Home /News /politics /

करुणानिधि पहुंचे तिहाड़, पिता को देख भावुक हुईं कनिमोड़ी

करुणानिधि पहुंचे तिहाड़, पिता को देख भावुक हुईं कनिमोड़ी

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि ने सोमवार को दिल्ली के तिहाड़ जेल में अपनी बेटी कनिमोड़ी और पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा से मुलाकात की।

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि ने सोमवार को दिल्ली के तिहाड़ जेल में अपनी बेटी कनिमोड़ी और पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा से मुलाकात की।

तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि ने सोमवार को दिल्ली के तिहाड़ जेल में अपनी बेटी कनिमोड़ी और पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा से मुलाकात की।

    नई दिल्ली। तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि ने सोमवार को दिल्ली के तिहाड़ जेल में अपनी बेटी कनिमोड़ी और पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा से मुलाकात की। वहीं दिल्ली हाईकोर्ट ने टेलीकॉम घोटाले में गिरफ्तार 5 कॉरपोरेट दिग्गजों की जमानत याचिका खारिज कर दी। टेलीकॉम घोटाले के तीन और आरोपी कनिमोड़ी, शरद कुमार और करीम मोरानी ने भी निचली अदालत से जमानत रद्द होने के बाद दिल्ली हाईकोर्ट में जमानत की अर्जी दाखिल की है।

    विधानसभा चुनाव में करारी हार के बाद पहली बार डीएमके के मुखिया और तमिलनाडु के पूर्व मुख्यमंत्री करुणानिधि सोमवार को करीब 11 बजे दिल्ली पहुंचे। यहां से वो शाम करीब साढ़े 5 बजे अपनी तीसरी पत्नी और कनिमोड़ी की मां रजतिअम्मा और दामाद अरविंदम के साथ तिहाड़ पहुंचे। वहां उनके और उनकी बेटी कनिमोड़ी के बीच तकरीबन 20 मिनट तक मुलाकात हुई। यही नहीं, उन्होंने जेल में बंद अपने खासमखास पूर्व टेलीकॉम मंत्री ए राजा और कलइगनर टीवी के डायरेक्टर शरद कुमार से भी मुलाकात की। सूत्रों के मुताबिक पिता से मुलाकात के दौरान कनिमोड़ी बेहद भावुक हो गईं और उनके आंखें झलक आईं।

    उधर टेलीकॉम घोटाले में तीन निजी कंपनियों के पांच आरोपी आला अधिकारियों को दिल्ली हाईकोर्ट से भी राहत नहीं मिली। निचली अदालत के बाद हाईकोर्ट ने भी इन सभी की जमानत याचिका खारिज कर दी। वहीं निचली अदालत ने आरोपी सिने युग के मालिक करीम मोरानी की अग्रिम जमानत याचिका करते हुए मंगलवार को अदालत में पेश होने का निर्देश जारी किया। दोनों अदालतों का कहना था कि टेलीकॉम घोटाले का केस बेहद गंभीर है और इस प्रारंभिक स्तर पर किसी भी आरोपी को राहत नहीं दी जा सकती।

    कॉरपोरेट दिग्ग्जों की जमानत याचिका खारिज करते वक्त हाईकोर्ट ने अपने फैसले के दौरान यहां तक कह दिया कि चार्जशीट दाखिल होने के बाद गवाहों की पहचान उजागर हो गई है। इस बात की पूरी संभावना है कि ट्रॉयल के दौरान आरोपी गवाहों पर असर डाल सकते हैं। ऐसे घोटालों से जब देश को नुकसान पहुंचता है तो हर एक नागरिक प्रभावित होता है। इस घोटाले ने सरकारी कार्यप्रणाली पर भी सवाल खड़ा कर दिया है जिससे भारत की अर्थव्यवस्था भी प्रभावित हुई है। गौरतलब है कि 2जी घोटाले में सीबीआई ने स्वान टेलीकॉम, अनिल धीरूभाई अंबानी ग्रुप और यूनिटेक वायरलेस के पांच अधिकारियों को घूस देकर सस्ते दर पर स्पेक्ट्रम आबंटित कराने के आरोप में गिरफ्तार कर रखा है। अदालत के इस फैसले के बाद अब आरोपियों के वकील ऊपरी अदालत का दरवाजा खटखटाएंगे।

    वहीं दूसरी चार्जशीट के आरोपी कनिमोड़ी, शरद कुमार और करीम मोरानी ने भी सोमवार को दिल्ली हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया है। अब देखना ये है कि क्या उन्हें कोर्ट से राहत मिलती है या फिर उन्हें तिहाड़ में कुछ और दिन मेहमान बनकर रहना होगा।

    Tags: 2G scam, CBI

    विज्ञापन
    विज्ञापन

    राशिभविष्य

    मेष

    वृषभ

    मिथुन

    कर्क

    सिंह

    कन्या

    तुला

    वृश्चिक

    धनु

    मकर

    कुंभ

    मीन

    प्रश्न पूछ सकते हैं या अपनी कुंडली बनवा सकते हैं ।
    और भी पढ़ें
    विज्ञापन

    टॉप स्टोरीज

    अधिक पढ़ें

    अगली ख़बर