका देती है और समान विचारों वाले व्यक्तियों को एक मंच मुहैया कराती है लेकिन हजारों खूबियों वाले इस सोशल प्लेटफॉर्म की कुछ खामियां भी हैं।
    <b><h5 class= रिश्तों पर असरः अगर आपकी फ्रेंडलिस्ट में हैं आपके करीबी रिश्तेदार और आप उनके फोटो पर लाइक या कमेंट नहीं करते या फिर उन्हें बर्थडे, मैरिज एनिवर्सरी पर विश करना भूल जाते हैं तो ये आपके उससे रिश्ते पर भी असर डाल सकता है। इसी तरह आपका मजाक में किया गया कोई निगेटिव कमेंट भी गलत समझा जा सकता है और रिश्तों में खटास पैदा कर सकता है।
    <b><h5 class= शर्मिंदगी का अहसास: कई बार फेसबुक यूजर अंतरंग तस्वीरें या निजी बातें भावनाओं में बहकर पोस्ट कर देते हैं, जो बाद में शर्मिंदगी का कारण बनती हैं। कई बार पति-पत्नी के झगड़े जैसे बेहद निजी मुद्दे फेसबुक पर जगह पा जाते हैं। फेसबुक पर दिखने वाले अश्लील वीडियो के वायरस वाले लिंक क्लिक करते ही दोस्तों की वॉल पर पोस्ट हो जाते हैं और फजीहत पैदा करते हैं।
    <b><h5 class= अनफ्रेंड होने की कुंठा: फेसबुक में किसी को अनफ्रेंड करना आम है लेकिन कई बार इसका बहुत ही गलत और नेगेटिव असर होता हैं। किसी अपने के द्वारा अनफ्रेंड किए जाने से लोग निराशा, उदासी यहां तक कि डिप्रेशन के भी शिकार हो जाते हैं। आमतौर पर रीयल लाइफ का झगड़ा या मनमुटाव इतना मानसिक असर नहीं डालता है।
    <b><h5 class= अकेलेपन का शिकार: फेसबुक की एक अलग दुनिया होती है और वास्तविक दुनिया की तरह इस दुनिया में भी यूजर अलग-अलग ग्रुपों में बंटे होते हैं। ग्रुप के बाहर के यूजर्स अक्सर बाकियों की अनदेखी का शिकार होते हैं जो उनमें अकेलेपन की भावना भरती है। ऐसे यूजर आगे चलकर खुद को महत्वहीन भी समझने लगते हैं।
    <b><h5 class= ईटिंग डिसऑर्डर: अब फेसबुक पर आकर्षक दिखना है, फोटो को ज्यादा से ज्यादा लाइक चाहिए तो फिगर तो मेंटेन करना होगा। लाइक्स की ये भूख असली भूख पर भारी पड़ती है और खानपान को लेकर जरूरत से ज्यादा सतर्कता ईटिंग डिसऑर्डर पैदा करता है। यह लड़कियों को चिढ़चिढ़ा, गुस्सैल और आत्मकेंद्रित बनाता है।
    <b><h5 class= नशे की लत:फेसबुक पर शेयर सिगरेट, शराब और ड्रग्स के इस्तेमाल वाली तस्वीररें किशोरों को आकर्षित करती हैं। फेसबुक पर इस तरह की तस्वीरें देखकर लड़के-लड़कियां खुद भी सिगरेट और शराब पीने के लिए प्रेरित होते हैं। इसके अलावा कई तरह की शराब को प्रमोट करने वाले गेम भी उन पर असर डालते हैं।
    <b><h5 class= सपनों और कल्पना की दुनिया में: फेसबुक पर 18 से 20 साल के युवा ज्यादा एक्टिव रहते हैं। फेसबुक पर वे जो शेयर करते हैं, वैसी उनकी जिंदगी नहीं रहती। वे एक तरह से कल्पना और सपनों की दुनिया में रहते हैं। हर पोस्‍ट पर लाइक्स और कमेंट्स ऐसे यूजर्स को गलतफहमी का शिकार बनाते हैं। वे अपने सारे इमोशंस और खुशी को लाइक में ही पसंद करते हैं। जबकि रीयल लाइफ में किसी की सहानुभूति उनके लिए कोई मायने नहीं रखती।
    <b><h5 class= नेगेटिव मूड स्प्रेड करता है फेसबुक: फेसबुक यूजर्स के नेगेटिव और सेड मूड को बहुत ही तेजी से सोशल प्लेेटफॉर्म पर स्प्रेड करता है। इसका असर दूसरे लोगों पर भी पड़ता है। लोग पर्सनल लाइफ के सुख को भूलकर उस मूड में एंट्री कर लेते हैं। इसी तरह लाइफ के नेगेटिव फेज में प्रॉब्लम्स को सी‍रीयसली फेज करने की बजाय उसे हल्केे में ले लेते हैं।
    <b><h5 class= सेल्‍फ सेंटर्ड और झूठी पब्लिक इमेज का शिकार: फेसबुक सेल्‍फ सेंटर्ड और झूठी पब्लिक इमेज बनाता है। लड़कियां अक्‍सर इसकी शिकार ज्‍यादा होती हैं और वे अपने आप से बाहर ही निकल नहीं पाती। इसी तरह लड़के अपने बारे में बढ़ा-चढ़ाकर बताने वाले स्टेेटस, झूठी सहायता पहुंचाने जैसी बातों को लोग शेयर करते हैं, जबकि हकीकत दूसरी होती है।
    <b><h5 class= मौत का शोक और दुख भी बदला फेसबुक ने: फेसबुक ने जैसे लाइफ को वर्चुअल बनाया है, वैसे ही मौत के दुख को भी डिजीटल बना दिया है। लोग निजी दुख, मौत के प्रसंग और घटनाओं की तस्वीरें डालते हुए अपने दुख को भी भूल जाते हैं। निजी शोक सभाएं, और यहां तक की अंतिम संस्कार की तस्वीरें फेसबुक पर आती हैं। कई यूजर्स फेसबुक पर सुसाइड की धमकी देते हैं और उसे लाइक्स मिलते हैं, जबकि कई बार इसके परिणाम बहुत ही बुरे मिलते हैं।

    Tags: Facebook

    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर