होम /न्यूज /podcast /

World Diabetes Day Special Podcast: 'शुगर' से क्यूं कड़वा हुआ जीवन का 'स्वाद'

World Diabetes Day Special Podcast: 'शुगर' से क्यूं कड़वा हुआ जीवन का 'स्वाद'

World Diabetes Day : दोस्‍तों, वर्ल्‍ड डायबिटीज डे पर आज हम बात कर रहे हैं डायबिटीज की. दरअसल, भारत में डायबिटीज को लेकर बड़ी अजीब सी स्थिति है. जब तक डायबिटीज हुई नहीं, तब तक हम उसे न केवल बहुत कैजुअली लेते हैं, बल्कि उसे लगातार नजर अंजाद करना शुरू कर देते हैं. ऐसा करने वाले दो तरह के लोग होते हैं, पहले वे जो वाकई खुद में बेहद लापरवाह हैं, उम्र मे 40 का पड़ाव पार करने के बावजूद ये कभी ब्‍लड शुगर की जांच नहीं कराते, वहीं, हाई शुगर होने पर जब इनका शरीर बार-बार संकेत देना शुरू भी कर देता है, तब भी इनकी नींद नहीं टूटती है और इस लापरवाही के नतीजे बेहद गंभीर होते हैं.

अधिक पढ़ें ...

अब जहां तक दूसरे तरह के लोगों की बात है तो इनको यह पता नहीं होता कि डायबिटीज क्‍या है, इसके लक्षण क्‍या हैं, इससे किस तरह के नुकसान हो सकते हैं, हमें बचाव के लिए क्‍या एहतियात बरतना है. लिहाजा, आज के हेल्‍थ पॉडकास्‍ट में हम बता रहे हैं डायबिटीज के वार्निग साइन क्‍या हैं, ऐसे कौन से संकेत या लक्षण हैं जो डायबिटीज होने पर शरीर से मिलने शुरू हो जाते हैं. इसके अलावा, आज हम बात करेंगे कि हमें डायबिटीज की जांच कब करानी चाहिए. कोई भी एक स‍िम्‍टम नजर आते ही हमें डायबिटीज चेक करा लेनी चाहिए या फिर कांबिनेशन ऑफ सिंमट के आने के बाद पैथालॉजी लैब का रुख करना चाहिए.

हमें, डायबिटीज के किन प्रमुख लक्षणों को देखने या महसूस करने के बाद हमें लैब का रुख करना चाहिए. डायबिटीज में हाई ब्‍लड शुगर हाई और लो ब्‍लड शुगर क्‍या हैं, हाईशुगर और लो शुगर में अंतर क्‍या है, इन दोनों के लक्षण क्‍या हैं और ये दोनों एक दूसरे से किस तरह से अलग हैं. हाई या लो ब्‍लड शुगर हमारे शरीर को किस तरह से नुकसान पहुंचा सकते है. वहीं, जो लोग डायबिटीज को नजरअंदाज करते हैं उनके लिए डायबिटीज कितनी खतरनाक बीमारी है. डायबिटीज के ऐसे ही तमाम सवालों का जवाब देने के लिए आज हमारे साथ मौजूद हैं, हमने मैक्स इंस्टीट्यूट ऑफ एंडोक्रिनोलॉजी एंड डायबिटीज के चेयरमैन डॉ अंबरीश मिथल.

आज के हेल्‍थ पॉड कास्‍ट में सुनिए डायबिटीज से जुड़े सवालों पर डॉ. अबरीश मिथल की राय…

Tags: Diabetes, Health, Health Podcast, Health tips, Podcast, Sehat ki baat

विज्ञापन

विज्ञापन

टॉप स्टोरीज

अधिक पढ़ें

अगली ख़बर